Sunday, July 21, 2024
Homeदेश-समाजपश्चिम बंगाल में 10 काँवड़ियों की मौत, 19 घायल: कूच बिहार में जिस पिकअप...

पश्चिम बंगाल में 10 काँवड़ियों की मौत, 19 घायल: कूच बिहार में जिस पिकअप वैन पर सवार थे शिवभक्त उसमें दौड़ा करंट

"शुरुआती जाँच से पता चलता है कि यह घटना जेनरेटर (DJ सिस्टम) की वायरिंग के कारण हुई होगी, जो वाहन के पिछले हिस्से में लगाया गया था।”

पश्चिम बंगाल के कूच बिहार से दर्दनाक हादसे की खबर सामने आई है। रविवार (31 जुलाई 2022) देर रात करंट लगने से 10 काँवड़ियों की मौत हो गई। 19 घायल हैं। घायलों को इलाज के लिए नजदीकी अस्पताल ले जाया गया। हालत नाजुक होने के चलते उन्हें जलपाईगुड़ी रेफर कर दिया गया है। मृतकों का शव पोस्टमॉर्टम के लिए भेज पुलिस आगे की कार्रवाई कर रही है।

पुलिस ने बताया कि घायलों को पहले चंगरबंधा के अस्पताल लाया गया। वहाँ पर मौजूद चिकित्सा अधिकारी ने 16 व्यक्तियों को बेहतर इलाज के लिए जलपाईगुड़ी जिला अस्पताल रेफर कर दिया। उन्हें मामूली चोटें आई हैं, लेकिन अच्छी तरह से जाँच की जरूरत है।

जानकारी के मुताबिक काँवड़ियों का एक जत्था जलपेश जा रहा था। सभी शिवभक्त पिकअप वैन में सवार थे। पिकअप में डीजे भी लगा था। इसी दौरान वाहन में करंट फैल गया, जिससे 10 काँवड़ियों की मौत हो गई। पुलिस का कहना है कि यह घटना वाहन में डीजे सिस्टम के जनरेटर की वायरिंग के कारण हुई होगी। इसी से पूरे वाहन में करंट फैला होगा।

घटना मेखलीगंज थाना क्षेत्र के धरला ब्रिज पर हुई। माताभंगा के अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक अमित वर्मा ने बताया, “आधी रात के करीब मेखलीगंज थाने के धरला ब्रिज पर एक घटना हुई, जहाँ जलपेश जा रहे काँवड़ियों को ले जा रही एक पिकअप वैन में करंट लग गया। शुरुआती जाँच से पता चलता है कि यह घटना जेनरेटर (DJ सिस्टम) की वायरिंग के कारण हुई होगी, जो वाहन के पिछले हिस्से में लगाया गया था।” उन्होंने बताया कि सभी यात्री सीतलकुची थाना क्षेत्र के रहने वाले थे और उनके परिजनों को इस दुखद घटना की सूचना दे दी गई है।

वर्मा ने बताया कि वाहन को जब्त कर लिया गया है। ड्राइवर फरार है। उसकी तलाश की जा रही है। वरिष्ठ अधिकारी मौके पर मौजूद हैं। पुलिस राहत और किसी भी आवश्यक सहायता के लिए कोऑर्डिनेट कर रही है। मामले में जाँच जारी है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

बांग्लादेश में आरक्षण खत्म: सुप्रीम कोर्ट ने कोटा व्यवस्था को रद्द किया, दंगों की आग में जल रहा है मुल्क

प्रदर्शनकारी लोहे के रॉड हाथों में लेकर सेन्ट्रल डिस्ट्रिक्ट जेल पहुँच गए और 800 कैदियों को रिहा कर दिया। साथ ही जेल को आग के हवाले कर दिया गया।

‘कमाल का है PM मोदी का एनर्जी लेवल, अनुच्छेद-370 हटाने के लिए चाहिए था दम’: बोले ‘दृष्टि’ वाले विकास दिव्यकीर्ति – आर्य समाज और...

विकास दिव्यकीर्ति ने बताया कि कॉलेज के दिनों में कई मुस्लिम दोस्त उनसे झगड़ा करते थे, क्योंकि उन्हें RSS के पक्ष से बहस करने वाला माना जाता था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -