Wednesday, May 22, 2024
Homeदेश-समाजकाशी के 125 वर्षीय योग गुरु स्वामी शिवानंद को राष्ट्रपति कोविंद ने पद्मश्री पुरस्कार...

काशी के 125 वर्षीय योग गुरु स्वामी शिवानंद को राष्ट्रपति कोविंद ने पद्मश्री पुरस्कार से सम्मानित किया, PM मोदी भी हुए नतमस्तक: देखें वीडियो

योग गुरु शिवानंद ने दो बार झुककर राष्ट्रपति को दंडवत प्रणाम किया। यह दृश्य देख राष्ट्रपति कोविंद भी अपनी कुर्सी से उठ खड़े हुए और आगे बढ़कर स्वामी शिवानंद को उठाया और पद्मश्री पुरस्कार से सम्मानित किया।

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद (President Ram Nath Kovind) ने सोमवार (22 मार्च 2022) को राष्ट्रपति भवन में आयोजित पुरस्कार समारोह में काशी के 125 वर्षीय योग गुरु स्वामी शिवानंद (Swami Sivananda) समेत कई हस्तियों को पद्म पुरस्कारों से सम्‍मानित किया।

राष्ट्रपति भवन में सम्मान समारोह के दौरान जब राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने योग गुरु स्वामी शिवानंद को पद्मश्री से सम्मानित करने के लिए उनके नाम की घोषणा की, तो वह बड़ी ही फुर्ती के साथ अपनी कुर्सी से उठे और तीन बार अपना शीश झुकाया। सबसे पहले उन्होंने प्रधानमंत्री मोदी के सामने शीश झुकाया। इस दौरान PM ने भी कुर्सी से उठकर स्वामी शिवानंद को प्रणाम किया। इस मौके पर उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू और गृह मंत्री अमित शाह समेत कई नेता उनके सम्मान में अपनी कुर्सी से उठ गए थे और तालियों से उनका अभिवादन किया।

इसके बाद योग गुरु शिवानंद ने दो बार झुककर राष्ट्रपति को दंडवत प्रणाम किया। यह दृश्य देख राष्ट्रपति कोविंद भी अपनी कुर्सी से उठ खड़े हुए और आगे बढ़कर स्वामी शिवानंद को उठाया और पद्मश्री पुरस्कार से सम्मानित किया। बताया जाता है कि बाबा शिवानंद कबीरनगर इलाके के रहने वाले हैं, वह 125 साल की उम्र में भी पूरी तरह से स्वस्थ हैं।

जानकारी के मुताबिक, स्वामी शिवानंद की जन्मतिथि आधार कार्ड पर 8 अगस्त 1896 दर्ज है। उनका जन्म बंगाल के श्रीहट्टी जिले में हुआ था। भूख की वजह से माता-पिता की मौत होने के कारण वह आधा पेट भोजन ही करते हैं। माता-पिता की मौत के बाद वह बंगाल से काशी आ गए और यहाँ पर गुरु ओंकारानंद से दीक्षा ली। 1925 में अपने गुरु के आदेश पर वह दुनिया भ्रमण पर निकले और करीब 34 साल तक देश-विदेश घूमते रहे।

बता दें कि पद्म पुरस्कार तीन श्रेणियों में प्रदान किए जाते हैं। पहला पद्म विभूषण, दूसरा पद्म भूषण और तीसरा पद्म श्री। आज दो हस्तियों को पद्म विभूषण, आठ को पद्म भूषण और 54 को पद्म श्री से सम्‍मानित किया गया।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

जम्मू-कश्मीर में फिर से 370 बहाल करने से सुप्रीम कोर्ट का इनकार, कहा- फैसला सही था: CJI की बेंच ने पुनर्विचार याचिकाओं को किया...

सुप्रीम कोर्ट ने जम्मू कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाए जाने पर दिए गए निर्णय को लेकर दाखिल पुनर्विचार याचिकाओं को खारिज कर दिया।

‘दिखाता खुद को सेकुलर है, पर है कट्टर इस्लामी’ : हिंदू पीड़िता ने बताया आकिब मीर ने कैसे फँसाया निकाह के जाल में, ठगे...

पीड़िता ने ऑपइंडिया को बताया कि आकिब खुद को सेकुलर दिखाता है, लेकिन असल में वो है इस्लामवादी। उसने महिला से कहा हुआ था वह हिंदू देवताओं को न पूजे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -