Wednesday, September 28, 2022
Homeविविध विषयअन्य'अश्लील वीडियो बनाकर सेवादारों ने किया था ब्लैकमेल', पुलिस ने पेश किया 366 पन्नों...

‘अश्लील वीडियो बनाकर सेवादारों ने किया था ब्लैकमेल’, पुलिस ने पेश किया 366 पन्नों का चालान

डॉक्टर द्वारा दी गई दवाई को हाई डोज में दिए जाते थे। जिससे वह तीन-तीन दिन तक बेहोशी की हालत में सोए रहते थे। इसी दौरान पलक और भय्यू महाराज के कई अश्लील तस्वीरें खींची गईं, जिसके बाद...

12 जून 2018 को मध्य प्रदेश के इंदौर में भय्यूजी महाराज की खुदकुशी ने सबको हैरानी में डाल दिया था। सबके भीतर सवाल उठ रहे थे कि आखिर उन्होंने ऐसा क्यों किया? उस दौरान पूरे मामले की जाँच को उनके सुसाइड नोट के भरोसे छोड़ दिया गया था।

लेकिन, अब जाँच के बाद जो तथ्य निकलकर सामने आए हैं, वो बेहद हैरान करने वाले हैं। सोमावार (मार्च 18, 2019) को आज़ाद नगर सीएसपी सुरेंद्र सिंह तोमर ने 366 पेज का चालान कोर्ट में पेश किया। इसके मुताबिक भय्यूजी महाराज ने सुसाइड तो किया था लेकिन अपने तीन सेवादारों से परेशान और उनकी ब्लैकमेलिंग से तंग आकर।

इस चालान में दावा किया गया है कि भय्यूजी ने अपने सेवादार विनायक दुधाले, शरद देशमुख और पलक पुराणिक की ब्लैकमेलिंग से तंग आकर खुदकुशी की। मीडिया में आई खबरों के मुताबिक इस मामले की छानबीन में 125 लोगों से पूछताछ की गई और 28 लोगों के बयान दर्ज हुए। साथ ही 12 चश्मदीदों के दिए बयानों का भी दो से अधिक बार परीक्षण किया गया।

इसी बीच पुलिस ने भय्यूजी महाराज के सेवादारों पलक, विनायक और शरद की चैटिंग की जाँच से पाया कि यह तीनों ही उनकी संपत्ति हासिल करने के लिए 2 साल से उनके साथ रहकर बड़ी साजिश रच रहे थे।

चूँकि भय्यूजी डिप्रेशन की बीमारी से जूझ रहे थे तो ऐसे में ये सेवादार उन्हें डॉक्टर द्वारा दी गई दवाई को हाई डोज में देते थे, जिससे वह तीन-तीन दिन तक बेहोशी की हालत में सोए रहते थे। इसी दौरान पलक और भय्यू महाराज के कई अश्लील तस्वीरें खींची गईं, जिसके बाद उन्हें ब्लैकमेल किया जाने लगा।

ब्लैकमेलिंग से परेशान होकर वह मानसिक रूप से बीमार हो गए। जाँच के आधार पर पुलिस का दावा है कि सुसाइड नोट को सेवादारों ने षड्यंत्र के तहत आत्महत्या करने से पहले लिखवाया था।

खबरों के मुताबिक पलक भय्यू जी के संपर्क में पिछले दो साल से थी और वह उनसे शादी भी करने को इच्छुक थी, लेकिन इस बीच महाराज ने डॉ. आयुषी से शादी कर ली। जिसके बाद पलक ने काफ़ी हंगामा किया और उन्हें 16 जून तक शादी करने का समय दिया था।

भय्यूजी महाराज से यह तीनों सेवादार ₹1.5 लाख महीना लेते थे। इसके अलावा ये लोग महाराज को ब्लैकमेल करके एक करोड़ से ज्यादा राशि पहले ही हड़प चुके थे और साथ ही आश्रम की संपत्ति को हथियाने के लिए तिजोरी और दान में मिलने वाली सामग्री का लेखा-जोखा अपने कब्जे में कर लिया था।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

2047 तक भारत को बनाना था इस्लामी राज्य, गृहयुद्ध के प्लान पर चल रहा था काम: राजस्थान में जातीय संघर्ष भड़का PFI का सरगना...

PFI 'मिशन 2047' की तैयारी में था, अर्थात स्वतंत्रता के 100 वर्ष पूरे होने तक भारत को एक इस्लामी मुल्क में तब्दील कर देना, जहाँ शरिया चले।

बैन लगने के बाद भी PFI को Twitter का ब्लू टिक: भारत और हिंदू-विरोधी रवैया है इस सोशल मीडिया साइट की पहचान, लग चुकी...

देश विरोधी गतिविधियों के कारण सरकार द्वारा प्रतिबंध लगाने के बावजूद ट्विटर कर्नाटक PFI के हैंडल को वैरिफाइड बनाए रखा है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
224,793FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe