Tuesday, July 27, 2021
Homeदेश-समाज'1 Rupee clinic' की मदद से युवती ने स्टेशन पर बच्चे को जन्म दिया,...

‘1 Rupee clinic’ की मदद से युवती ने स्टेशन पर बच्चे को जन्म दिया, पीयूष गोयल ने किया रीट्वीट

मैजिकदिल द्वारा शुरू हुए "1 रुपए क्लिनिक" की परिकल्पना हर आम व्यक्ति के स्वास्थ्य लाभ के लिए है। जहाँ भागती दौड़ती जिंदगी में लोग स्वास्थ्य से दूर होते जा रहे हैं वहीं भारतीय रेलवे के साथ मिलकर मैजिकदिल ने मुम्बई के हर लोकल स्टेशन पर यह सुविधा उपलब्ध कराई है।

कल (अप्रैल 26, 2019) 20 साल की एक लड़की ने कोंकण कन्या एक्सप्रेस में सफर करते हुए ठाणे स्टेशन पर नवजात को जन्म दिया। ट्रेन में सफर के दौरान युवती को प्रसव पीड़ा शुरु हुई तो “1 रुपए क्लिनिक” की स्टाफ ने उस लड़की की मदद की और विषम परिस्थितियों में भी एक माँ का प्रसव सही सलामत कराया।

“1 रुपए क्लिनिक” की इस उपलब्धि को रेल मंत्री ने अपने ट्विटर अकॉउंट पर शेयर किया और साथ ही लिखा कि ठाणे के चौकीदार राष्ट्र की सेवा करने के लिए हमेशा तैयार रहते हैं। जाहिर है इस घटना के बाद “1 रुपए क्लिनिक” की निष्ठा और लगन की जितनी तारीफ की जाए उतनी कम है। किसी भी महिला के जीवन में प्रसव एक ऐसा अनुभव होता है जिसमें भले ही स्त्री को असीम पीड़ा से गुजरना पड़े लेकिन वो उसका मलाल कभी नहीं करती। लेकिन सच यह भी है कि कई बार उचित स्वास्थ्य सुविधा न मिलने के कारण इस वेदना को झेलते हुए स्त्रियाँ अपनी जान तक गवाँ बैठती हैं।

भारतीय रजिस्ट्रार जनरल कार्यालय के अनुसार साल 2011-13 में एक लाख जीवित शिशुओं के जन्म पर 167 महिलाओं की जान प्रसव के दौरान गई थी। हालाँकि 2014-16 में 22 प्रतिशत की कमी के साथ ये सूची 167 से घटकर 130 हो गई। स्पष्ट है कि यदि उचित स्वास्थ्य सुविधाएँ उपलब्ध हो तो प्रसव पीड़ा के कारण होती मौतों को भी रोका जा सकता है। लेकिन सवाल ये है कि क्या बेहतर स्वास्थ्य सुविधाएँ सबके लिए उपलब्ध हैं कि समाज का हर तबका उनका लाभ उठा सके?

एक ओर जहाँ झोलाछाप डॉक्टरों ने भी आज अपना शुल्क निम्न वर्ग के व्यक्ति की एक दिन की आय जितना कर दिया है वहीं भारतीय रेलवे के सहयोग से संचालित होने वाली “1 रुपए क्लिनिक” मात्र ₹1 में स्वास्थ्य संबंधी परामर्श देता है। इनकी वेबसाइट के होमपेज पर ही इसका जिक्र है। इतना ही नहीं यहाँ मात्र ₹5 में ब्लड प्रेशर की जाँच होती है और ECG का शुल्क केवल ₹50 है। मैजिकदिल द्वारा शुरू हुए “1 रुपए क्लिनिक” की परिकल्पना हर आम व्यक्ति के स्वास्थ्य लाभ के लिए है। जहाँ भागती दौड़ती जिंदगी में लोग स्वास्थ्य से दूर होते जा रहे हैं वहीं भारतीय रेलवे के साथ मिलकर मैजिकदिल ने मुम्बई के हर लोकल स्टेशन पर यह सुविधा उपलब्ध कराई है। यहाँ चौबीस घंटे न केवल प्रशिक्षित MBBS डॉक्टरों से परामर्श केवल ₹1 में मिलता है बल्कि फार्मेसी और डायग्नोस्टिक सेन्टर जैसी सुविधाएँ भी डिस्काउंट पर उपलब्ध हैं।

आर्थिक स्थिति ठीक न रहने के कारण जो लोग अपनी स्वास्थ संबंधी दिक्कतों को नजरअंदाज करने की अनचाही कोशिश करते थे, उनके पास अब खुद का इलाज कराने के लिए एक बेहतर विकल्प मौजूद है। मैजिकदिल का मकसद किसी क्षेत्र तक सीमित न रहकर बड़े पैमाने पर विस्तार करना है ताकि कोई भी अक्षम व्यक्ति स्वास्थ्य के सवाल से समझौता न करे और पैसों की कमी के चलते हार न माने और सुविधा का लाभ उठाए। “1 रुपए क्लिनिक” मुंबई के लगभग हर लोकल स्टेशन पर मौजूद है।

मुम्बई जाती ट्रेन में लड़की के प्रसव के दौरान “1 रुपए क्लिनिक” की सक्रियता बेहद सराहनीय है। क्योंकि सही समय पर मदद न पहुँचने पर कुछ भी अनहोनी हो सकती थी। प्रसव भले ही एक प्राकृतिक प्रक्रिया है, लेकिन आज के समय में उचित स्वास्थ्य सुविधा मिलना सबसे बड़ी जरूरत है क्योंकि बीमारी कोई भी हो लेकिन इलाज सबका होना जरूरी है।

“1 Rupee” clinic वेबसाइट का लिंक- https://www.1rupeeclinic.com/about_us

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

नाम: नूर मुहम्मद, काम: रोहिंग्या-बांग्लादेशी महिलाओं और बच्चों को बेचना; 36 घंटे चला UP पुलिस का ऑपरेशन, पकड़ा गया गिरोह

देश में रोहिंग्याओं को बसाने वाले अंतरराष्ट्रीय मानव तस्करी के गिरोह का उत्तर प्रदेश एटीएस ने भंडाफोड़ किया है। तीन लोगों को अब तक गिरफ्तार किया गया है।

‘राजीव गाँधी थे PM, उत्तर-पूर्व में गिरी थी 41 लाशें’: मोदी सरकार पर तंज कसने के फेर में ‘इतिहासकार’ इरफ़ान हबीब भूले 1985

इतिहासकार व 'बुद्धिजीवी' इरफ़ान हबीब ने असम-मिजोरम विवाद के सहारे मोदी सरकार पर तंज कसा, जिसके बाद लोगों ने उन्हें सही इतिहास की याद दिलाई।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,464FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe