Wednesday, July 17, 2024
Homeविविध विषयअन्यधोनी और CSK दोनों हुए संघी, टीम जर्सी में भारतीय सेना को दे रहे...

धोनी और CSK दोनों हुए संघी, टीम जर्सी में भारतीय सेना को दे रहे सम्मान: IPL से पहले आरोप लगा रो रहे वामपंथी

चेन्नई सुपरकिंग्स की जर्सी में सेना को सम्मान देने से वामपंथियों के पेट में दर्द होने लगा है। वामपंथी कह रहे कि सेना का सम्मान करना संघ के एजेंडे को बढ़ाना है, इसलिए धोनी का फैन बनना Cancel!

IPL- 2021 के मद्देनजर चेन्नई सुपरकिंग्स के कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने टूर्नामेंट के लिए टीम की नई जर्सी का अनावरण किया है। चेन्नई सुपरकिंग्स फ्रेंचाइजी ने इसका वीडियो इंस्टाग्राम पर पोस्ट किया। इसमें धोनी टीम की जर्सी को अनबॉक्स करते दिखाई दे रहे हैं।

सोशल मीडिया पर लोग इसकी जमकर तारीफ कर रहे हैं, लेकिन टीम की जर्सी में सेना को सम्मान देने से कथित लिबरल वामपंथियों के पेट में दर्द होने लगा है। वामपंथी सीएसके की जर्सी के कंधे पर बने केमोफ्लॉज पर सवाल उठा रहे हैं।

वामपंथी इसे टीम को संघी रंग में रंगने जैसा करार देने से भी नहीं चूक रहे हैं। आपको बता दें कि महेंद्र सिंह धोनी टेरिटोरियल आर्मी में लेफ्टिनेंट कर्नल हैं। CSK टीम की ओर से यह बताया गया कि जर्सी पर यह केमोफ्लॉज सेना के सम्मान में बनाया गया है।

चेन्नई सुपरकिंग्स ने कहा- केमोफ्लॉज सेना के सम्मान के लिए

लिबरल जमात द्वारा जर्सी के संघीकरण के आरोपों के बीच सीएसके ने एक आधिकारिक बयान जारी कर कहा है कि जर्सी का केमोफ्लॉज वाला स्वरूप सशस्त्र बलों के सम्मान के लिए है। इसके ऊपर लगा थ्री स्टार फ्रेंचाइजी का लोगो है।

सीएसके के CEO के विश्वनाथन ने कहा, “हमारे दिमाग में बीते कुछ समय से आ रहा था कि सशस्त्र बलों के स्वार्थ रहित कार्य के लिए कुछ करना चाहिए। केमोफ्लॉज उनकी सेवा के सम्मान के लिए है, क्योंकि वे असली हीरो हैं।”

सेना के सम्मान से लिबरल वामपंथियों के पेट में मरोड़

चेन्नई सुपरकिंग्स की कामोफ्लेज वाली नई जर्सी से लिबरल वामपंथियों के दिक्कत होने लगी है। सोशल मीडिया पर कुछ लोग सीएसके के जाँबाज सैनिकों को सम्मान देने के फैसले पर सवाल उठा रहे हैं। उनके मुताबिक ऐसा करके चेन्नई सुपरकिंग्स राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के एजेंडे को आगे बढ़ा रहा है।

कुछ लिबरल जमाती सोशल मीडिया पर कह रहे हैं कि सीएसके की जर्सी अब राष्ट्रवादी रंग ले चुकी है। इनका आरोप है कि चेन्नई सुपरकिंग्स सॉफ्ट मिलिट्री और संघी दुष्प्रचार को आगे बढ़ा रहा है। वामपंथियों के मुताबिक राष्ट्र के प्रतीकों और सेना का सम्मान करना संघ के एजेंडे को बढ़ाना है।

एक यूजर ने टीम की जर्सी को कोट करते हुए धोनी को संघी बताया और कहा, ‘सीएसके पागल हो गई है। धोनी को बैन कर देना चाहिए।’ एक अन्य यूजर ने ट्विटर पर लिखा, ‘चेन्नई सुपरकिंग्स हमेशा आईपीएल में जहर घोलती है। आर्मी स्ट्रिप्स नहीं चलेगी।’

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

अमेरिकी राजनीति में नहीं थम रहा नस्लवाद और हिंदू घृणा: विवेक रामास्वामी और तुलसी गबार्ड के बाद अब ऊषा चिलुकुरी बनीं नई शिकार

अमेरिका में भारतीय मूल के हिंदू नेताओं को निशाना बनाया जाना कोई नई बात नहीं है। निक्की हेली, विवेक रामास्वामी, तुलसी गबार्ड जैसे मशहूर लोग हिंदूफोबिया झेल चुके हैं।

आज भी फैसले की प्रतीक्षा में कन्हैयालाल का परिवार, नूपुर शर्मा पर भी खतरा; पर ‘सर तन से जुदा’ की नारेबाजी वाले हो गए...

रिपोर्ट में यह भी कहा गया था कि गौहर चिश्ती 17 जून 2022 को उदयपुर भी गया था। वहाँ उसने 'सर कलम करने' के नारे लगवाए थे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -