Thursday, October 1, 2020
Home विविध विषय अन्य 'उदित राज सिर्फ़ कॉन्ग्रेस अध्यक्ष नहीं, बल्कि विश्व के राष्ट्रपति बन सकते हैं, वे...

‘उदित राज सिर्फ़ कॉन्ग्रेस अध्यक्ष नहीं, बल्कि विश्व के राष्ट्रपति बन सकते हैं, वे गैलेक्सी भी सँभाल सकते हैं’

"आप उदित राज जी को समझे नहीं। वह सीआईडी के दया की तरह हैं, वह जब जी चाहे दरवाजे तोड़ सकते हैं। ये उनकी ताकत है कि जैसे ही #UditRajForCongressPresident ट्रेंड करना शुरू हुआ, सोनिया गाँधी और राहुल गाँधी ने ध्यान इधर-उधर करने के लिए देश छोड़ना जरूरी समझा।"

आउटलुक को दिए साक्षात्कार में कॉन्ग्रेस नेता उदित राज ने बताया कि ‘भाजपा का आईटी सेल’ उनके और पार्टी के बीच में दरार पैदा करने की कोशिश कर रहा है। उन्होंने आरोप लगाया कि ट्विटर पर हैशटैग चलाकर उनसे  माँग की जा रही है कि वह सोनिया गाँधी से उनकी जिम्मेदारियाँ ले लें।

यहाँ ये बात साफ कर दें कि उदित राज जिसे बीजेपी आईटी सेल का बता रहे हैं, वो एक डिजिटल एक्टिविस्ट है और ट्विटर पर @being_humor नाम से है। @being_humor ने ऑपइंडिया की निरवा मेहता से बात करते हुए अपने इस समर्थन की वजह बताई है और ये भी समझाया है कि वह उदित राज को इतना महान क्यों समझते हैं।

डिजिटल एक्टिविस्ट से बातचीत के अंश:

कॉन्ग्रेस से जुड़ने के बाद  #UditRajForCongressPresident सोशल मीडिया पर ट्रेंड कर रहा है। आप इस पर क्या कहेंगे?

यह पार्टी में फेरबदल के बाद नहीं हुआ है। हैशटैग दो हफ्तों से ट्रेंड कर रहा है। पार्टी से जुड़ने के कारण तो बस इसे तूल मिला है। उदित राज के समर्थकों की यह सच्ची माँग है। वह जनता के मुद्दों पर बोलते हैं और न्यायोचित बात करते हुए अपनी माँग करते हैं जो राहुल गाँधी के बयानों में नजर नहीं आता।

आउटलुक को दिए इंटरव्यू में उदित राज ने कहा कि वह जनता के नेता है इसलिए उन्हें निशाना बनाया जा रहा है? आपको लगता है वह जनता के नेता हैं?

#UditRajForCongressPresident और #justiceforuditraj हैशटैग पर 1 लाख से ज्यादा ट्वीट इस बात का सबूत है कि उनके बहुत समर्थक हैं। हालाँकि, फिर भी मैं आपका ध्यान उनकी विशाल छवि पर दिलवाना चाहता हूँ, उनके समर्थक जाति-पाति से हटकर हर वर्ग के हैं। वह खुद को सुनामी (आँधी) कहने की बजाय केवल जनता का नेता बताकर बड़प्पन दिखा रहे हैं। उनकी कुछ तस्वीरें देखें जिनसे उनकी मास अपील का पता लगता है।

क्या आपको लगता है कि आउटलुक के साथ उनका साक्षात्कार एक तरीका था कि कॉन्ग्रेस में उन्हें हाईकमान नोटिस करें?

बिलकुल। अपने एक से ज्यादा जवाबों में उन्होंने न केवल अपने उपर ध्यान आकर्षित करवाने की कोशिश की है, बल्कि कॉन्ग्रेस पर भी हमला बोला है। उन्होंने यह कहकर कि राहुल गाँधी ने अभी उनकी सुनवाई नहीं की, उनका जवाब आना बाकी है, उदित राज ने बड़े ही समझदारी से बताया है कि कॉन्ग्रेस दलितों की सुनवाई नहीं कर रही।यह पूछने पर कि अनुभवी दलित नेता मल्लिकार्जुन खड़गे भी AICC में मुख्य सचिव पद से हट गए। उदित राज ने कहा कि खड़गे अभी भी राज्यसभा सदस्य हैं। इसलिए उनकी बातों को समझिए और आपको पता चलेगा कि उनकी माँग क्या है।

क्या आपको लगता है कि उनकी मौजूदगी के कॉन्ग्रेस में कोई मायने हैं?

कोई फर्क नहीं पड़ता। कॉन्ग्रेस अवसरवादी पार्टी है। उन्होंने भगवान राम की मौजूदगी को नकार दिया था। लेकिन पीएम मोदी ने जब 5 अगस्त को राम जन्मभूमि पूजन किया तो उन्होंने राम मंदिर का क्रेडिट खुद ले लिया। जब कॉन्ग्रेस को उदित राज की ताकत का पता चलेगा, वह उन्हें भी पूजने लगेगी।

आप इसे क्यों ट्रेंड करवा रहे हैं?

मैंने अकेले कुछ नहीं किया। मैंने सिर्फ़ @amit_gujju जी के साथ मिल कर अपनी आवाज उठाई और उदित राज जी के सैकड़ों समर्थकों ने जुड़कर इसे जन आंदोलन बना दिया। ऐसा शायद इसलिए क्योंकि कई लोगों ने कॉन्ग्रेस को दलितों पर राय रखते देखा है और भाजपा पर ये आरोप भी लगाते देखा है कि बीजेपी दलितों को पर्याप्त प्रतिनिधित्व नहीं देती, इसलिए अब वह चाहते हैं कि कॉन्ग्रेस अपनी बातों को चरितार्थ करे।

क्या भाजपा आईटी सेल ने आपसे ऐसा करने को कहा या किसी और ने कहा?

नहीं, मैं दूर से दूर तक भाजपा आईटी सेल से नहीं जुड़ा हुआ हूँ। हालाँकि, अगर कोई अच्छा पैसा देगा, तो मैं उससे जुड़ना चाहूँगा। मुझे उदित राज के कई समर्थकों के संदेश आते हैं। वह सभी लोग अपने महान नेता की सेवा में तैनात होने के लिए तैयार हैं।

आप कॉन्ग्रेस विरोधी लग रहे हैं? लोग आपके ऊपर क्यों विश्वास करेंगे कि आप वाकई उदित राज को समर्थन करते हैं?

मैं कॉन्ग्रेस और उसकी विचारधारा का विरोधी लग सकता हूँ। लेकिन मैं हमेंशा मजबूत राष्ट्रवाद और मजबूत विपक्ष के समर्थन में हूँ, जो कॉन्ग्रेस नहीं है। अब डॉ. उदित राज पर आऊँ तो उनके लिए देश हमेशा राजनीति से ऊपर रहा है और इसे इस तथ्य से साबित किया जा सकता है कि उन्होंने अपनी अपनी बड़ी पार्टी छोड़ कर भाजपा में जाना सही समझा और फिर साल 2019 में जब उन्हें लगा कि राहुल गाँधी अकेले मोदी का कुछ नहीं कर पाएँगे तो उन्होंने इसका भार अपने ऊपर ले लिया, ताकि कॉन्ग्रेस की डूबती नैया को बचा सकें। यानी, उन्होंने पहले भाजपा को सशक्त किया फिर कॉन्ग्रेस में आ गए। मुझे उनमें कॉन्ग्रेस अध्यक्ष बनने का ही नहीं, विश्व राष्ट्रपति बनने का और आकाशगंगा को सँभालने का जज्बा भी दिखता है।

आखिरी बार एक दलित, ‘सीताराम केसरी’ ने कॉन्ग्रेस अध्यक्ष का पद जब सँभाला तो उनके साथ बदसलूकी हुई। क्या आप कहीं भीतर से उदित राज से नफरत तो नहीं करते और उनके साथ बदसलूकी करवाना चाहते हों?

आप उदित राज जी को समझे नहीं। वह सीआईडी के दया की तरह हैं, वह जब जी चाहे दरवाजे तोड़ सकते हैं। ये उनकी ताकत है कि जैसे ही #UditRajForCongressPresident ट्रेंड करना शुरू हुआ, सोनिया गाँधी और राहुल गाँधी ने ध्यान इधर-उधर करने के लिए देश छोड़ना जरूरी समझा।

आप कब तक इस अभियान को चलाएँगे?

हम इसे जल्द तो नहीं रोकेंगे। बल्कि आप कोरोना खत्म होने के बाद जमीनी स्तर पर इसका असर देखेंगे। हम जंतर-मंतर पर अगले 4 साल तक के लिए एक जगह खरीदने की सोच रहे हैं। हम सुनिश्चित करेगें कि ये अभियान समय के साथ और तूल पकड़े ताकि डॉ. उदित राज सिर्फ़ कॉन्ग्रेस अध्यक्ष ही नहीं, बल्कि साल 2024 में पीएम कैंडिडेट भी बनें।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

Nirwa Mehtahttps://medium.com/@nirwamehta
Politically incorrect. Author, Flawed But Fabulous.

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

इंडिया टुडे के राहुल कँवल, हिन्दी नहीं आती कि दिमाग में अजेंडा का कीचड़ भरा हुआ है?

हाथरस के जिलाधिकारी और मृतका के पिता के बीच बातचीत के वीडियो को राहुल कँवल ने शब्दों का हेरफेर कर इस तरह पेश किया है, जैसे उन्हें धमकाया जा रहा हो।

कठुआ कांड की तरह ही मीडिया लिंचिंग की साजिश तो नहीं? 31 साल पहले भी 4 नौजवानों ने इसे भोगा था

जब शोषित समाज के वंचित कहे जाने वाले तबकों से हो और आरोपित तथाकथित ऊँची मानी जाने वाली जातियों से, तो मीडिया लिंचिंग के लिए एक बढ़िया मौका तैयार हो जाता है।

‘हर कोई डिम्पलधारी को गिरने से रोकता रहा, लेकिन बाबा ने डिसाइड कर लिया था कि घास में तैरना है तो कूद गया’

हा​थरस केस पर पॉलिटिक्स करने गए राहुल गाँधी का एक वीडियो के सामने आने के बाद ट्विटर पर 'एक्ट लाइक पप्पू' ट्रेंड करने लगा।

दिल्ली दंगों की चार्जशीट में कपिल मिश्रा ‘व्हिसल ब्लोअर’ नहीं: साजिश से ध्यान हटाने के लिए मीडिया ने गढ़ा झूठा नैरेटिव

दंगों पर दिल्ली पुलिस की चार्जशीट में कपिल मिश्रा को 'व्हिसल ब्लोअर' नहीं बताया गया है। जानिए, मीडिया ने कैसे आपसे सच छिपाया।

‘द वायर’ की परमादरणीया पत्रकार रोहिणी सिंह ने बताया कि रेप पर वैचारिक दोगलापन कैसे दिखाया जाता है

हाथरस में आरोपित की जाति पर जोर देने वाली रोहिणी सिंह जैसी लिबरल, बलरामपुर में दलित से रेप पर चुप हो जाती हैं? क्या जाति की तरह मजहब अहम पहलू नहीं होता?

रात 3 बजे रिया को घर छोड़ने गए थे सुशांत, सुबह फँदे से लटके मिले: डेथ मिस्ट्री में एक और चौंकाने वाला दावा

रिया चकवर्ती का दावा रहा है कि 8 जून के बाद उनका सुशांत से कोई कॉन्टेक्ट नहीं था। लेकिन, अब 13 जून की रात दोनों को साथ देखे जाने की बात कही जा रही है।

प्रचलित ख़बरें

ईशनिंदा में अखिलेश पांडे को 15 साल की सजा, कुरान की ‘झूठी कसम’ खाकर 2 भारतीय मजदूरों ने फँसाया

UAE के कानून के हिसाब से अगर 3 या 3 से अधिक लोग कुरान की कसम खाकर गवाही देते हैं तो आरोप सिद्ध माना जा सकता है। इसी आधार पर...

व्यंग्य: दीपिका के NCB पूछताछ की वीडियो हुई लीक, ऑपइंडिया ने पूरी ट्रांसक्रिप्ट कर दी पब्लिक

"अरे सर! कुछ ले-दे कर सेटल करो न सर। आपको तो पता ही है कि ये सब तो चलता ही है सर!" - दीपिका के साथ चोली-प्लाज्जो पहन कर आए रणवीर ने...

‘हिन्दू राष्ट्र में आपका स्वागत है, बाबरी मस्जिद खुद ही गिर गया था’: कोर्ट के फैसले के बाद लिबरलों का जलना जारी

अयोध्या बाबरी विध्वंस मामले में कोर्ट का फैसला आने के बाद यहाँ हम आपके समक्ष लिबरल गैंग के क्रंदन भरे शब्द पेश कर रहे हैं, आनंद लीजिए।

शाम तक कोई पोस्ट न आए तो समझना गेम ओवर: सुशांत सिंह पर वीडियो बनाने वाले यूट्यूबर को मुंबई पुलिस ने ‘उठाया’

"साहिल चौधरी को कहीं और ले जाया गया। वह बांद्रा के कुर्ला कॉम्प्लेक्स में अपने पिता के साथ थे। अभी उनकी लोकेशन किसी परिजन को नहीं मालूम। मदद कीजिए।"

लड़कियों को भी चाहिए सेक्स, फिर ‘काटजू’ की जगह हर बार ‘कमला’ का ही क्यों होता है रेप?

बलात्कार आरोपित कटघरे में खड़ा और लोग तरस खा रहे... सबके मन में बस यही चल रहा है कि काश इसके पास नौकरी होती तो यह आराम से सेक्स कर पाता!

एंबुलेंस से सप्लाई, गोवा में दीपिका की बॉडी डिटॉक्स: इनसाइडर ने खोल दिए बॉलीवुड ड्रग्स पार्टियों के सारे राज

दीपिका की फिल्म की शूटिंग के वक्त हुई पार्टी में क्या हुआ था? कौन सा बड़ा निर्माता-निर्देशक ड्रग्स पार्टी के लिए अपनी विला देता है? कौन सा स्टार पत्नी के साथ मिल ड्रग्स का धंधा करता है? जानें सब कुछ।

UP: भदोही में 14 साल की दलित बच्ची की सिर कुचलकर हत्या, बिना कपड़ों के शव खेत में मिला

भदोही में दलित नाबालिग की सिर कुचलकर हत्या कर दी गई। शव खेत से बरामद किया गया। परिजनों ने बलात्कार की आशंका जताई है।

इंडिया टुडे के राहुल कँवल, हिन्दी नहीं आती कि दिमाग में अजेंडा का कीचड़ भरा हुआ है?

हाथरस के जिलाधिकारी और मृतका के पिता के बीच बातचीत के वीडियो को राहुल कँवल ने शब्दों का हेरफेर कर इस तरह पेश किया है, जैसे उन्हें धमकाया जा रहा हो।

कठुआ कांड की तरह ही मीडिया लिंचिंग की साजिश तो नहीं? 31 साल पहले भी 4 नौजवानों ने इसे भोगा था

जब शोषित समाज के वंचित कहे जाने वाले तबकों से हो और आरोपित तथाकथित ऊँची मानी जाने वाली जातियों से, तो मीडिया लिंचिंग के लिए एक बढ़िया मौका तैयार हो जाता है।

1000 साल लगे, बाबरी मस्जिद वहीं बनेगी: SDPI नेता तस्लीम रहमानी ने कहा- अयोध्या पर गलत था SC का फैसला

SDPI के सचिव तस्लीम रहमानी ने अयोध्या में फिर से बाबरी मस्जिद बनाने की धमकी दी है। उसने कहा कि बाबरी मस्जिद फिर से बनाई जाएगी, भले ही 1000 साल लगें।

मिलिए, छत्तीसगढ़ के 12वीं पास ‘डॉक्टर’ निहार मलिक से; दवाखाना की आड़ में नर्सिंग होम चला करता था इलाज

मामला छत्तीसगढ़ के बलरामपुर का है। दवा दुकान के पीछे चार बेड का नर्सिंग होम और मरीज देख स्वास्थ्य विभाग की टीम अवाक रह गई।

‘हर कोई डिम्पलधारी को गिरने से रोकता रहा, लेकिन बाबा ने डिसाइड कर लिया था कि घास में तैरना है तो कूद गया’

हा​थरस केस पर पॉलिटिक्स करने गए राहुल गाँधी का एक वीडियो के सामने आने के बाद ट्विटर पर 'एक्ट लाइक पप्पू' ट्रेंड करने लगा।

दिल्ली दंगों की चार्जशीट में कपिल मिश्रा ‘व्हिसल ब्लोअर’ नहीं: साजिश से ध्यान हटाने के लिए मीडिया ने गढ़ा झूठा नैरेटिव

दंगों पर दिल्ली पुलिस की चार्जशीट में कपिल मिश्रा को 'व्हिसल ब्लोअर' नहीं बताया गया है। जानिए, मीडिया ने कैसे आपसे सच छिपाया।

फोरेंसिक रिपोर्ट से रेप की पुष्टि नहीं, जान-बूझकर जातीय हिंसा भड़काने की कोशिश हुई: हाथरस मामले में ADG

एडीजी प्रशांत कुमार ने बताया है कि हाथरस केस में फोरेंसिक रिपोर्ट आ गई है। इससे यौन शोषण की पुष्टि नहीं होती है।

‘द वायर’ की परमादरणीया पत्रकार रोहिणी सिंह ने बताया कि रेप पर वैचारिक दोगलापन कैसे दिखाया जाता है

हाथरस में आरोपित की जाति पर जोर देने वाली रोहिणी सिंह जैसी लिबरल, बलरामपुर में दलित से रेप पर चुप हो जाती हैं? क्या जाति की तरह मजहब अहम पहलू नहीं होता?

रात 3 बजे रिया को घर छोड़ने गए थे सुशांत, सुबह फँदे से लटके मिले: डेथ मिस्ट्री में एक और चौंकाने वाला दावा

रिया चकवर्ती का दावा रहा है कि 8 जून के बाद उनका सुशांत से कोई कॉन्टेक्ट नहीं था। लेकिन, अब 13 जून की रात दोनों को साथ देखे जाने की बात कही जा रही है।

हमसे जुड़ें

267,758FansLike
78,089FollowersFollow
326,000SubscribersSubscribe