Monday, August 15, 2022
Homeविविध विषयअन्यथाइलैंड की कॉलगर्ल का लखनऊ में कोरोना से निधन, एजेंट सलमान की मदद से...

थाइलैंड की कॉलगर्ल का लखनऊ में कोरोना से निधन, एजेंट सलमान की मदद से आई थी इंडिया: यूपी पुलिस को रैकेट की तलाश

पुलिस ने मृतक कॉल गर्ल के परिवार को शव सौंपने के लिए थाईलैंड दूतावास से संपर्क किया। हालाँकि, शव का दावा करने के लिए कोई भी आगे नहीं आया। इसके बाद प्रशासन ने उसे भारत लाने वाले एजेंट की उपस्थिति में ही उसका अंतिम संस्कार करवा दिया। खबरों के अनुसार एजेंट की पहचान एक सलमान के तौर पर हुई है।

कोरोना वायरस के कहर के बीच एक बिजनेसमैन के बेटे के बुलावे पर इंडिया आई थाईलैंड की कॉल गर्ल का कोरोना से निधन हो गया। उसे इलाज के लिए लखनऊ के लोहिया अस्पताल में भर्ती कराया गया था, जहाँ उसने अंतिम साँस ली। व्यवसायी के बेटे द्वारा 7 लाख रुपए खर्च कर उसे भारत लाया गया था। रिपोर्ट के अनुसार, भारत पहुँचने के दो दिन बाद वह बीमार हो गई और 3 मई को निधन हो गया।

पुलिस ने मृतक कॉल गर्ल के परिवार को शव सौंपने के लिए थाईलैंड दूतावास से संपर्क किया। हालाँकि, शव का दावा करने के लिए कोई भी आगे नहीं आया। इसके बाद प्रशासन ने उसे भारत लाने वाले एजेंट की उपस्थिति में ही उसका अंतिम संस्कार करवा दिया। खबरों के अनुसार एजेंट की पहचान एक सलमान के तौर पर हुई है।

इस बीच यूपी पुलिस ने शहर के अंतरराष्ट्रीय सेक्स रैकेट की जाँच शुरू कर दी है। अधिकारी इस बात का पता लगाने की कोशिश कर रहे हैं कि उसके संपर्क में कौन-कौन आया था। पुलिस के अनुसार, वह राजस्थान के एक ट्रैवल एजेंट के संपर्क में थी। ट्रैवल एजेंट ने ही उसे लखनऊ भेजा था।

लखनऊ के बिजनेसमैन के बेटे खुद थाईलैंड दूतावास से संपर्क कर बीमार होने पर उन्हें स्थिति की जानकारी दी थी। इसके बाद ही भारत के विदेश मंत्रालय की मदद से थाईलैंड दूतावास ने उसे अस्पताल में भर्ती कराया।

उत्तर प्रदेश में कोरोना वायरस महामारी की दूसरी लहर का कहर लगातार जारी है। राज्य में वर्तमान में कोविड-19 के 2,54,118 एक्टिव केस हैं।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

Kuldeep Singh
Kuldeep Singh
हिन्दी पत्रकारिता के क्षेत्र में करीब आधे दशक से सक्रिय हूँ। नवभारत, लोकमत और ग्रामसभा मेल जैसे समाचार पत्रों में काम करने के अनुभव के साथ ही न्यूज मोबाइल ऐप वे2न्यूज व मोबाइल न्यूज 24 और अब ऑपइंडिया नया ठिकाना है।

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

वो हिंदुस्तानी जो अभी भी नहीं हैं आजाद: PoJK के लोग देख रहे आशाभरी नजरों से भारत की ओर, हिंदू-सिखों का यहाँ हुआ था...

विभाजन की विभीषिका को भी भुलाया नहीं जा सकता। स्वतंत्रता-प्राप्ति का मूल्य समझकर और स्वतन्त्रता का मूल्य चुकाकर ही हम अपनी स्वतंत्रता को सुरक्षित और संरक्षित कर सकते हैं।

वे नहीं रहे… क्योंकि वे हिन्दू थे: अपनी नवजात बेटी को भी नहीं देख पाए गौ प्रेमी किशन भरवाड

27 वर्षीय हिंदू युवक किशन भरवाड़ को कट्टरपंथी मुस्लिमों ने 25 जनवरी 2022 को केवल हिंदू होने के कारण मार डाला था। वजह वही क्योंकि वे हिन्दू थे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
213,977FollowersFollow
417,000SubscribersSubscribe