Tuesday, September 28, 2021
Homeविविध विषयअन्यचक दे इंडिया: ओलंपिक के 60 मिनट और भारतीय महिला हॉकी टीम ने रचा...

चक दे इंडिया: ओलंपिक के 60 मिनट और भारतीय महिला हॉकी टीम ने रचा इतिहास

भारत की महिला हॉकी टीम ने टोक्यो ओलंपिक 2020 में इतिहास रचा है। ये पहली बार है जब महिला टीम सेमीफाइनल्स में पहुँची, वो भी तीन बार की ओलंपिक चैंपियन ऑस्ट्रेलिया को 1-0 से हराकर।

टोक्यो ओलंपिक 2020 के क्वार्टर फाइनल में भारतीय महिला हॉकी टीम ने 1-0 से ऑस्ट्रेलिया को हराकर सेमीफाइनल्स में जगह बना ली है। इतिहास में यह पहली बार हुआ है कि भारतीय महिला हॉकी टीम ने सबको हैरान करते हुए इस तरह जीत हासिल की। वो भी उस ऑस्ट्रेलिया को हराकर जो ओलंपिक में तीन बार गोल्ड जीत चुके हों।

इससे पहले भारतीय महिला टीम का मुकाबला दक्षिण अफ्रीका से हुआ था। टीम ने 4-3 से मैच जीतकर क्वार्टर फाइनल में जगह बनाई थी और आज ऑस्ट्रेलिया पर भी मैच के शुरुआत से दबाव बनाए रखा। अब टीम का अगला मैच अर्जेंटीना से होना है।

बता दें कि टोक्यो ओलंपिक से पहले मॉस्को ओलंपिक 1980 में टीम को चौथा स्थान प्राप्त हुआ था। हालाँकि उस समय फॉरमेट अलग थे और कोई नॉक आउट मैच नहीं होते थे।

सोशल मीडिया पर महिला हॉकी टीम की जीत का जश्न मनाया जा रहा है। टीम के सेमीफाइनल्स में पहुँचने के बाद से ही #hockeyindia ट्रेंड पर है। लोग उस पल की वीडियो धड़ाधड़ शेयर कर रहे हैं जहाँ गुरजीत कौर ने शानदार गोल करते हुए भारत का प्रवेश सेमीफाइनल्स में सुनिश्चित किया।

यूजर्स इतने खुश हैं कि वह तरह-तरह से अपनी खुशी बयान कर रहे हैं। कुछ लोग इस जीत के बाद ‘चक दे इंडिया’ कहकर महिला टीम का हौसला बढ़ा रहे हैं। तो कुछ ‘गो फॉर गोल्ड’ कहकर उन्हें शुभकामनाएँ दे रहे हैं।

द स्किन डॉक्टर नामक ट्विटर यूजर लिखते हैं, “शब्द ये बयां नहीं कर सकते कि ये कितना अच्छा लगता है। ऐसे शख्स के लिए जिसने हमेशा अपने दादाजी से विश्व हॉकी इतिहास में भारतीय वर्चस्व के बारे में सुना हो, लेकिन कभी उन्हें वैसे खेलते हुए न देखा हो। यह बिलकुल ऐसा है जैसे सपना सच हुआ हो। गर्व हो रहा है।”

सलोनी यदुवंशी लिखती हैं, “मैं कल ये सोचकर सोई थी कि आखिर भारत को ऑस्ट्रेलिया कितने मार्जिन से हराएगी? या क्या भारत कुछ फायदा उठा पाएगा? मैं खुश हूँ और हर भारतीय भी। ये बयां नहीं किया जा सकता।”

कुछ यूजर्स इस जीत के बाद भारतीय टीम के कोच और ओडिशा सरकार की सराहना भी कर रहे हैं। एक यूजर लिखता है, “हमारा कोच खुशी से रो रहा है। वह ये डिजर्व करता था। उसने भारतीय महिला टीम को बदल कर रख दिया। ओडिशा सरकार शुक्रिया। ये आपको रिटर्न गिफ्ट है।”

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

महंत नरेंद्र गिरि के मौत के दिन बंद थे कमरे के सामने लगे 15 CCTV कैमरे, सुबूत मिटाने की आशंका: रिपोर्ट्स

पूरा मठ सीसीटीवी की निगरानी में है। यहाँ 43 कैमरे लगाए गए हैं। इनमें से 15 सीसीटीवी कैमरे पहली मंजिल पर महंत नरेंद्र गिरि के कमरे के सामने लगाए गए हैं।

अवैध कब्जे हटाने के लिए नैतिक बल जुटाना सरकारों और उनके नेतृत्व के लिए चुनौती: CM योगी और हिमंता ने पेश की मिसाल

तुष्टिकरण का परिणाम यह है कि देश के बहुत बड़े हिस्से पर अवैध कब्जा हो गया है और उसे हटाना केवल सरकारों के लिए कानून व्यवस्था की चुनौती नहीं बल्कि राष्ट्रीय सभ्यता के लिए भी चुनौती है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
124,823FollowersFollow
410,000SubscribersSubscribe