Saturday, July 31, 2021
Homeदेश-समाजपटना, राँची के बाद अब अहमदनगर के मस्जिद से मिले 10 विदेशी, ट्रस्टी हुए...

पटना, राँची के बाद अब अहमदनगर के मस्जिद से मिले 10 विदेशी, ट्रस्टी हुए गिरफ्तार

पुलिस की पूछताछ में पता चला कि इनमें से 5 नागरिक पूर्वी अफ्रीका के जिबूती (Djibouti) के हैं। जबकि एक बेनिन, 3 डेकॉर्ट और एक घाना का है।

पटना, राँची और दिल्ली के बाद महाराष्ट्र के अहमदनगर जिले के नेवासा नगर स्थित एक मस्जिद से 10 विदेशियों को पुलिस ने हिरासत में लिया। इस खबर की जानकारी मराठी समाचार पोर्टल देशदूत में प्रकाशित हुई। देशदूत के मुताबिक इन दसों लोगों को पुलिस ने पकड़ लिया है और मस्जिद के ट्रस्टियों पर महाराष्ट्र आपदा प्रबंधन कानून के तहत मामला दर्ज किया है।

पुलिस कॉन्स्टेबल प्रताप सिंह भगवान ने इस संबंध में एफआईआऱ दर्ज की है। उन्होंने बताया कि 30 मार्च को नेवासा में पट्रोलिंग के दौरान रणजीत देर को एक खबरी से मालूम हुआ कि नेवासा के मरकूस मस्जिद में कुछ विदेशी ठहरे हैं। पुलिस ने जब इस सूचना के आधार पर पड़ताल की तो खबर सच्ची निकली। 

पूछताछ में पता चला कि इनमें से 5 नागरिक पूर्वी अफ्रीका के डिजबूती (जिबूती) शहर के हैं। जबकि एक बेनिन, 3 डेकॉर्ट और एक घाना का है। पुलिस ने मस्जिद के ट्रस्टी जुम्माखान नवाबखान पठान और सलीम बाबूलाल पठान को कोरोना फैलाने के आरोप में और आदेशों का उल्लंघन करने के आरोप में कई धाराओं के तहत गिरफ्तार कर लिया है।

गौरतलब है कि इससे पहले बिहार की राजधानी पटना से भी 12 विदेशियों को छिपाने का मामला सामने आया था। उस दौरान पड़ताल पर मालूम हुआ था कि पकड़े गए सभी लोग तजाकिस्तान के हैं और भारत में धर्म प्रचार करने आए थे। मगर, बिन कोरोना की जाँच करे सबसे छिपकर घूम रहे थे।

पटना में विदेशी मौलवी

इसके बाद झारखंड की राजधानी राँची के स्थित मस्जिद से भी 11 विदेशी मौलवियों को पुलिस प्रशासन ने हिरासत में लिया था। ये भी जाँच में मजहब प्रचारक के तौर पर ही सामने आए थे। इनमें से 3 मौलवी चीन से थे जबकि 4-4 किर्गिस्तान और कजाकिस्तान से थे। 

राँची में विदेशी

इसी तरह दिल्ली में भी कल निजामुद्दीन के पास मरकज भवन में कई विदेशियों के मिलने की सूचना सामने आई। जहाँ मलेशिया, इंडोनेशिया, सऊदी अरब और किर्गिस्तान समेत कई देशों के करीब 2500 से अधिक लोगों ने 1 से 15 मार्च तक तब्लीग-ए-जमात में हिस्सा लिया और बाद में उनमें से कई यहीं रुके रहे। चिंताजनक बात ये है कि इनमें से 24 की कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आ गई है।

दिल्ली निजामुद्दीन का दृश्य

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

20 से ज्यादा पत्रकारों को खालिस्तानी संगठन से कॉल, धमकी- 15 अगस्त को हिमाचल प्रदेश के CM को नहीं फहराने देंगे तिरंगा

खालिस्तान समर्थक सिख फॉर जस्टिस ने हिमाचल प्रदेश के 20 से अधिक पत्रकारों को कॉल कर धमकी दी है कि 15 अगस्त को सीएम तिरंगा नहीं फहरा सकेंगे।

‘हमारे बच्चों की वैक्सीन विदेश क्यों भेजी’: PM मोदी के खिलाफ पोस्टर पर 25 FIR, रद्द करने से सुप्रीम कोर्ट का इनकार

सुप्रीम कोर्ट ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की आलोचना वाले पोस्टर चिपकाने को लेकर दर्ज एफआईआर को रद्द करने से इनकार कर दिया।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,090FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe