Saturday, June 22, 2024
Homeविविध विषयविज्ञान और प्रौद्योगिकीक्या है एप्पल का M1 प्रोसेसर, क्यों बदल जाएगा आपका लैपटॉप सदा के लिए...

क्या है एप्पल का M1 प्रोसेसर, क्यों बदल जाएगा आपका लैपटॉप सदा के लिए पावर और परफॉर्मेंस दोनों में

M1 मैकबुक को 3.5 गुना ज्यादा तेज स्पीड देगा और ग्राफिक्स को 5 गुना अधिक। इसी तरह AI कंप्यूटेशन भी पहले से 11 गुना ज्यादा तेज होगा। पिछले साल बिकने वाले 98% लैपटॉप से तेज इसकी स्पीड होगी, ऐसा एप्पल का दावा है।

अमेरिकी कंपनी एप्पल (Apple) ने अपने आईफोन (i-phone), आईपैड (i-pad), आईवॉच जैसे प्रोडक्ट्स के लिए चिप (CHIP) तैयार करने बाद अब MAC प्रोडक्ट के लिए भी चिप तैयार कर ली है। कंपनी ने इस चिप को बेहद आसान नाम दिया है- M1 चिप। ये चिप कई मायनों में खास है। 

15 साल में पहली बार मैकबुक के लिए डिजाइन हुई इस चिप में मुख्य रूप से परफॉर्मेंस को अधिक ध्यान में रखा गया है। इसमें 8 कोर CPU (सेंट्रल प्रोसेसिंग यूनिट) और 8 कोर जीपीयू (ग्राफिक प्रोसेसिंग यूनिट) बिल्ट किया गया है। इसके अलावा रैम को भी इसी में जगह दी गई है। एप्पल का दावा है कि उनका लैपटॉप 98% लैपटॉप और पीसी से ज्यादा तेज काम करेगा।

Apple M1 chip diagram

इस चिप के साथ ही एप्पल ने न केवल मैक के बेहतर परफॉर्मेंस को आश्वस्त किया है बल्कि इसके बैटरी बैक अप को भी पहले से बढ़िया बताया है। एप्पल फिलहाल इस चिप को MacBook Air, MacBook Pro 13 inch और Mac Mini में इस्तेमाल करेगा।

इस चिप के आने के बाद ऐसा नहीं है कि intel प्रोसेसर वाले प्रोडक्ट्स को बाजार जगह नहीं देगा, लेकिन अब इंटेल प्रोसेसर के साथ ग्राहकों के पास इस नई तकनीक को एक्सपीरियंस करने का भी मौका होगा।

क्या होगी खासियत?

मौजूदा जानकारी के अनुसार मैक एयर में उपभोक्ता लगभग 15 घंटे तक ब्राउजिंग कर पाएगा। वही मैकबुक प्रो 13 इंच में यही समय सीमा 17-18 घंटे भी पहुँचेगी। एप्पल का दावा है कि 4 higher core और 4 lower core के साथ यह M1 चिप दुनिया का सबसे तेज सीपीयू कोर होगा। कंपनी ने दावा किया है कि हर पावर लेवल पर M1 बेहतर प्रदर्शन करेगा। इसमें वीडियो एडिटिंग और गेम्स को लेकर भी आपका अनुभव अधिक स्मूथ रहेगा, ऐसा एप्पल का कहना है।

M1 चिप में 16 बिलियन ट्रांजिस्टर का इस्तेमाल किया गया है। एप्पल का कहना है कि उसने पहली बार एक चिप में इतने ट्रांजिस्टर का प्रयोग किया है। इस तकनीक के इस्तेमाल के साथ ही मैक यूजर पहले से अधिक एप्स को चला पाएँगे।

Apple M1 chip diagram

कंपनी ने यह भी कहा है कि आने वाले समय में इस नई चिप के साथ एप्स की संख्या में सिर्फ़ बढ़ोतरी देखने को मिलेगी। इस चिप में 5 नैनोमीटर प्रोडक्शन प्रोसेस का इस्तेमाल हुआ है, बिलकुल आईफोन 12 में यूज हुई A14 चिप की तरह।

सिक्यॉरिटी के मामले में भी एप्पल M1 चिप के साथ अपने उपभोक्ताओं को आश्वास्त करता है। एप्पल के अनुसार M1 और macOS Big sur किसी भी पर्सनल कंप्यूटर को एडवांस हाई सिक्यॉरिटी प्रदान करता है।

कितना तेज होगा M1 चिप?

एप्पल के अनुसार, M1 चिप कई चीजों में इंटेल प्रोसेसर से तेज होगा और इसे मैक में रिप्लेस किया जाएगा। M1 मैकबुक को 3.5 गुना ज्यादा तेज स्पीड देगा और ग्राफिक्स को 5 गुना अधिक। इसी तरह AI कंप्यूटेशन भी पहले से 11 गुना ज्यादा तेज होगा। पिछले साल बिकने वाले 98% लैपटॉप से तेज इसकी स्पीड होगी, ऐसा एप्पल का दावा है।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

आज भी ‘रलिव, गलिव, चलिव’ ही कश्मीर का सत्य, आखिर कब थमेगा हिन्दुओं को निशाना बनाने का सिलसिला: जानिए हाल के वर्षों में कब...

जम्मू कश्मीर में इस्लाम के नाम पर लगातार हिन्दू प्रताड़ना जारी है। 2024 में ही जिहाद के नाम पर 13 हिन्दुओं की हत्याएँ की जा चुकी हैं।

CM केजरीवाल ने माँगे थे ₹100 करोड़, हमने ₹45 करोड़ का पता लगाया: ED ने दिल्ली हाई कोर्ट को बताया, कहा- निचली अदालत के...

दिल्ली हाई कोर्ट ने मुख्यमंत्री और AAP मुखिया अरविन्द केजरीवाल की नियमित जमानत पर अंतरिम तौर पर रोक लगा दी है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -