Sunday, October 17, 2021
Homeविविध विषयविज्ञान और प्रौद्योगिकीइसरो ने लॉन्च किए 13 अमेरिकी नैनो-सैटेलाइट, उच्चतम इमेज गुणवत्ता वाला कॉर्टोसैट-3 भी हुआ...

इसरो ने लॉन्च किए 13 अमेरिकी नैनो-सैटेलाइट, उच्चतम इमेज गुणवत्ता वाला कॉर्टोसैट-3 भी हुआ लॉन्च

इन सैटेलाइट्स और उनसे उपलब्ध डेटा का प्रयोग अर्बन प्लानिंग, रूरल रिसोर्सेज और इंफ्रास्ट्रक्चर डेवलपमेंट के लिए किया जाएगा। इसका उपयोग कोस्टल लैंड यूज और लैंड कवर के लिए भी किया जाएगा।

इंडियन स्पेस रिसर्च आर्गेनाईजेशन (ISRO) ने एक और बड़ी सफलता हासिल की है। इसरो ने आंध्र प्रदेश के श्रीहरिकोटा अंतरिक्ष केंद्र के लॉन्च पैड से उच्चतम रिजोल्यूशन वाले उपग्रह कार्टोसैट-3 को सफलतापूर्वक लॉन्च कर के देश का मस्तक गर्व से ऊँचा कर दिया। कॉर्टोसैट-3 को अंतरिक्ष में सफलतापूर्वक इंजेक्ट भी कर दिया गया है। इसरो ने इस पूरे ऑपरेशन का लाइव टेलीकास्ट किया। इसरो ने इसके साथ ही 13 अमेरिकी नैनो-सैटेलाइट को भी लॉन्च किया। इसरो प्रमुख के. सिवन ने ऑपरेशन के सफल संचालन के बाद प्रसन्नता ज़ाहिर की।

अगर 2005 से 2019 तक के सफर की बात करें तो इसरो ने अब तक 8 कॉर्टोसैट सैटेलाइट लॉन्च करने में सफलता प्राप्त की है। ये रिमोट सेंसिंग सैटेलाइट होते हैं, जो अर्थ मैपिंग को बेहतर तरीके से अंजाम देते हैं। कॉर्टोसैट और अमेरिकी नैनो-सैटेलाइट्स को लॉन्च करने के लिए 49वीं बार PSLV C-47 का प्रयोग किया गया। इन्हें सतीश धवन अंतरिक्ष सेंटर से बुधवार (नवंबर 27, 2019) सुबह क़रीब साढ़े 9 बजे लॉन्च किया गया। कॉटोसाइट-3 509 किलोमीटर की ऊँचाई पर 97.5 डिग्री झुकाव के साथ पृथ्वी की परिक्रमा करेगा।

इन सैटेलाइट्स और उनसे उपलब्ध डेटा का प्रयोग अर्बन प्लानिंग, रूरल रिसोर्सेज और इंफ्रास्ट्रक्चर डेवलपमेंट के लिए किया जाएगा। इसका उपयोग कोस्टल लैंड यूज और लैंड कवर के लिए भी किया जाएगा। आसान शब्दों में समझें तो ये सैटेलाइट उच्चतम क्वालिटी में इमेज लेने में सक्षम है। इससे उपलब्ध हुए डेटा से सेना को भी लाभ मिलेगा। कॉर्टोसैट-3 का स्पाटिअल रिजोल्यूशन 30 सेंटीमीटर रहने की उम्मीद है। इसके पूर्ववर्ती का स्पाटिअल रिजोल्यूशन 1 मीटर के आसपास था और कॉर्टोसैट-1 का 2.5 मीटर था।

यहाँ ये जानने लायक बात है कि स्पाटिअल रिजोल्यूशन 30 मीटर होने का अर्थ ये है कि इसके द्वारा लिए गए फोटो का एक पिक्सल ज़मीन पर 30*30 के क्षेत्र के बराबर होगा। इसरो प्रमुख ने स्पेस एजेंसी के अन्य प्रोजेक्ट्स के बारे में जानकारी देते हुए कहा कि उनके पास मार्च तक 13 अंतरिक्ष मिशन हैं, जिनमें से 6 बड़े वाहन मिशन और 7 सैटेलाइट मिशन शामिल हैं।

इसरो निश्चित रूप से चंद्रमा की सतह पर एक और लैंडिंग का प्रयास करेगा, योजना पर काम हो रहा है: के सिवान

इसरो ने जारी की Chandrayaan-2 द्वारा ली गई पृथ्वी की बेहद खूबसूरत तस्वीरें

इसरो का ऐतिहासिक जंप: एक ही रॉकेट से 3 विभिन्न कक्षाओं में अलग-अलग सैटेलाइट करेगा स्थापित

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘बेअदबी करने वालों को यही सज़ा मिलेगी, हम गुरु की फौज और आदि ग्रन्थ ही हमारा कानून’: हथियारबंद निहंगों को दलित की हत्या पर...

हथियारबंद निहंग सिखों ने खुद को गुरू ग्रंथ साहिब की सेना बताया। साथ ही कहा कि गुरु की फौजें किसानों और पुलिस के बीच की दीवार हैं।

सरकारी नौकरी से निकाला गया सैयद अली शाह गिलानी का पोता, J&K में रिसर्च ऑफिसर बन कर बैठा था: आतंकियों के समर्थन का आरोप

अलगाववादी नेता रहे सैयद अली शाह गिलानी के पोते अनीस-उल-इस्लाम को जम्मू कश्मीर में सरकारी नौकरी से निकाल बाहर किया गया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
129,107FollowersFollow
411,000SubscribersSubscribe