Wednesday, June 26, 2024
Homeविविध विषयअन्यआज भारत दो 'मेड इन इंडिया' COVID-19 टीकों के साथ मानवता को बचाने के...

आज भारत दो ‘मेड इन इंडिया’ COVID-19 टीकों के साथ मानवता को बचाने के लिए तैयार: प्रवासी भारतीय दिवस पर PM मोदी

“भारत के लोकतंत्र पर एक वक्त संदेह प्रकट किया गया था, लेकिन आज भारत ही वह स्थान है जहाँ लोकतंत्र सबसे अधिक मजबूत है और सबसे जीवंत है।”

कोविड-19 महामारी के बीच आयोजित 16वें प्रवासी भारतीय दिवस सम्मेलन का आज (जनवरी 09, 2021) पीएम मोदी ने डिजिटल माध्यम से उद्घाटन किया। इस दौरान पीएम मोदी ने कहा कि आज नई पीढ़ी भले ही जड़ों से दूर हो गई हो, लेकिन उनका जुड़ाव भारत से बरकरार है। 

पीएम मोदी ने कहा, “आज दुनिया के कोने-कोने से हमें भले इंटरनेट से जोड़ा गया है। लेकिन हम सबका मन हमेशा से माँ भारतीय से जुड़ा है, एक दूसरे के प्रति अपनत्व से जुड़ा है।”

प्रधानमंत्री ने कहा कि जब भारत आतंकवाद के सामने खड़ा हुआ, तो दुनिया को भी इस चुनौती से लड़ने का नया साहस मिला। आज भारत भ्रष्टाचार को समाप्त करने के लिए प्रौद्योगिकी का उपयोग कर रहा है। लाखों और करोड़ों की धनराशि सीधे लाभार्थी के खाते में जमा की जा रही है। उन्होंने कहा कि देश के गरीबों को सशक्त बनाने के लिए भारत में चल रहे अभियान की दुनिया भर में चर्चा हो रही है। हमने दिखाया है कि अक्षय ऊर्जा के क्षेत्र में, एक विकासशील देश भी नेतृत्व कर सकता है।

उन्होंने कहा कि दुनिया भर से हजारों साथियों ने ‘भारत को जानिए’ क्विज कॉम्पीटिशन में हिस्सा लिया है। ये संख्या बताती है कि जड़ से भले दूर हो जाएँ, लेकिन नई पीढ़ी का जुड़ाव उतना ही बढ़ रहा है। इस क्विज के 15 विजेता भी आज इस वर्चुअल समारोह से जुड़े हुए है। उन्होंने सभी विजेताओं को इसके लिए बधाई दी।

प्रधानमंत्री ने कहा कि भारत जैसा इतना बड़ा लोकतांत्रिक देश जिस एकजुटता के साथ खड़ा हुआ है, उसकी मिसाल दुनिया में नहीं है। उन्होंने कहा, “भारत के लोकतंत्र पर एक वक्त संदेह प्रकट किया गया था, लेकिन आज भारत ही वह स्थान है जहाँ लोकतंत्र सबसे अधिक मजबूत है और सबसे जीवंत है।”

प्रवासी भारतीय सम्मेलन को संबोधित करते हुए पीएम मोदी ने कहा, “भारत बाहर से पीपीई किट, मास्क, वेंटिलेटर और परीक्षण किट आयात करता था, लेकिन आज हमारा राष्ट्र आत्मनिर्भर है। आज भारत दो ‘मेड इन इंडिया’ COVID-19 टीकों के साथ मानवता को बचाने के लिए तैयार है। कोरोना काल में आज भारत दुनिया के सबसे कम मृत्यु दर और सबसे अधिक रिकवरी रेट वाले देशों में है।”

कोरोना का जिक्र करते हुए पीएम मोदी ने कहा, “बीता साल हम सभी के लिए बहुत चुनौतियों का साल रहा है, लेकिन इन चुनौतियों के बीच विश्व भर में फैले भारतीय मूल के साथियों ने जिस तरह काम किया है, अपना फर्ज निभाया है वो हम सभी के लिए गर्व की बात है। यही तो हमारी मिट्टी के संस्कार हैं। आप सभी ने जहाँ आप रह रहे हैं वहाँ और भारत में कोविड के खिलाफ लड़ाई में बड़ा योगदान किया है। पीएम केयर्स में दिया गया आपका योगदान भारत में स्वास्थ्य सेवाओं को मजबूत कर रहा है।”

प्रधानमंत्री ने कहा, “भारत सरकार हर समय, हर पल आपके साथ, आपके लिए खड़ी है। दुनियाभर में कोरोना लॉकडाउन से विदेशों में फँसे 45 लाख से ज्यादा भारतीयों को वंदे भारत मिशन के तहत लाया गया। विदेशों में भारतीय समुदायों को समय पर सही मदद मिले इसके लिए हर संभव प्रयास किए गए। दुनिया भर में भारतीय समुदाय के साथ बेहतर कनेक्टिविटी के लिए रिश्ता नाम का नया पोर्टल शुरु किया गया है। इस पोर्टल से मुश्किल समय में अपने समुदाय से संपर्क करना, उन तक पहुँचना आसान होगा।”

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘बड़ी संख्या में OBC ने दलितों से किया भेदभाव’: जिस वकील के दिमाग की उपज है राहुल गाँधी वाला ‘छोटा संविधान’, वो SC-ST आरक्षण...

अधिवक्ता गोपाल शंकरनारायणन SC-ST आरक्षण में क्रीमीलेयर लाने के पक्ष में हैं, क्योंकि उनका मानना है कि इस वर्ग का छोटा का अभिजात्य समूह जो वास्तव में पिछड़े व वंचित हैं उन तक लाभ नहीं पहुँचने दे रहा है।

क्या है भारत और बांग्लादेश के बीच का तीस्ता समझौता, क्यों अनदेखी का आरोप लगा रहीं ममता बनर्जी: जानिए केंद्र ने पश्चिम बंगाल की...

इससे पहले यूपीए सरकार के दौरान भारत और बांग्लादेश के बीच तीस्ता के पानी को लेकर लगभग सहमति बन गई थी। इसके अंतर्गत बांग्लादेश को तीस्ता का 37.5% पानी और भारत को 42.5% पानी दिसम्बर से मार्च के बीच मिलना था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -