Thursday, October 29, 2020
Home विविध विषय अन्य डिग्री को मत बनाएँ कोविड-19 प्रभावित: परीक्षा पर कॉन्ग्रेस, AAP, TMC के लोकलुभावन बयान...

डिग्री को मत बनाएँ कोविड-19 प्रभावित: परीक्षा पर कॉन्ग्रेस, AAP, TMC के लोकलुभावन बयान से गलत संदेश

कॉन्ग्रेस, आम आदमी पार्टी और तृणमूल कॉन्ग्रेस आदि पार्टियों के द्वारा विश्वविद्यालय परीक्षाएँ रद्द करने और बिना परीक्षा के विद्यार्थियों को डिग्री देने के लोकलुभावन बयान से यह गलत संदेश दिया जा रहा है कि डिग्री ऐसे ही प्राप्त हो जाएगी। फिर इन डिग्रियों पर कोविड-19 प्रभावित होने का ठप्पा लगेगा और यह नौकरियों के अवसरों को प्रभावित करेगा।

क्या अंतिम सेमेस्टर की परीक्षाएँ विश्वविद्यालय में रद्द करना राजनीतिक नंबर बनाने का मुद्दा बन गया है? क्या अंतिम सेमेस्टर की परीक्षाएँ कराने या न कराने के फैसले का राजनीतिकरण किया जाना चाहिए?

मूल्यांकन, मूल्यांकन व्यवस्था, परीक्षा और डिग्री की विश्वासनीयता बनाए रखते हुए विद्यार्थियों और शिक्षकों का सर्वाधिक हित किस में है? क्या शिक्षाविदों, यूजीसी, विश्वविद्यालय सांविधिक निकाय और निर्वाचित छात्र निकायों पर इस बारे में सामूहिक रूप से निर्णय लेने के लिए नहीं छोड़ा जा सकता?

क्या यह जरूरी नहीं है कि एक ऐसा हल निकाला जाए जिसमें कि इस महामारी में विद्यार्थी किसी भी तरह के जोखिम और तनाव से बच सकें और उनकी डिग्री भी समाज और संभावित नियोक्ताओं की नजरों में संदेहास्पद ना बने? डिग्री का स्तर न गिरे।

इस मामले में उपर दिए यह ऐसे बुनियादी सवाल हैं, जिन्हें जल्दबाजी में निर्णय लेने से पहले संज्ञान में लेना चाहिए। इस संदर्भ में बहुत से शिक्षकों और विद्यार्थियों की आशंका सही है कि ओपन बुक परीक्षा मूल्यांकन प्रक्रिया के माध्यम से प्राप्त डिग्री से मानकों का स्तर गिरेगा और आगे यह जाकर उनकी नौकरियों के अवसरों को भी प्रभावित करेगा।

विश्वविद्यालय अधिनियम के अनुसार, शिक्षा और परीक्षा के स्तर को बनाए रखना विश्वविद्यालय अनुदान आयोग और विश्वविद्यालयों की जिम्मेदारी है। इसलिए उन्हें किसी भी ऐसे समाधान को अस्वीकृत करना चाहिए जो निर्धारित मापदंडों पर खरा नहीं उतरता हो और विश्वविद्यालय की प्रतिष्ठा व गरिमा के अनुकूल ना हो। ओपन बुक परीक्षा का सुझाव देते हुए यूजीसी ने ऐसी किसी परीक्षा कराने का सुझाव नहीं दिया, जो बिना परीक्षक के संपन्न हो।

शिक्षाविदों के एक वर्ग ने इसे पारदर्शी और निष्पक्ष मूल्यांकन मॉडल माना है, जो अंतिम सेमेस्टर के विद्यार्थियों की डिग्री के स्तर को प्रभावित नहीं करेगा लेकिन यह शिक्षाविद विद्यार्थियों और शिक्षकों के बुनियादी सवालों का उत्तर नहीं दे पा रहे हैं। क्या यह मॉडल नकल, बाहरी हस्तक्षेप, समान अवसर इत्यादि सुनिश्चित करेगा?

उम्मीद है कि दिल्ली विश्वविधालय ने इस बारे में एक याचिका का उत्तर देते हुए दिल्ली उच्च न्यायालय को सम्भावित नकल एवं विद्यार्थियों को समान अधिकार का ध्यान रखने का आश्वासन दिया होगा।

दिल्ली उच्च न्यायालय ने 10 अगस्त से ओपन बुक टेस्ट करवाने का आदेश दिया है। इस मामले में महत्वपूर्ण बिंदु यह है कि विद्यार्थी परीक्षा और मूल्यांकन की किसी भी विश्वसनीय पद्धति से बचना नहीं चाहते। ज्यादातर विद्यार्थी जिन्हें शिक्षकों का समर्थन भी है, वे उन सभी प्रश्न पत्रों/पाठ्यक्रमों का निष्पक्ष मूल्यांकन व प्रत्येक प्रश्नपत्र के ग्रेड प्राप्त करना चाहते हैं, जो उन्होंने अंतिम सेमेस्टर में पढ़े हैं।

हालाँकि, उनकी मूल चिंता यह है कि मूल्यांकन विश्वसनीय पद्धति अपनाकर ही किया जाए और जो डिग्री उन्हें मिले, उस पर कोविड-19 प्रभावित होने का ठप्पा ना लगे। दूसरी ओर, कॉन्ग्रेस, आम आदमी पार्टी और तृणमूल कॉन्ग्रेस आदि पार्टियों के द्वारा विश्वविद्यालय परीक्षाएँ रद्द करने और बिना परीक्षा के विद्यार्थियों को डिग्री देने के लोकलुभावन बयान से यह गलत संदेश दिया जा रहा है कि  डिग्री ऐसे ही प्राप्त हो जाएगी।

ऐसा करने से विद्यार्थियों को फायदा होने की बजाय नुकसान ही अधिक होगा। यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि संकीर्ण राजनीति के कारण विद्यार्थियों के करियर को दाँव पर लगाया जा रहा है। यूजीसी के एक भूतपूर्व चेयरमैन ने कई शिक्षाविदों के साथ मिलकर इस मामले में विश्वविद्यालय अनुदान आयोग के चेयरमैन को पत्र लिखा है। यह विश्वास करना बहुत कठिन है कि इस पत्र में राजनीतिक रूप से प्रेरित चिंता नहीं है।

ऐसा इसलिए, क्योंकि क्योंकि यूजीसी में इन पूर्व चेयरमैन के कार्यकाल में ही अनेक छात्र और शिक्षक विरोधी निर्णय जैसे- सेमेस्टर सिस्टम, विनाशकारी एपीआई, पीबीएएस व्यवस्था आदि को शिक्षा सुधार के नाम पर सरकारी नीति का अनुसरण करके बिना विरोध कॉलेजों और महाविद्यालयों पर लाद दिया गया था।

विश्वविद्यालय अनुदान आयोग अभी भी अंतिम सेमेस्टर एग्जाम पर हुई राजनीति से किए गए नुकसान की भरपाई कर सकती है और एक विश्वसनीय मूल्यांकन पद्धति अपनाकर अंतिम सेमेस्टर के विद्यार्थियों का परिणाम घोषित कर सकती है।

एक सर्वोत्तम उपाय आंतरिक मूल्यांकन अपनाना है और पिछले सेमेस्टर के सर्वोत्तम रिजल्ट का समायोजन करके ऐसा किया जा सकता है। जैसा इंटरमीडिएट सेमेस्टर के लिए कई विश्वविद्यालय ने किया भी है।

कॉलजों और विश्वविद्यालयों में अपनाई जा रही सीबीसीएस प्रणाली के अनुसार सभी सेमेस्टर का समान महत्व है। तब यह विश्वसनीय उपाय अंतिम सेमेस्टर में भी लगाया जाना चाहिए। प्रत्येक पाठ्यक्रम/प्रश्नपत्र के ग्रेड अंक तालिका में दर्शाए जाने चाहिए।

साथ ही अंत में सीजीपीए के लिए उसे गिना जाए क्योंकि विद्यार्थियों ने अपने पाठ्यक्रम/प्रश्न पत्र को पूरा किया है और उन्होंने व्यावहारिक परीक्षा, कक्षा परीक्षा देने के साथ अपने असाइनमेंट भी जमा कराए हैं।

कई विद्वानों के हिसाब से परीक्षा-विहीन ऑनलाइन ओपन बुक एग्जाम की तुलना में यह आंतरिक मूल्यांकन का प्रस्ताव अधिक तीव्रगामी, विश्वसनीय और महामारी  में विद्यार्थियों को सुरक्षित रखने के साथ ही उन्हें तनाव से राहत प्रदान करने वाला भी है।

किसी को भी हमारे विद्यार्थियों के साथ राजनीति करने या परीक्षा के नाम पर खिलवाड़ करने की इजाजत नहीं दी जानी चाहिए। वर्तमान स्थिति में यदि अपेक्षित सावधानी नहीं बरती गईं तो इन विद्यार्थियों की डिग्री पर प्रश्नचिन्ह लगने के साथ-साथ आगे चलकर इनकी डिग्री को कोविड-19 प्रभावित डिग्री कहे जाने का भी खतरा है।

महामारी की चुनौतियों और छात्रों के संपूर्ण हितों को ध्यान में रखते हुए विश्वविद्यालय अनुदान आयोग, विश्वविद्यालय एवं राज्य सरकारों को अपनी परीक्षा व्यवस्था का अवमूल्यन करने वाली घोषणा करने की बजाय उन्हें प्रत्येक प्रश्न पत्र की तार्किक, विश्वसनीयता संचालित, पवित्र मूल्यांकन पद्धति की घोषणा करनी चाहिए।

यह नहीं भूलना चाहिए कि इन विद्यार्थियों ने अंतिम सेमेस्टर को समय दिया है। विद्यार्थियों ने अंतिम सेमेस्टर में सभी प्रश्न पत्रों का अध्ययन किया है और स्वयं को मूल्यांकन के लिए तैयार किया है।भूल से भी ऐसे संकेत न दिए जाएँ कि डिग्री देते समय अकादमिक मापदंडों और मूल्यांकन पद्धति से समझौता किया गया है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

डॉक्टर अजय भागी
प्राध्यापक, दयाल सिंह महाविद्यालय, दिल्ली विशवविद्यालय ।अध्यक्ष, नेशनल डेमक्रेटिक टीचर्स फ्रंट

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

अर्नब पर कानूनी, आर्थिक, मानसिक रूप से अटैक के लिए दाउद कर रहा प्रबंध, हो सकता है शारीरिक हमला: पूर्व ब्यूरोक्रेट RVS मणि

मुंबई अंडरवर्ल्ड द्वारा संगठित क्रिमिनल सिंडिकेट की गलत नब्ज को छुआ है जिसे वैश्विक स्तर पर ड्रग सरगना और आतंकी दाऊद इब्राहिम, कई राजनेताओं, ड्रग व बॉलीवुड नेक्सस द्वारा संचालित किया जाता है।

मुंबई पुलिस कमिश्नर परमबीर सिंह ने मुझे पोर्न दिखाया, गंदे सवाल किए, अंगों को ले कर अश्लील गालियाँ दी: साध्वी प्रज्ञा

भगवा आतंक के नाम पर पुलिस बर्बरता झेल चुकी साध्वी प्रज्ञा का कहना है कि जब जब उनकी बेल की बात चली तो न्यायाधीशों तक को धमकी देने का काम हुआ।

पिता MP, पति DM, खुद SP: मुंगेर की ‘जनरल डायर’, जिस पर लगा था पुलिस के काम के लिए नेता की गाड़ी के इस्तेमाल...

अगस्त 2019 में लिपि सिंह पर आरोप लगा था कि वो दिल्ली के साकेत कोर्ट में अनंत सिंह के लिए जब ट्रांजिट रिमांड लेने गई थीं, तो उन्होंने जदयू नेता की गाड़ी का इस्तेमाल किया था।

सरकारी बूटों तले रौंदी गई हिन्दुओं की परम्परा, गोलियाँ चलीं, कहारों के कंधों के बजाय ट्रैक्टर, जेसीबी से हुआ विसर्जन

इस बार परम्पराओं और मान्यताओं को सरकारी बूटों तले रौंदने के बाद बिना आरती इत्यादि के ही दूसरी देवियों के बाद बड़ी दुर्गा को विसर्जित किया गया।

अलवर: मेम चंद को बनाया मोहम्मद अनस, फिर दी जान से मारने की धमकी- दलित परिवार पहुँचा कोर्ट

मेम चंद ने आरोप लगाया कि 15 अन्य लोग उनका जबरन धर्म परिवर्तन कराने के लिए उन्हें हरियाणा ले गए। वहाँ उनका खतना भी कराया गया। उसके बाद रहने के लिए जमीन दी।

छत्तीसगढ़: माँ दुर्गा की प्रतिमा विसर्जन में कलीम खान के नेतृत्व में पुलिस ने श्रद्धालुओं को दौड़ा-दौड़ा कर पीटा

भक्तों के लाख गुहार लगाने के बावजूद पुलिस ने डीजे गाड़ी नहीं छोड़ी। इससे श्रद्धालु आक्रोशित हो गए और उनकी पुलिस के साथ कहासुनी शुरू हो गई।

प्रचलित ख़बरें

मुंगेर: वरिष्ठ महिला IPS अधिकारी ने SP लिपि सिंह को याद दिलाए नियम, कहा- चेतावनी व आँसू गैस का था विकल्प

वरिष्ठ महिला IPS अधिकारी ने नियम समझाते हुए कहा कि पुलिस को गोली चलाने से पहले चेतावनी देनी चाहिए, या फिर आँसू गैस के गोलों का इस्तेमाल करना चाहिए।

पिता MP, पति DM, खुद SP: मुंगेर की ‘जनरल डायर’, जिस पर लगा था पुलिस के काम के लिए नेता की गाड़ी के इस्तेमाल...

अगस्त 2019 में लिपि सिंह पर आरोप लगा था कि वो दिल्ली के साकेत कोर्ट में अनंत सिंह के लिए जब ट्रांजिट रिमांड लेने गई थीं, तो उन्होंने जदयू नेता की गाड़ी का इस्तेमाल किया था।

‘हमारा मजहब कबूल कर के मेरे बेटे की हो जाओ’: तौसीफ की अम्मी ने भी बनाया था निकिता पर धर्म परिवर्तन का दबाव

"तुम हमारा मजहब कबूल कर लो और मेरे बेटे की हो जाओ। अब तुमसे कौन शादी करेगा। तुम्हारा अपहरण भी हो गया है और अब तुम्हारा क्या होगा।"

मुंबई पुलिस कमिश्नर परमबीर सिंह ने मुझे पोर्न दिखाया, गंदे सवाल किए, अंगों को ले कर अश्लील गालियाँ दी: साध्वी प्रज्ञा

भगवा आतंक के नाम पर पुलिस बर्बरता झेल चुकी साध्वी प्रज्ञा का कहना है कि जब जब उनकी बेल की बात चली तो न्यायाधीशों तक को धमकी देने का काम हुआ।

मुंगेर हत्याकांड: एसपी लिपि सिंह के निलंबन की खबरों के बीच मुंगेर पुलिस की ‘ट्विटर आईडी’ रातों-रात डीएक्टिवेट

अलग-अलग स्रोतों से आ रही खबरों के अनुसार चार लोगों के मरने की खबरें भी आ रही हैं, जबकि आधिकारिक तौर पर एक की ही मृत्यु बताई गई है।

दोहा एयरपोर्ट पर महिला यात्रियों की उतरवाई गई पैंट, प्राइवेट पार्ट्स छूकर जाँच करने के आदेश से विवाद

दोहा एयरपोर्ट पर महिला यात्रियों से पैंट उतारकर उनके प्राइवेट पार्ट्स की जाँच का आदेश दिया गया। उनसे कहा गया कि उनकी योनि छूकर जाँच की जाएगी।
- विज्ञापन -

अर्नब पर कानूनी, आर्थिक, मानसिक रूप से अटैक के लिए दाउद कर रहा प्रबंध, हो सकता है शारीरिक हमला: पूर्व ब्यूरोक्रेट RVS मणि

मुंबई अंडरवर्ल्ड द्वारा संगठित क्रिमिनल सिंडिकेट की गलत नब्ज को छुआ है जिसे वैश्विक स्तर पर ड्रग सरगना और आतंकी दाऊद इब्राहिम, कई राजनेताओं, ड्रग व बॉलीवुड नेक्सस द्वारा संचालित किया जाता है।

मुंबई पुलिस कमिश्नर परमबीर सिंह ने मुझे पोर्न दिखाया, गंदे सवाल किए, अंगों को ले कर अश्लील गालियाँ दी: साध्वी प्रज्ञा

भगवा आतंक के नाम पर पुलिस बर्बरता झेल चुकी साध्वी प्रज्ञा का कहना है कि जब जब उनकी बेल की बात चली तो न्यायाधीशों तक को धमकी देने का काम हुआ।

तू कौन? मैं ख़ामख़ा: इमरान खान ने पूरे मुस्लिम समुदाय को लिखी चिट्ठी, कहाँ पहुँची, पता नहीं

इमरान खान ने मुस्लिम देशों के सामने अपनी अपील रखते हुए यूरोपीय लीडरशिप पर सवाल उठाया और लिखा कि यूरोप की लीडरशिप ये समझने में असमर्थ है।

‘अपना नाम विद्ड्रॉ करो जाकर’: दिग्विजय सिंह ने पार्षदी का लालच देकर सपा प्रत्याशी रौशन मिर्जा को किया फोन, ऑडियो लीक

"तुम जानते हो चुनाव कैसा होता है, क्यों होता है? तुम क्यों बेमतलब चुनाव लड़ रहे हो। नाम वापस लो। जो भी होगा, तुम्हारा ख्याल हम रखेंगे।"

पकड़ी गई ‘लुटेरी दुल्हन’ नजमा शेख उर्फ नेहा पाटिल: 4 युवकों से शादी कर हड़पी थी मोटी रकम, तलाश रही थी 5वाँ शिकार

साजिश के तहत ससुराल जाते ही नजमा शेख वहाँ रखे रुपए और गहनों को बटोर कर फरार हो जाती थी। फरार होने के बाद वो मुंबई पहुँच जाती थी।

गौहत्या करने वालों को हर हाल में भेजा जाएगा जेल, हम गौ माता की रक्षा के साथ खिलवाड़ नहीं होने देंगे: CM योगी

"अगर कोई गौकशी करेगा तो सरकार कानून के दायरे में उसे जेल में ठूसने का काम भी करेगी। हम गौ माता की रक्षा के साथ किसी प्रकार का खिलवाड़ नहीं होने देंगे।"

‘हम मूलनिवासी-आदिवासी, राम का पुतला जला रहे हैं क्योंकि रावण ज्यादा तपस्वी था’: 4 युवक गिरफ्तार

भगवान राम का पुतला जलाते हुए खुदको मूलनिवासी बता रहे युवकों का कहना था कि रावण बहुत तपस्वी था और राम जो भी था वह रावण से कम तपस्वी था।

पिता MP, पति DM, खुद SP: मुंगेर की ‘जनरल डायर’, जिस पर लगा था पुलिस के काम के लिए नेता की गाड़ी के इस्तेमाल...

अगस्त 2019 में लिपि सिंह पर आरोप लगा था कि वो दिल्ली के साकेत कोर्ट में अनंत सिंह के लिए जब ट्रांजिट रिमांड लेने गई थीं, तो उन्होंने जदयू नेता की गाड़ी का इस्तेमाल किया था।

निकिता मर्डर केस में 2018 से होगी जाँच, आरोपित तौसीफ कॉन्ग्रेस नेताओं का रिश्तेदार, किसी हालत में बख्शेंगे नहीं: अनिल विज

“मैं एक बात साफ बता देना चाहता हूँ कि ये दबंगई नहीं चलने दूँगा। मैं सिसक-सिसक कर लड़कियों को मरने नहीं दूँगा। जो भी कड़ी से कड़ी सजा हो सकती होगी, वो दी जाएगी।"

10 जगहों पर NIA की रेड: हुर्रियत नेता युसूफ सोफी, एक्टिविस्ट खुर्रम परवेज, ग्रेटर कश्मीर के कार्यालय सहित 2 NGO भी जद में

एनआईए की टीम एनजीओ में हो रहे रूपयों के हेरफेर का पता लगाने के लिए नया मामला दर्ज किया है। इसके तहत एनआईए रूपयों के सोर्स, खर्च का पता लगाएगी।

हमसे जुड़ें

272,571FansLike
79,380FollowersFollow
340,000SubscribersSubscribe