Monday, June 17, 2024
Homeदेश-समाजपटना, राँची के बाद अब अहमदनगर के मस्जिद से मिले 10 विदेशी, ट्रस्टी हुए...

पटना, राँची के बाद अब अहमदनगर के मस्जिद से मिले 10 विदेशी, ट्रस्टी हुए गिरफ्तार

पुलिस की पूछताछ में पता चला कि इनमें से 5 नागरिक पूर्वी अफ्रीका के जिबूती (Djibouti) के हैं। जबकि एक बेनिन, 3 डेकॉर्ट और एक घाना का है।

पटना, राँची और दिल्ली के बाद महाराष्ट्र के अहमदनगर जिले के नेवासा नगर स्थित एक मस्जिद से 10 विदेशियों को पुलिस ने हिरासत में लिया। इस खबर की जानकारी मराठी समाचार पोर्टल देशदूत में प्रकाशित हुई। देशदूत के मुताबिक इन दसों लोगों को पुलिस ने पकड़ लिया है और मस्जिद के ट्रस्टियों पर महाराष्ट्र आपदा प्रबंधन कानून के तहत मामला दर्ज किया है।

पुलिस कॉन्स्टेबल प्रताप सिंह भगवान ने इस संबंध में एफआईआऱ दर्ज की है। उन्होंने बताया कि 30 मार्च को नेवासा में पट्रोलिंग के दौरान रणजीत देर को एक खबरी से मालूम हुआ कि नेवासा के मरकूस मस्जिद में कुछ विदेशी ठहरे हैं। पुलिस ने जब इस सूचना के आधार पर पड़ताल की तो खबर सच्ची निकली। 

पूछताछ में पता चला कि इनमें से 5 नागरिक पूर्वी अफ्रीका के डिजबूती (जिबूती) शहर के हैं। जबकि एक बेनिन, 3 डेकॉर्ट और एक घाना का है। पुलिस ने मस्जिद के ट्रस्टी जुम्माखान नवाबखान पठान और सलीम बाबूलाल पठान को कोरोना फैलाने के आरोप में और आदेशों का उल्लंघन करने के आरोप में कई धाराओं के तहत गिरफ्तार कर लिया है।

गौरतलब है कि इससे पहले बिहार की राजधानी पटना से भी 12 विदेशियों को छिपाने का मामला सामने आया था। उस दौरान पड़ताल पर मालूम हुआ था कि पकड़े गए सभी लोग तजाकिस्तान के हैं और भारत में धर्म प्रचार करने आए थे। मगर, बिन कोरोना की जाँच करे सबसे छिपकर घूम रहे थे।

पटना में विदेशी मौलवी

इसके बाद झारखंड की राजधानी राँची के स्थित मस्जिद से भी 11 विदेशी मौलवियों को पुलिस प्रशासन ने हिरासत में लिया था। ये भी जाँच में मजहब प्रचारक के तौर पर ही सामने आए थे। इनमें से 3 मौलवी चीन से थे जबकि 4-4 किर्गिस्तान और कजाकिस्तान से थे। 

राँची में विदेशी

इसी तरह दिल्ली में भी कल निजामुद्दीन के पास मरकज भवन में कई विदेशियों के मिलने की सूचना सामने आई। जहाँ मलेशिया, इंडोनेशिया, सऊदी अरब और किर्गिस्तान समेत कई देशों के करीब 2500 से अधिक लोगों ने 1 से 15 मार्च तक तब्लीग-ए-जमात में हिस्सा लिया और बाद में उनमें से कई यहीं रुके रहे। चिंताजनक बात ये है कि इनमें से 24 की कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आ गई है।

दिल्ली निजामुद्दीन का दृश्य
Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

बकरों के कटने से दिक्कत नहीं, दिवाली पर ‘राम-सीता बचाने नहीं आएँगे’ कह रही थी पत्रकार तनुश्री पांडे: वायर-प्रिंट में कर चुकी हैं काम,...

तनुश्री पांडे ने लिखा था, "राम-सीता तुम्हें प्रदूषण से बचाने के लिए नहीं आएँगे। अगली बार साफ़-स्वच्छ दिवाली मनाइए।" बकरीद पर बदल गए सुर।

पावागढ़ की पहाड़ी पर ध्वस्त हुईं तीर्थंकरों की जो प्रतिमाएँ, उन्हें फिर से करेंगे स्थापित: गुजरात के गृह मंत्री का आश्वासन, महाकाली मंदिर ने...

गुजरात के गृह मंत्री हर्ष संघवी ने कहा कि किसी भी ट्रस्ट, संस्था या व्यक्ति को अधिकार नहीं है कि इस पवित्र स्थल पर जैन तीर्थंकरों की ऐतिहासिक प्रतिमाओं को ध्वस्त करे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -