Video Viral: भारतीय सेना ने पाकिस्तानी ‘BAT’ की घुसपैठ को किया नाकाम

इससे पहले, जम्मू-कश्मीर के केरन सेक्टर में सुरक्षा बलों ने पाकिस्तानी फौज की बड़ी साज़िश को नाकाम करते हुए BAT के 4-5 घुसपैठियों को मार गिराया था। भारतीय सेना ने इसका वीडियो भी जारी किया था।

जम्मू-कश्मीर में अनुच्छेद-370 के निरस्त किए जाने के बाद से ही पाकिस्तान बौखलाया हुआ है। उसकी यह बौखलाहट आए दिन उजागर भी होती रहती है। ऐसा ही एक वीडियो सामने आया है जिसमें भारतीय सेना ने 12 और 13 सितंबर को बॉर्डर एक्शन टीम (BAT) की घुसपैठ को मुँहतोड़ जवाब दिया है।

पाकिस्तान की BAT टीम ने पीओके के हाजीपुर सेक्टर में घुसपैठ की कोशिश की थी। बार-बार इनकार के बावजूद पाकिस्तान, भारत में आतंकवादियों की घुसपैठ को अंजाम देने में लगा हुआ है। अगस्त में, भारतीय सेना ने नियंत्रण रेखा पर पाक द्वारा घुसपैठ की 15 कोशिशों को नाकाम कर दिया था। 

इस वीडियो में साफ़ दिख रहा है कि BAT की तरफ़ से घुसपैठ की कोशिश के दौरान पाकिस्तान के स्पेशल सर्विस ग्रुप (SSG) कमांडो और आतंकवादियों पर भारतीय सेना ने ग्रेनेड से हमला किया और उनकी नापाक कोशिशों को नाकाम कर दिया। इससे पहले, जम्मू-कश्मीर के केरन सेक्टर में सुरक्षा बलों ने पाकिस्तानी फौज की बड़ी साज़िश को नाकाम करते हुए BAT के 4-5 घुसपैठियों को मार गिराया था। भारतीय सेना द्वारा घुसपैठ की कोशिश कर रहे आतंकियों का वीडियो भी जारी किया गया था।

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

ख़बर के अनुसार, नियंत्रण रेखा से घुसपैठ के सफल और असफल प्रयासों के बारे में जानने के लिए हाल में हुई एक बैठक में सेना के प्रतिनिधि को कश्मीर क्षेत्र के गुरेज, माछिल और गुलमर्ग सेक्टरों के ऊंचाई वाले इलाकों तथा जम्मू क्षेत्र के पुंछ और राजौरी इलाक़ों में आतंकी घुसपैठ के संबंध में विभिन्न एजेंसियों द्वारा जुटाए गए साक्ष्य सौंपे गए।

ग़ौरतलब है कि जम्मू-कश्मीर पुलिस के महानिदेशक दिलबाग सिंह ने बताया था कि नियंत्रण रेखा पर घुसपैठ के कई प्रयास हुए, जिनमें से अधिकतर को विफल कर दिया गया। उन्होंने कहा कि हो सकता है कुछ आतंकी घुसपैठ करने में सफल हो गए हों, लेकिन ऐसे आतंकियों को पकड़ने के लिए कश्मीर में सर्च ऑपरेशन भी चलाया जा रहा है। बता दें कि गुलमर्ग के ऊंचाई वाले क्षेत्रों को 1990 के दशक में मध्य कश्मीर में घुसपैठ के लिए इस्तेमाल किया जाता था।

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

कमलेश तिवारी हत्याकांड
आपसी दुश्मनी में लोग कई बार क्रूरता की हदें पार कर देते हैं। लेकिन ये दुश्मनी आपसी नहीं थी। ये दुश्मनी तो एक हिंसक विचारधारा और मजहबी उन्माद से सनी हुई उस सोच से उत्पन्न हुई, जहाँ कोई फतवा जारी कर देता है, और लाख लोग किसी की हत्या करने के लिए, बेखौफ तैयार हो जाते हैं।

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

107,042फैंसलाइक करें
19,440फॉलोवर्सफॉलो करें
110,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: