Friday, January 22, 2021
Home विविध विषय विज्ञान और प्रौद्योगिकी मरने के बाद क्या होगा आपके गूगल-फेसबुक अकॉउंट का, ट्विटर-इंस्टाग्राम सब कैसे और कौन...

मरने के बाद क्या होगा आपके गूगल-फेसबुक अकॉउंट का, ट्विटर-इंस्टाग्राम सब कैसे और कौन करेगा मैनेज?

आज यदि हम देखें तो ये दौर वही है जब किसी को अपने कल का नहीं मालूम कि क्या हो जाएगा। ऐसे में जो कोरोना से ग्रस्त हो रहे हैं उन्हें उनके परिवार की चिंता, बैंक अकॉउंट में जमा रकम के अलावा सबसे बड़ी चिंता गूगल अकॉउंट पर सेव जानकारी और सोशल मीडिया अकॉउंट को लेकर जरूर होती होगी। आखिर उसके अकॉउंट का क्या होगा?

कोरोना महामारी के कारण विश्व भर में असमय कई मौतें होने के बाद लोगों में इसे लेकर डर लगातार बना हुआ है। आज यदि हम देखें तो ये दौर वही है जब किसी को अपने कल का नहीं मालूम कि क्या हो जाएगा। ऐसे में जो कोरोना से ग्रस्त हो रहे हैं उन्हें उनके परिवार की चिंता, बैंक अकॉउंट में जमा रकम के अलावा सबसे बड़ी चिंता गूगल अकॉउंट पर सेव जानकारी और सोशल मीडिया अकॉउंट को लेकर जरूर होती होगी। और उन्हें ही क्या, जो कोई भी मृत्यु की कल्पना करता होगा वह आज के समय में यह जरूर सोचता होगा कि आखिर उसके अकॉउंट का क्या होगा?

तो, आइए आज इस अनिश्चितता के दौर में हम आपको यह जानकारी देते हैं कि आखिर मरने के बाद आपके गूगल अकॉउंट्स या सोशल मीडिया का क्या होगा?

सामान्य तौर पर ऐसी कोई टेक्निक नहीं है जो गूगल अकॉउंट को आपके सिवा ये परमिशन दे सके कि वो आपका अकॉउंट एक बार बनने के बाद उसके साथ क्या करेगा। रही बात मौत की कल्पना स्वयं करके उसे बंद करने की तो वो बहुत दूर की बात है। इसके लिए परमिशन या तो गूगल को आप खुद देते हैं या फिर आपके जाने के बाद आपके परिजन गूगल से यह अनुरोध करते हैं कि आपके अकॉउंट का क्या होगा।

गूगल को कैसे परमिशन दे सकते हैं कि आपकी मृत्यु के बाद आपके अकॉउंट का क्या होगा?

  • इसके लिए पहले आपको गूगल लॉग इन करना होगा।
  • फिर myaccount.google.com पर जाना होगा
  • आपके सामने एक इंटरफेस ओपन होगा।
  • बाएँ ओर आपको कुछ ऑप्शन नजर आएँगे। इसमें से आपको data and personalization को सिलेक्ट करना होगा।
  • इस ऑप्शन के भीतर आपको अपने अकॉउंट के लिए प्लॉन तैयार करने का विकल्प मिलेगा। स्क्रॉल डाउन करने पर एक जगह make an plan for your account लिखा दिखेगा। आपको इसी पर क्लिक करना होगा और अपने अकॉउंट के लिए प्लान तैयार करना होगा।
  • जब आप इस पर क्लिक करेंगे तो Inactive account manager खुलेगा। यहाँ आपको स्टार्ट क्लिक करना होगा।
  • फिर आपको ऑप्शन मिलेगा कि आखिर गूगल कब समझे कि आपका अकॉउंट इनएक्टिव है और उसे आपकी परमिशन से इसे बंद कर देना है। गूगल आपके सामने 3 माह का समय रखेगा। आप चाहें तो इसे 3 से 6 या 12 और 18 महीनों में भी एक क्लिक से इसे बदल सकते हैं।
  • गूगल इस समय सीमा के बाद आपके अकॉउंट को खुद से इन्एक्टिव समझने में सक्षम होगा। वह आपके अकॉउंट पर कोई एक्शन लेने से पहले आपके द्वारा मुहैया कराए गए कुछ कॉन्टैक्ट्स को संदेश भेजेगा  और कन्फर्म करेगा कि इस अकॉउंट पर कोई गतिविधि नहीं दर्ज की गई है। क्या यह मान लिया जाए कि अकॉउंट बंद है?
  • फोन और ईमेल अपडेट करने के लिए भी नीचे ऑप्शन होंगे।
  • आगे आपको मैक्सिमम 10 लोगों के नाम देने की छूट देनी होगी जिनसे आप बताना चाहें कि आपका अकॉउंट डिएक्टिवेट हो चुका है।
  • आप चाहें तो इन लोगों को अपने कुछ डेटा एक्सेस करने की छूट भी दे सकते हैं।
  • नीचे ऑटोरिप्लाई का ऑप्शन आएगा। यदि आप इस पर क्लिक करेंगे तो आपको भविष्य में मेल करने वाले को गूगल अपने आप बता सकेगा कि आपका अकॉउंट बंद हो चुका है। आप इसमें जो संदेश लिखेंगे, गूगल उसी को आगे फॉर्वर्ड करेगा। ध्यान रहे ये सर्विस सिर्फ उन लोगों के लिए होगी जो आपके कॉन्टैक्ट में होंगे, इसके अतिरिक्त कोई नहीं।
  • इन सबको कंप्लीट अपडेट करने के बाद आपके सामने एक ऑप्शन आएगा कि आप इस बात का निर्णय लें कि अकॉउंट इंएक्टिव होने के बाद आपका डेटा डिलीट होगा या नहीं। आपको इसके लिए विकल्प ऑन करना होगा। यदि आप इसे नहीं ऑन करते हैं तो ये डेटा हमेशा ऐसा ही रहेगा।
  • बस इसके बाद एक बार रिव्यू प्लान पर क्लिक करें और फिर कन्फर्म प्लान कर क्लिक करें।

मुश्किल से 10 मिनट की इस पूरी प्रक्रिया में आप अपने गूगल अकॉउंट को लेकर सुनिश्चित हो सकेंगे कि आपके अकॉउंट से संबंधित जानकारी का आपके न रहने पर क्या होगा। कई बार हम अपनी गूगल हिस्ट्री, गूगल फोटोज, गूगल मैप्स, गूगल आईडी पर बने सोशल मीडिया अकॉउंट्स की जानकारी नहीं साझा करना चाहते। लेकिन हमारी ना समझी के कारण ये चीजें एक प्लेटफॉर्म पर हमेशा के लिए बची रह जाती हैं। हालाँकि, हमारे मरने के बाद इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि गूगल अकॉउंट का क्या हुआ लेकिन हमारे परिजन इससे प्रभावित हो सकते हैं। ऐसे में बेहतर है कि गूगल  अकॉउंट के साथ क्या करना है इसे आप अपने जीते जी तय करें।

इसके अलावा एक स्थिति गूगल अकॉउंट्स को लेकर तब भी उत्पन्न होती है जब हमारे कुछ ऐसे डॉक्यूमेंट उसमें सेव होते हैं जो हमारे मरने के बाद परिवार के लिए अत्यंत महत्तवपूर्ण हो जाते हैं, लेकिन हमारी छोटी सी लापरवाही के कारण उन्हें उसके लिए जद्दोजहद करनी पड़ती है। यदि हम थोड़ी सी सतर्कता बरतें तो आपकी सारी जानकारी शेयर किए गए बिना वह महत्तवपूर्ण डॉक्यूमेंट आपके परिजन आसानी से एक्सेस कर सकते हैं।

सोशल मीडिया अकॉउंट: फेसबुक, इंस्टाग्राम और ट्विटर का आपके मरने के बाद क्या होगा?

वैसे तो गूगल आईडी डिएक्टिवेट होने के बाद वह कहीं भी उपयोग में नहीं लाई जा सकती । लेकिन यदि आप अलग से अपने सोशल मीडिया अकॉउंट को लेकर विचार करते हैं कि उसका क्या हो सकता है, तो बता दें कि फेसबुक आपके अकॉउंट को बंद नहीं करता, बल्कि उसे ‘मेमोरियलाइज’ कर देता है। यानी उनका अकाउंट प्लेटफॉर्म से डिलीट नहीं होता, बल्कि यूजर के ऑनलाइन फ्रेंड्स को मौका देता है कि वो उसकी सभी यादों को सहेज सकें।

मेमोरियलाइज्ड अकाउंट में व्यक्ति के नाम के आगे ‘रिमेंबरिंग’ जुड़ जाता है। अगर मृत व्यक्ति ने अपनी टाइमलाइन लोगों की पोस्ट के लिए ओपन रखी हो, तो लोग उनकी टाइमलाइन पर पोस्ट भी कर सकते हैं। इस अकॉउंट के लोग न तो सजेशन में दिखाई पड़ते हैं, न ही उनसे जुड़ा कोई नोटिफिकेशन किसी को भेजा जाता है। इसी प्रकार व्यक्ति अगर किसी पेज का एडमिन होता है तो उसे भी डिलीट करने का काम फेसबुक अपने आप कर देता है।

मगर, ध्यान रहे फेसबुक ये सब तभी कर सकता है जब आपने लिगेसी कॉन्टैक्ट पर किसी को सेट किया हुआ है। इसका अर्थ है कि कोई ऐसा विश्वसनीय जो आपके जाने के बाद आपका अकॉउंट मैनेज कर सके। आपकी प्रोफाइल पिक आदि बदल सके। रिक्वेस्टों का जावब दे सके। लीगेसी कॉन्टैक्ट को सेट करते हुए अपनी निजता के लिए बिलकुल निश्चिंत रहें, क्योंकि ये उसे आपकी टाइमलाइन पर पोस्ट करने या संदेश पढ़ने की इजाजत नहीं देता। अगर आपकी इच्छा है कि मरने के बाद आपका अकॉउंट डिलीट हो तो लिगेसी कॉन्टैक्ट में ‘रिक्वेस्ट अकाउंट डिलीशन’ सेलेक्ट कर लें।

बता दें कि इंस्टाग्राम की भी पॉलिसी मृत व्यक्ति के लिए बिलकुल सेम है। इंस्टाग्राम पर मृत व्यक्ति के अकॉउंट को रिपोर्ट की जा सकती है और फिर उसे मेमोराइज बना दिया जा सकता है। इसके अतिरिक्त व्यक्ति के परिवार के सदस्य भी अनुरोध कर सकते हैं कि अकॉउंट डिलीट कर दिया जाए। बस इंस्टा पर मौत का सबूत देने के लिए उससे जुड़ा कोई दस्तावेज या न्यूज आर्टिकल उसके सामने सबूत के तौर पर पेश करता होता है।

वहीं, ट्विटर पर प्रक्रिया थोड़ी अलग है। यहाँ मृत व्यक्ति के अकॉउंट डिएक्टिवेट उसके जाने के बाद हो तो जाते हैं। मगर यदि उसके परिजन ट्विटर को रिक्वेस्ट भेजते हैं तो उन्हें अपना आईडी और मृतक की मौत का प्रमाण देना होता है। पिटंरेस्ट पर भी व्यक्ति के जाने के बाद यदि परिवार वाले उसे बंद करने की अपील करें तो अकॉउंट डिएक्टिवेट कर दिया जाता है। साइट यह सुनिश्चित करती है कि वो कोई निजी या लॉग इन से संबंधी जानकारी किसी से शेयर नहीं करेगी।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

 

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

जून डो हजार इख्खीस टक लोखटांट्रिक टरीखे से चूना जाएगा खाँग्रेस पारटी का प्रेसीडेंट….

राहुल गाँधी ने लिखा था: तारीख पे तारीख देना स्ट्रैटेजी है उनकी। सोनिया गाँधी दे रहीं, कॉन्ग्रेसियों को बस तारीख पर तारीख।

JNU के ‘पढ़ाकू’ वामपंथियों को फसाद की नई वजह मिली, आइशी घोष पर जुर्माना; शेहला भी कूदी

जेएनयू हिंसा का चेहरा रही आइशी घोष और अन्य छात्रों पर ताले तोड़ हॉस्टल में घुसने के लिए जुर्माना लगाया गया है।

इस्लामी कट्टरता की बात करने पर लिबरपंथियों ने वीर सांघवी की कर दी डिजिटल लिंचिंग

हिंदुओं से घृणा का स्तर कितना अधिक व्यापक है कि यदि भाजपा की तुलना अयातुल्ला खुमैनी से भी हो जाए तो नाराजगी दिखने लगती है। मानो जैसे बेचारे अयातुल्ला ने ऐसा भी क्या कर दिया कि उसकी तुलना 'फासीवादी' भाजपा से की जाए।

ममता कैबिनेट से इस्तीफों की हैट्रिक पूरी, मोदी के आने से पहले राजीब बनर्जी ने TMC को दिया झटका

पश्चिम बंगाल में वन मंत्री और डोमजूर से टीएमसी विधायक राजीब बनर्जी ने ममता कैबिनेट से इस्तीफा दे दिया है।

आज हुए चुनाव तो NDA को 321 सीटें: अपने ही चैनल के सर्वे से राजदीप परेशान, ट्विटर पर निकाली भड़ास

राजदीप ने सर्वेक्षण पर टिप्पणी करते हुए कहा कि वह सर्वे पर विश्वास ही नहीं कर पा रहे क्योंकि लगभग 85% लोग लॉकडाउन में अपनी आजीविका के अवसरों को खोने के बावजूद मोदी सरकार की सराहना कर रहे हैं।

हमने रिस्क लिया, आलोचना झेली तभी स्वदेशी वैक्सीन आज दुनिया को सुरक्षा कवच दे रही है: दीक्षांत समारोह में PM मोदी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज असम के तेजपुर विश्वविद्यालय के 18वें दीक्षांत समारोह का वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए उद्धाटन किया।

प्रचलित ख़बरें

‘उसने पैंट से लिंग निकाला और मुझे फील करने को कहा’: साजिद खान पर शर्लिन चोपड़ा ने लगाया यौन उत्पीड़न का आरोप

अभिनेत्री-मॉडल शर्लिन चोपड़ा ने फिल्म मेकर फराह खान के भाई साजिद खान पर यौन उत्पीड़न का आरोप लगाया है।

‘अल्लाह का मजाक उड़ाने की है हिम्मत’ – तांडव के डायरेक्टर अली से कंगना रनौत ने पूछा, राजू श्रीवास्तव ने बनाया वीडियो

कंगना रनौत ने सीरीज के मेकर्स से पूछा कि क्या उनमें 'अल्लाह' का मजाक बनाने की हिम्मत है? उन्होंने और राजू श्रीवास्तव ने अली अब्बास जफर को...

मटन-चिकेन-मछली वाली थाली 1 घंटे में खाइए, FREE में ₹1.65 लाख की बुलेट ले जाइए: पुणे के होटल का शानदार ऑफर

पुणे के शिवराज होटल ने 'विन अ बुलेट बाइक' नामक प्रतियोगिता के जरिए निकाला ऑफर। 4 Kg की थाली को ख़त्म कीजिए और बुलेट बाइक घर लेकर जाइए।

शाहजहाँ: जिसने अपनी हवस के लिए बेटी का नहीं होने दिया निकाह, वामपंथियों ने बना दिया ‘महान’

असलियत में मुगल इस देश में धर्मान्तरण, लूट-खसोट और अय्याशी ही करते रहे परन्तु नेहरू के आदेश पर हमारे इतिहासकारों नें इन्हें जबरदस्ती महान बनाया और ये सब हुआ झूठी धर्मनिरपेक्षता के नाम पर।

‘कोहली के बिना इनका क्या होगा… ऑस्ट्रेलिया 4-0 से जीतेगा’: 5 बड़बोले, जिनकी आश्विन ने लगाई क्लास

अब जब भारत ने ऑस्ट्रेलिया में जाकर ही ऑस्ट्रेलिया को धूल चटा दिया है, आइए हम 5 बड़बोलों की बात करते हैं। आश्विन ने इन सबकी क्लास ली है।

Pak ने शाहीन-3 मिसाइल टेस्ट फायर किया, हुए कई घर बर्बाद और सैकड़ों घायल: बलूच नेता का ट्वीट, गिरना था कहीं… गिरा कहीं और!

"पाकिस्तान आर्मी ने शाहीन-3 मिसाइल को डेरा गाजी खान के राखी क्षेत्र से फायर किया और उसे नागरिक आबादी वाले डेरा बुगती में गिराया गया।"
- विज्ञापन -

 

जून डो हजार इख्खीस टक लोखटांट्रिक टरीखे से चूना जाएगा खाँग्रेस पारटी का प्रेसीडेंट….

राहुल गाँधी ने लिखा था: तारीख पे तारीख देना स्ट्रैटेजी है उनकी। सोनिया गाँधी दे रहीं, कॉन्ग्रेसियों को बस तारीख पर तारीख।

JNU के ‘पढ़ाकू’ वामपंथियों को फसाद की नई वजह मिली, आइशी घोष पर जुर्माना; शेहला भी कूदी

जेएनयू हिंसा का चेहरा रही आइशी घोष और अन्य छात्रों पर ताले तोड़ हॉस्टल में घुसने के लिए जुर्माना लगाया गया है।

त्रिपुरा कॉन्ग्रेस अध्यक्ष पर हमले में पार्टी के ही अल्पसंख्यक सेल का प्रमुख हुसैन गिरफ्तार

त्रिपुरा कॉन्ग्रेस के अध्यक्ष पीयूष कांति बिस्वास पर हुए हमले में पार्टी के अल्पसंख्यक प्रकोष्ठ के प्रमुख जॉयदुल हुसैन को गिरफ्तार किया गया है।

कोरोना वैक्सीन के लिए बुजुर्गों को ड्रग अथॉरिटी से कॉल, माँग रहे OTP-आधार: Fact Check

कोरोना वैक्सीन के नाम पर जालसाज वरिष्ठ नागरिकों को फोन कर खुद को ड्रग अथॉरिटी का बताकर आधार और ओटीपी माँग रहे हैं।

अडानी ग्रुप द्वारा दायर मानहानि के मुकदमे में पत्रकार प्रंजॉय गुहा ठाकुरता के खिलाफ गिरफ्तारी वारंट जारी

गुजरात की एक अदालत ने अडानी ग्रुप द्वारा दायर मानहानि के मुकदमे में पत्रकार प्रंजॉय गुहा ठाकुरता के खिलाफ गिरफ्तारी वारंट जारी किया।

इस्लामी कट्टरता की बात करने पर लिबरपंथियों ने वीर सांघवी की कर दी डिजिटल लिंचिंग

हिंदुओं से घृणा का स्तर कितना अधिक व्यापक है कि यदि भाजपा की तुलना अयातुल्ला खुमैनी से भी हो जाए तो नाराजगी दिखने लगती है। मानो जैसे बेचारे अयातुल्ला ने ऐसा भी क्या कर दिया कि उसकी तुलना 'फासीवादी' भाजपा से की जाए।

ममता कैबिनेट से इस्तीफों की हैट्रिक पूरी, मोदी के आने से पहले राजीब बनर्जी ने TMC को दिया झटका

पश्चिम बंगाल में वन मंत्री और डोमजूर से टीएमसी विधायक राजीब बनर्जी ने ममता कैबिनेट से इस्तीफा दे दिया है।

बॉलीवुड पर मुंबई पुलिस मेहरबान, यूपी पुलिस को फरहान अख्तर से नहीं करने दी पूछताछ

मिर्जापुर को लेकर दर्ज एफआईआर के संबंध में फरहान अख्तर से पूछताछ करने पहुॅंची यूपी पुलिस की टीम को मुंबई पुलिस ने इसकी अनुमति नहीं दी।

भारत ने UN में उठाया पाकिस्तान में मंदिर तोड़े जाने का मुद्दा, कहा- ‘मुस्लिम’ भीड़ के आगे मूक दर्शक बनी रही सरकार

भारत ने कहा कि शांति की संस्कृति को बढ़ावा देने के लिए संयुक्त राष्ट्र के प्रस्ताव से पाकिस्तान जुड़ा हुआ है। इसके बावजूद भीड़ ने खैबर पख्तूनख्वा प्रांत में एक ऐतिहासिक मंदिर में तोड़फोड़ की और पाकिस्तानी सरकार मूकदर्शक बनकर देखती रही।

3 महीने की प्लानिंग, 15 दिन की छुट्टी, 25 किलो सोना… दिल्ली पुलिस को चकमा नहीं दे पाया शेख नूर

दिल्ली के कालकाजी स्थित अंजलि ज्वैलर्स में करोड़ों की चोरी की गुत्थी सुलझाते हुए पुलिस ने शेख नूर रहमान को गिरफ्तार किया है।

हमसे जुड़ें

272,571FansLike
80,695FollowersFollow
384,000SubscribersSubscribe