Thursday, January 27, 2022
Homeविविध विषयअन्य'लड़कियाँ इस्लामी सिद्धांत ही अपनाएँ, जीवन सफल होगा' - हिंदू आरती पर TV तोड़ने...

‘लड़कियाँ इस्लामी सिद्धांत ही अपनाएँ, जीवन सफल होगा’ – हिंदू आरती पर TV तोड़ने वाले शाहिद अफरीदी के विचार

शाहिद अफरीदी को गर्ल्स कॉलेज बुलाया गया। सोचा होगा कि लड़कियों को वो आकर खेल-कूद में हिस्सा लेने की सलाह देंगे। हुआ उल्टा। अफरीदी ने इस्लाम पर भाषण दे डाला।

पाकिस्तान के एक क्रिकेटर थे। कप्तान भी रहे। नाम – शाहिद अफरीदी। वही शाहिद अफरीदी, जो अब इस्लाम धर्म की राह पकड़ चुके हैं। इन्हें एक कॉलेज में बुलाया गया। कॉलेज लड़कियों का। खेल-कूद की बातों के अलावा खिलाड़ी शाहिद अफरीदी वहाँ सब बोल आए।

चौंक गए! दरअसल खिलाड़ी शाहिद अफरीदी कॉलेज में गए ही नहीं थे। वहाँ गया शख्स शाहिद अफरीदी तो था, लेकिन वो तब्लीगी जमात से जुड़ा शख्स था। वो शख्स जो क्रिकेट को शायद भुला चुका है। अब खबर विस्तार से।

बख्तावर कैडेट कॉलेज फॉर गर्ल्स के प्रिंसिपल ब्रिगेडियर (सेवानिवृत्त) डॉ मुहम्मद अमीन ने शाहिद अफरीदी को बुलाया था। सोचा होगा कि लड़कियों को शायद वो आकर खेल-कूद में हिस्सा लेने की सलाह देंगे। हुआ उल्टा। अफरीदी ने इस्लाम पर भाषण दे डाला।

शाहिद अफरीदी ने कहा कि महिलाओं को इस्लाम में बहुत अधिकार दिए गए हैं। यह भी कह डाला कि लड़कियों को या महिलाओं को इस्लामी सिद्धांत ही अपनाने चाहिए। थोड़ा और व्याख्या कर कहा कि इस्लामी ढाँचे में ही लड़कियों-महिलाओं का जीवन सफल बन सकता है।

तब्लीगी जमात के सदस्य भी अफरीदी के साथ बख्तावर कैडेट कॉलेज फॉर गर्ल्स के दौरे पर गए थे। यानी कि प्रिंसिपल ब्रिगेडियर (सेवानिवृत्त) डॉ मुहम्मद अमीन के बारे में जो शायद (लड़कियों को शायद वो आकर खेल-कूद में हिस्सा लेने की सलाह देंगे) लिखा गया था, वो लिखने वाले की गलती थी। कृपया माफ कीजिएगा।

अब बस एक और बात। अफरीदी की बेटी भारत में टीवी सीरियल देखती थीं। एक दिन अफरीदी ने यह देख लिया। उस समय टीवी पर हिंदू आरती का कुछ सीन चल रहा होगा। छोटी सी बच्ची (जो न मुस्लिम थी, न हिंदू) टीवी सीरियल देख आरती की तरह हाथ घुमा रही थी। बस अफरीदी ने टीवी तोड़ डाला था

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘योगी जैसा मुख्यमंत्री मुलायम सिंह और अखिलेश भी नहीं रहे’: सपा के खिलाफ प्रचार पर बोलीं अपर्णा यादव- ‘पार्टी जो कहेगी करूँगी’

अपर्णा यादव ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की तारीफ करते हुए कहा कि उन्हें मेरा समाजसेवा का काम दिखा था, जबकि अखिलेश यह नहीं देख पाए।

धर्मांतरण के दबाव से मर गई लावण्या, अब पर्दा डाल रही मीडिया: न्यूज मिनट ने पूछा- केवल एक वीडियो में ही कन्वर्जन की बात...

लावण्या की आत्महत्या पर द न्यूज मिनट कहता है कि वॉर्डन ने अधिक काम दे दिया था, जिससे लावण्या पढ़ाई में पिछड़ गई थी और उसने ऐसा किया।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
153,876FollowersFollow
413,000SubscribersSubscribe