Wednesday, June 19, 2024
Homeविविध विषयअन्य'पाकिस्तान के प्लेयर्स को हजम नहीं हो रहा तो मैं क्या करूँ': मोहम्मद शमी...

‘पाकिस्तान के प्लेयर्स को हजम नहीं हो रहा तो मैं क्या करूँ’: मोहम्मद शमी ने ‘एक्स्ट्रा लेयर बॉल’ पर धोया, कहा- सुधर जाओ, वसीम अकरम का भी किया जिक्र

"मैं कई दिन से सुने जा रहा था, जब से वर्ल्ड कप चल रहा था। पहले तो मैं खेल नहीं रहा था। जब मैं खेला तो 5 विकेट लिए, नेक्स्ट मैच में 4 विकेट लिए, फिर 5 विकेट लिए। कुछ पाकिस्तान के प्लेयर्स को हजम नहीं हो रही ये बात, अब मैं क्या करूँ?"

क्रिकेट वर्ल्ड कप में सर्वाधिक विकेट लेने वाले भारतीय गेंदबाज मोहम्मद शमी ने पाकिस्तान के बड़बोले खिलाड़ियों को सुधर जाओ का संदेश दिया है। एक इंटरव्यू के दौरान उन्होंने पाकिस्तान के पूर्व क्रिकेटर की मूर्खता पर दुख जताया। उनसे वर्ल्ड कप में भारतीय गेंदबाजों को एक्स्ट्रा लेयर वाली बॉल मिलने के दावे को लेकर सवाल किया गया था।

स्पोर्ट्स फैशन ब्रांड प्यूमा (Puma) के साथ बातचीत में मोहम्मद शमी ने कहा, “मैं कई दिन से सुने जा रहा था, जब से वर्ल्ड कप चल रहा था। पहले तो मैं खेल नहीं रहा था। जब मैं खेला तो 5 विकेट लिए, नेक्स्ट मैच में 4 विकेट लिए, फिर 5 विकेट लिए। कुछ पाकिस्तान के प्लेयर्स को हजम नहीं हो रही ये बात, अब मैं क्या करूँ?”

उन्होंने कहा “उनके (पाकिस्तानी) दिमाग में ये है कि हम बेस्ट हैं, भाई बेस्ट वो होता है जो टाइम पर परफॉर्म करे। मैं उसी को मानता हूँ जो हार्ड वर्क करे, टाइम पर परफॉर्म करे और अपनी टीम के लिए खड़ा रहे। आप उसमें कंट्रोवर्सी बनाए चले जा रहे हो। तुम्हें बॉल कुछ और कलर की मिली, कुछ कम्पनी की बॉल मिल रही है, ICC ने तुम्हें अलग से दे दिया, सुधर जाओ यार, ये क्या है?” आप यह बातचीत नीचे लगे वीडियो में 38 से 45 मिनट के बीच सुन सकते हैं।

दरअसल, वर्ल्ड कप के दौरान मोहम्मद शमी और अन्य भारतीय गेंदबाजों शानदार प्रदर्शन के बाद पाकिस्तान के पूर्व खिलाड़ी हसन रजा ने कहा था कि मोहम्मद शामी, मोहम्मद सिराज या जसप्रीत बुमराह अगर सीम या स्विंग करा पा रहे हैं तो इसकी वजह है उनको दी जाने वाली अलग तरह की गेंद। उनके अनुसार इस अलग तरह की गेंद पर कुछ एक्स्ट्रा लेयर या एक्स्ट्रा कोटिंग की गई थी।

4 मिनट के अपने जवाब में हसन रजा ने कहा कि मोहम्मद शामी, मोहम्मद सिराज या जसप्रीत बुमराह जिस तरह से बॉल फेंक रहे हैं, वो एलन डोनल्ड की याद दिला रहा और इसके पीछे वजह यह है कि इनको अलग तरह की गेंद दी जा रही है। हसन के मुताबिक इसके पीछे अंपायर या ICC या BCCI किसी का भी हाथ हो सकता है।

इस दावे को लेकर सवाल पूछे जाने पर मोहम्मद शमी ने पाकिस्तान के पूर्व गेंदबाज वसीम अकरम का भी जिक्र किया। अकरम ने भी हसन रजा और पाकिस्तानी फैन्स को इन दावों पर फटकार लगाई थी। उन्होंने बताया था कि अंतरराष्ट्रीय मैच में कैसे गेंद का चुनाव होता है।

शमी ने हसन रजा के दावे पर आश्चर्य जताते हुए कहा कि यदि आप खिलाड़ी न हो। इस स्तर पर आपने खेला नहीं हो। फिर इस तरह के दावे समझ भी आते हैं। लेकिन जब आप पूर्व खिलाड़ी होकर ऐसी बातें करेंगे तो मुझे लगता है कि लोग हँसने के अलावा कोई और काम नहीं करेंगे।

साथ ही उन्होंने दूसरों की सफलता को इंजॉय करने की सीख भी दी। उन्होंने कहा, “मैं तो किसी को ब्लेम नहीं करता हूँ, मैं तो दुआ करता हूँ कि और 10 लोग ऐसा प्रदर्शन करें। मुझे तो कभी जलन होती नहीं। यदि आप दूसरे की सफलता को इंजॉय करना सीख लोगे तो मुझे लगता है कि काफी बेहतर खिलाड़ी बनोगे।” शमी ने इंटरव्यू के दौरान पत्नी हसीन जहाँ के साथ विवाद और मानसिक तनाव पर भी बात की। अपनी क्रिकेट यात्रा के बारे में भी बताया। मोहम्मद शमी ने वर्ल्ड कप 2023 में 24 विकेट लिए हैं। उन्हें ICC की टीम में भी शामिल किया गया है।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

डीपफेक वीडियो और ऑनलाइन फेक न्यूज़ पर लगेगी लगाम, ‘मोदी 3.0’ लेकर आ रहा ‘डिजिटल इंडिया बिल’: डेटा प्रोटेक्शन के बाद अब YouTube और...

अमित शाह का वीडियो वायरल कर दिया गया और दावा किया गया कि वो आरक्षण खत्म करने की बात कर रहे हैं। कई हस्तियाँ डीपफेक की शिकार बन चुकी हैं।

कश्मीर को अलग बताने वाली अरुंधति रॉय ने गुजरात दंगों को लेकर भी बोले थे झूठ: एहसान जाफरी की बेटियों से रेप और जिंदा...

साल 2002 के गुजरात दंगों को अरुंधति रॉय ने अपने लेख के जरिए कई तरह के झूठ और भ्रम फैलाने की कोशिश की थी। इसके लिए उन्हें माफी भी माँगनी पड़ी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -