Tuesday, June 25, 2024
Homeविविध विषयविज्ञान और प्रौद्योगिकीकैप्टन गोपीचंद थोटाकुरा: आंध्र प्रदेश में जन्मा वो पायलट, जो अंतरिक्ष यात्रा पर जाकर...

कैप्टन गोपीचंद थोटाकुरा: आंध्र प्रदेश में जन्मा वो पायलट, जो अंतरिक्ष यात्रा पर जाकर रचने वाला है इतिहास, राकेश शर्मा के बाद सिर्फ दूसरे भारतीय

आंध्र प्रदेश के विजयवाड़ा में जन्मे गोपीचंद आज 30 साल के हैं। वह एक उद्यमी और कुशल पायलट हैं।

भारतीय मूल के पायलट गोपीचंद थोटाकुरा इतिहास रचने जा रहे हैं। वो अरबपति व्यवसाई जेफ बेजोस की कंपनी ब्लू-ओरिजिन की कमर्शियल अंतरिक्ष यात्रा का हिस्सा हैं, जो रविवार (19 मई 2024) को उड़ान भरेगी। वह अंतरिक्ष की उड़ान भरते ही ऐसा करने वाले दूसरे भारतीय होंगे। इससे पहले 1984 में राकेश शर्मा ने यह कारनामा किया था।

अमेरिका में रहने वाले गोपीचंद को ब्लू ओरिजिन के न्यूशेपर्ड-25 (NS-25) मिशन के लिए चालक दल में चुना गया है। उनके अलावा चालक दल में दुनिया भर के पाँच अन्य अंतरिक्ष यात्री भी हैं। यह मिशन न्यूशेपर्ड कार्यक्रम के लिए सातवाँ मानव युक्त मिशन है और कुल 25वाँ। कैप्टन गोपीचंद के साथ ब्लू ओरिजिन के NS-25 मिशन में क्रू मेंबर मेसन एंजेल, सिल्वेन चिरोन, केनेथ एल. हेस कैरोल स्कालर के साथ पूर्व वायुसेना कप्तान एड ड्वाइट भी होंगे। कंपनी के अनुसार मिशन को पश्चिम टेक्सास में लॉन्च साइट वन लान्च किया जाएगा।

कैप्टन गोपीचंद ने कहा कि ‘ब्लू ओरिजिन के NS-25 मिशन के साथ इस ऐतिहासिक यात्रा पर निकलने में भारत का अंतरिक्ष यात्रा में प्रतिनिधित्व करना गर्व की बात है और मैं सम्मानित महसूस कर रहा हूँ। भारत दुनिया भर में अंतरिक्ष रिसर्च में अपनी पहचान बना रहा है। यह यात्रा ग्लोबल लेवल पर मानवीय प्रयास और सरलता की भावना का प्रतीक है। मुझे उम्मीद है कि यह रिसर्च STEAM प्रोफेशनल्स की जनरेशन को प्रेरित करेगा। हम अंतरिक्ष रिसर्च की सीमाओं को एक साथ आगे बढ़ा रहे हैं।

कौन हैं कैप्टन गोपीचंद?

आंध्र प्रदेश के विजयवाड़ा में जन्मे गोपीचंद आज 30 साल के हैं। वह एक उद्यमी और कुशल पायलट हैं। ब्लू ओरिजिन वेबसाइट के मुताबिक, गोपीचंद एक पायलट और एविएटर है। जिन्होंने सड़क पर गाड़ी चलाने से पहले ही हवाई उड़ान भरना शुरू कर लिया था। वह कमर्शियली जेट उड़ाने के अलावा, बुश, एरोबेटिक और सीप्लेन के साथ-साथ ग्लाइडर भी उड़ा चुके हैं। वह एक अंतरराष्ट्रीय मेडिकल जेट पायलट के रूप में भी काम कर चुके हैं। अपनी विमानन उपलब्धियों के अलावा, एम्ब्री-रिडल एरोनॉटिकल यूनिवर्सिटी से स्नातक पूरा कर चुके गोपीचंद यात्रा के शौकीन हैं। उन्होंने माउंट किलिमंजारो पर सफलतापूर्वक चढ़ाई की है।

बता दें कि साल 1984 में रूसी सोयुज टी-11 पर राकेश शर्मा की यात्रा के बाद वह अंतरिक्ष की यात्रा करने वाले दूसरे भारतीय बन जाएँगे। राकेश शर्मा के बाद केवल भारतीय मूल के लोग ही अंतरिक्ष में गए हैं। इस लिस्ट में कल्पना चावला (1997), सुनीता विलियम्स (2006) और राजा चारी (2021) का नाम भी शामिल हैं।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

जूलियन असांजे इज फ्री… विकिलीक्स के फाउंडर को 175 साल की होती जेल पर 5 साल में ही छूटे: जानिए कैसे अमेरिका को हिलाया,...

विकिलीक्स फाउंडर जूलियन असांजे ने अमेरिका के साथ एक डील कर ली है, इसके बाद उन्हें इंग्लैंड की एक जेल से छोड़ दिया गया है।

‘जिन्होंने इमरजेंसी लगाई वे संविधान के लिए न दिखाएँ प्यार’: कॉन्ग्रेस को PM मोदी ने दिखाया आईना, आपातकाल की 50वीं बरसी पर देश मना...

इमरजेंसी की 50वीं बरसी पर पीएम मोदी ने कॉन्ग्रेस पर निशाना साधा। साथ ही लोगों को याद दिलाया कि कैसे उस समय लोगों से उनके अधिकार छीने गए थे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -