Wednesday, June 23, 2021
Home विविध विषय अन्य दिल्ली दंगों पर किताब रुकवाने वाला विलियम डेलरिम्पल है औरंगजेब का मुरीद, #Metoo में...

दिल्ली दंगों पर किताब रुकवाने वाला विलियम डेलरिम्पल है औरंगजेब का मुरीद, #Metoo में भी उछला था नाम

सभी जानते हैं कि औरंगज़ेब ने कितने मंदिरों का विध्वंस किया। लेकिन इन वास्तविक तथ्यों को दरकिनार करते हुए डेलरिम्पल ने लिखा कि औरंगज़ेब ने भारत हिंदू धर्म के मंदिरों में जितना दान किया वह उल्लेखनीय था।

दिल्ली दंगों पर आधारित किताब ‘दिल्ली रायट्स 2020: द अनटोल्ड स्टोरी’ का प्रकाशन ब्लूम्सबरी ने रोक दिया था। ऐसा करने के लिए वामपंथी, लिबरल और इस्लामी समूह ने सबसे ज़्यादा दबाव बनाया था। इनके अलावा एक नाम खूब चर्चा में रहा। वह है स्कॉटिश इतिहासकार और लेखक विलियम डेलरिम्पल का। पुस्तक का प्रकाशन रुकवाने में इस कथिम इतिहासकार की मुख्य भूमिका बताई जा रही। हालॉंकि यह पहला मौका नहीं है जब विलियम ने अपनी ज़हरीली मानसिकता का परिचय दिया हो।

विलियम डेलरिम्पल का मुग़लों से लगाव कभी छिपा नहीं रहा। यही वजह है कि मुग़लों का महिमामंडन करते हुए उसने दो पुस्तकें लिखी, ‘द लास्ट मुग़ल’ और व्हाइट मुग़ल।’ इतिहास गवाह है कि मुग़ल शासकों से ज्यादा मानव सभ्यता और मानव अधिकारों का नुकसान किसी और ने नहीं किया। डेलरिम्पल ने अपनी किताब में सबसे ज़्यादा औरंगज़ेब की तारीफ़ की है। उसने औरंगज़ेब को जादुई व्यक्तित्व वाला बताया है।

उसने अपनी किताब में लिखा है, “औरंगज़ेब का शुरुआती रवैया भले कैसा भी रहा हो लेकिन अंत में उसे अपनी भूल का पछतावा हुआ था। उसने अपने अंतिम पत्रों में इन बातों का ज़िक्र किया है कि उसने लोगों को जितना नुकसान पहुँचाया, जितनी तोड़-फोड़ और लूट-पाट की उसे सारी बातों का पछतावा था।” औरंगज़ेब की असलियत पर अपने झूठ का पर्दा डालते हुए डेलरिम्पल ने ऐसी कुछ और बातें लिखी हैं जो हैरान करने वाली हैं।  

सभी जानते हैं कि औरंगज़ेब ने कितने मंदिरों का विध्वंस किया। लेकिन इन वास्तविक तथ्यों को दरकिनार करते हुए डेलरिम्पल ने लिखा कि औरंगज़ेब ने भारत हिंदू धर्म के मंदिरों में जितना दान किया वह उल्लेखनीय था। एक ऐसा मुग़ल शासक जिसने राज करने के लिए अपने दो भाइयों को मरवा दिया, अपने पिता को कारावास में कैद करवा दिया, वह डेलरिम्पल जैसे इतिहासकारों की नज़र में दानवीर, दयालु और जादुई है।  

लेकिन यह तो विलियम डेलरिम्पल के व्यक्तित्व का सिर्फ एक पहलू है। साल 2018 के दौरान तथाकथित बुद्धिजीवी लेखक और इतिहासकार पर #Metoo के तहत भी आरोप लगे थे। स्क्रॉल की कर्मचारी कर्णिका ने कहा था कि डेलरिम्पल का व्यवहार बहुत भद्दा है। क्या हम कभी उसके व्यवहार के बारे में बात करेंगे?

इसके अलावा प्रीठा ने भी डेलरिम्पल के व्यवहार के बारे में विस्तार से जानकारी दी थी। उन्होंने कहा था कि डेलरिम्पल के आसपास रहना बिलकुल आसान नहीं है। उन्होंने पूरी घटना का ज़िक्र करते हुए बताया था कि कैसे विलियम डेलरिम्पल ने उन्हें फेसबुक पर मित्रता निवेदन भेजा। वह इतने पर ही नहीं रुका और तारीफ़ करते हुए संदेश में भद्दे स्माइली का इस्तेमाल करने लगा। प्रीठा ने बताया कि वह इन बातों से असहज हो ही रही थीं कि डेलरिम्पल ने उनसे डिनर और कॉफ़ी के लिए भी पूछ लिया।  

मिस कांडपाल ने भी कहा था कि जैसा प्रीठा के साथ हुआ कुछ वैसा ही मेरे साथ भी हुआ। विलियम ने मुझसे भी डिनर के लिए पूछा था। इसके अलावा लेखक और राजनीतिक विश्लेषक शुभ्रष्ठा ने भी इस बारे में जानकारी दी थी। उन्होंने कहा था शुक्र है मैं इस डिनर से बच गई और इसके बाद उन्होंने विलियम डेलरिम्पल के सन्देश का स्क्रीनशॉट साझा किया था।

ठीक ऐसे ही साल 2008 में एक साक्षात्कार के दौरान विलियम डेलरिम्पल ने काफी ज़हर उगला था। उसने कहा था कि लोग सीमाओं के पार एक दूसरे से मिलने के लिए आते-जाते रहेंगे। ठीक ऐसा ही जिन्ना ने भी इन दो देशों के बीच बर्लिन की दीवार जैसा कुछ नहीं सोचा था। जिन्ना ने सोचा था कि उसका घर मालाबार की घाटियों में होगा और सप्ताह का अंत बॉम्बे में बीतेगा। मैं इस बात के लिए पूरी तरह आशावादी हूँ, पाकिस्तान का मध्यम वर्ग तरक्की कर ही रहा है।

इस साक्षात्कार के प्रकाशित होने के कुछ महीने बाद ही मुंबई के ताज होटल पर पाकिस्तान के आतंकवादियों ने हमला कर दिया था। जिसमें सैकड़ों लोगों की जान गई थी। इसके अलावा डेलरिम्पल ने तहलका पत्रिका को एक साक्षात्कार दिया था। इसमें उसने कहा था, “मैंने पाकिस्तान को 20 साल तक कवर किया है और मैं वहाँ के लोगों के बारे में पूरी तरह गलत था। वहाँ के लोग मेरी अपेक्षा से कहीं ज़्यादा अच्छे हैं और मैं उनके लिए आशावादी हूँ।”

खुद को उदारवादी साबित करने की होड़ में विलियम डेलरिम्पल ने अपनी किताब ‘The Anarchy: The Relentless Rise of the East India Company’ में समलैंगिकता पर विचित्र श्रेणी के विचार रखे हैं। डेलरिम्पल लिखता है कि इस्लाम के अभिजात्य वर्ग में उच्च और निम्न वर्ग के लोगों के बीच समलैंगिक संबंध स्वीकार्य थे। जबकि सच यह था कि वह समलैंगिक संबंध नहीं बल्कि नाबालिग और वयस्क के बीच संबंधों की घंटनाएँ थीं। यानी डेलरिम्पल बुद्धिजीवी बनने की दौड़ में अप्राकृतिक कृत्यों को सही बता रहा था।

इतना ही नहीं खुद को इतिहासकार बताने वाला डेलरिम्पल इतिहास से जुड़े तथ्यों में भी गलती करता है। इस संबंध में लेखक अनीश गोखले ने ट्वीट कर जानकारी दी थी। उन्होंने अपनी किताब में नारायणराव पेशवा को माधवराव पेशवा से मिला दिया था। इसके अलावा झूठा दावा भी किया कि बंगाल की लड़ाई में मराठाओं की हार हुई थी।

खुद को इतिहासकार, क्यूरेटर, ब्रॉडकास्टर और आलोचक बताने वाले विलियम डेलरिम्पल ने अभी तक कई किताबें लिखी हैं। जिसमें साल 2009 में आई ‘नाइन लाइव्स’ उल्लेखनीय है, जो अलग-अलग पंथ और समुदाय से आने वाले साधुओं पर आधारित है। डेलरिम्पल ने दो टेलीवीज़न सीरीज़ भी लिखी हैं स्टोन्स ऑफ़ द राज और इंडियन जर्नीज़। कुल मिला कर उसने भारत के आधुनिक इतिहास को कई बार नए सिरे से बताने की कोशिश की है। लेकिन हर बार कही गई बात में विचारधारा ऊपर हो जाती है और वास्तविकता नीचे। मुग़लों पर लिखी गई विलियम डेलरिम्पल की पुस्तकें इस बात का सबसे सटीक उदाहरण हैं। जिस तरह अपनी किताब में उन्होंने औरंगज़ेब को अच्छा शासक बताया, उससे लेखक की असल मंशा पूरी तरह साफ़ हो जाती है।   

ठीक वैसा ही कुछ नज़र आ रहा है दिल्ली दंगों पर आधारित किताब दिल्ली रायट्स 2020: द अनटोल्ड स्टोरी के मामले में। ख़बरों में बात यहाँ तक सामने आई है कि किताब के प्रकाशन पर रोक उसके बिना संभव ही नहीं होती। कई लोगों ने ट्विटर पर सार्वजनिक रूप से इसके लिए विलियम डेलरिम्पल का आभार तक जताया है।  

इतना ही नहीं वह इस किताब का प्रकाशन रुकवाने के लिए काफ़ी समय से लगा हुआ था। इसके लिए उससे कई वामपंथी लेखकों से निवेदन भी किया था। ऐसे में इस बात का अंदाज़ा आसानी से लगाया जा सकता है कि डेलरिम्पल ने भारतीय आधुनिक इतिहास को केंद्र में रख कर जितना कुछ लिखा है, वह कितना विश्वसनीय और प्रासंगिक होगा।   

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘देश रिकॉर्ड बनाता है तो भारतीयों पर हमला कॉन्ग्रेसी संस्कृति’: वैक्सीन पर खुद घिरी कॉन्ग्रेस, बीजेपी ने दिया मुँहतोड़ जवाब

जेपी नड्डा ने लिखा कि 21 जून को रिकॉर्ड 88 लाख से अधिक लोगों का टीकाकरण करने के बाद, भारत ने मंगलवार और बुधवार को भी 50 लाख टीकाकरण के मार्क को पार किया है, जो कॉन्ग्रेस पार्टी को नापसंद है।

गहलोत पर फिर संकट: सचिन पायलट शांत हुए तो निर्दलीय, BSP से आए 19 MLA बागी, माँग रहे सरकार बचाने का इनाम

निर्दलीय विधायकों में से एक रामकेश मीणा ने सचिन पायलट गुट पर हमला बोलते हुए कहा कि भाजपा के कहने पर पायलट की बगावत की योजना तैयार हुई थी।

‘हरा$ज*, हरा%$, चू$%’: ‘कुत्ते’ के प्रेम में मेनका गाँधी ने पशु चिकित्सक को दी गालियाँ, ऑडियो वायरल

गाँधी ने कहा, “तुम्हारा बाप क्या करता है? कोई माली है चौकीदार है क्या हैं?” डॉक्टर बताते भी हैं कि उनके पिता एक टीचर हैं। इस पर वो पूछती हैं कि तुम इस धंधे में क्यों आए पैसे कमाने के लिए।

राजा-रानी की शादी हुई, दहेज में दे दिया बॉम्बे: मात्र 10 पाउंड प्रति वर्ष था किराया, पुर्तगाल-इंग्लैंड ने कुछ यूँ किया था खेल

ये वो समय था जब इंग्लैंड में सिविल वॉर चल रहा था। पुर्तगाल को स्पेन ने अपने अधीन किया हुआ था। भारत की गद्दी पर औरंगज़ेब को बैठे 5 साल भी नहीं हुए थे। इधर बॉम्बे का भाग्य लिखा जा रहा था।

कॉन्ग्रेस के इस मर्ज की दवा नहीं: ‘श्वेत पत्र’ में तलाश रही ऑक्सीजन, टूलकिट वाली वैक्सीन से खोज रही उपचार

कॉन्ग्रेस और उसके इकोसिस्टम को स्वीकार लेना चाहिए कि प्रोपेगेंडा और टूलकिट से उसकी सेहत दुरुस्त नहीं हो सकती।

मुंबई के 26/11 से जुड़े हैं पेरिस हमले के तार: जर्मन डॉक्यूमेंट्री ने खोले PAK खुफिया एजेंसी ISI के कई राज

डॉक्यूमेंट्री का शीर्षक- 'द बिजनेस विद टेरर' है। इसमें बताया गया है कि आखिर यूरोप में हुए आतंकी हमलों में फाइनेंसिंग, प्लॉनिंग और कमीशनिंग कहाँ से हुई।

प्रचलित ख़बरें

TMC के गुंडों ने किया गैंगरेप, कहा- तेरी काली माँ न*गी है, तुझे भी न*गा करेंगे, चाकू से स्तन पर हमला: पीड़ित महिलाओं की...

"उस्मान ने मेरा रेप किया। मैं उससे दया की भीख माँगती रही कि मैं तुम्हारी माँ जैसी हूँ मेरे साथ ऐसा मत करो, लेकिन मेरी चीख-पुकार उसके बहरे कानों तक नहीं पहुँची। वह मेरा बलात्कार करता रहा। उस दिन एक मुस्लिम गुंडे ने एक हिंदू महिला का सम्मान लूट लिया।"

‘एक दिन में मात्र 86 लाख लोगों को वैक्सीन, बेहद खराब!’: रवीश कुमार के लिए पानी पर चलने वाले कुत्ते की कहानी

'पोलियो रविवार' के दिन मोदी सरकार ने 9.1 करोड़ बच्चों को वैक्सीन लगाई। रवीश 2012 के रिकॉर्ड की बात कर रहे। 1950 में पहला पोलियो वैक्सीन आया, 62 साल बाद बने रिकॉर्ड की तुलना 6 महीने बाद बने रिकॉर्ड से?

टीनएज में सेक्स, पोर्न, शराब, वन नाइट स्टैंड, प्रेग्नेंसी… अनुराग कश्यप ने बेटी को कहा- जैसी तुम्हारी मर्जी

ब्वॉयफ्रेंड के साथ सोने के सवाल पर अनुराग ने कहा, "यह तुम्हारा अपना डिसीजन है कि तुम किसके साथ रहती हो। मैं केवल इतना चाहता हूँ कि तुम सेफ रहो।"

‘नंदलाला की #$ गई क्या’- रैपर MC कोड के बाद अब मफ़ाद ने हिन्दुओं की आस्था को पहुँचाई चोट, भगवान कृष्ण को दी गालियाँ

रैपर ने अगली पंक्ति में धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुँचाने के लिए बेहद आपत्तिजनक शब्दों का प्रयोग किया जैसे, "मर गया तेरा नंदलाल नटखट, अब गोपियाँ भागेंगी छोड़के पनघट।"

शादीशुदा इमरान अंसारी ने जैन लड़की का किया अपहरण, कई बार रेप: अजमेर दरगाह ले जा कर पहनाई ताबीज, पुलिस ने दबोचा

इमरान अंसारी ने इस दौरान पीड़िता को बार-बार अपने साथ शारीरिक सम्बन्ध बनाने के लिए मजबूर किया। उसने पीड़िता को एक ताबीज़ पहनने के लिए दिया।

‘तुम्हारे शरीर के छेद में कैसे प्लग लगाना है, मुझे पता है’: पूर्व महिला प्रोफेसर का यौन शोषण, OpIndia की खबर पर एक्शन में...

कॉलेज के सेक्रेटरी अल्बर्ट विलियम्स ने उन पर शिकायत वापस लेने का दबाव बनाया। जोसेफिन के खिलाफ 60 आरोप लगा कर इसकी प्रति कॉलेज में बँटवाई गई। एंटोनी राजराजन के खिलाफ कार्रवाई की बजाए उन्हें बचाने में लगा रहा कॉलेज प्रबंधन।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
105,633FollowersFollow
392,000SubscribersSubscribe