Sunday, October 17, 2021
Homeदेश-समाजट्रैक्टर मार्च हिंसा: लाल किले के गुंबद पर चढ़े उपद्रवी जसप्रीत को भी दिल्ली...

ट्रैक्टर मार्च हिंसा: लाल किले के गुंबद पर चढ़े उपद्रवी जसप्रीत को भी दिल्ली पुलिस ने किया गिरफ्तार

जसप्रीत वह शख्स है जो पूर्व में गिरफ्तार हुए आरोपित मनिंदर सिंह के पीछे खड़ा थाा। मनिंदर वही शख्स है जिसका लाल किला पर दो तलवार लहराता वीडियो वायरल हुआ था। अभी हाल ही में उसे भी दिल्ली से गिरफ्तार किया गया है और वह भी....

कृषि कानून के विरोध में आंदोलन कर रहे किसानों द्वारा 26 जनवरी को निकाली गई ट्रैक्टर रैली के दौरान लाल किले पर हुई हिंसा मामले में पुलिस ने एक और आरोपित जसप्रीत को गिरफ्तार कर लिया है। जसप्रीत सिंह ऊर्फ सनी पर आरोप है कि वह 26 जनवरी के दिन लाल किले के गुंबद पर चढ़ा था और उस वक्त उसके हाथों में स्टील का रॉड था। पुलिस ने जसप्रीत (29) पुत्र रघुबीर सिंह निवासी स्वरूप दिल्ली को आज (फरवरी 22, 2021) दिल्ली से ही पकड़ा है। दिल्ली पुलिस ने 26 जनवरी के कुछ वीडियोज-फोटोज के आधार पर उसे गिरफ्तार किया है।

जसप्रीत वह शख्स है जो पूर्व में गिरफ्तार हुए आरोपित मनिंदर सिंह के पीछे खड़ा थाा। मनिंदर वही शख्स है जिसका लाल किला पर दो तलवार लहराता वीडियो वायरल हुआ था। अभी हाल ही में उसे भी दिल्ली से गिरफ्तार किया गया है और वह भी स्वरूप नगर का ही रहने वाला है। जब लाल किले की प्राचीर पर भीड़ घुस आई थी तब जसप्रीत ही वो शख्स था जो लाल किला के प्राचीर की दोनों तरफ बने गुंबदों में से एक गुंबद पर चढ़ गया था। वह वहाँ पर स्टील की छड़ को पकड़े हुए आपत्तिजनक इशारे भी कर रहा था। 

ट्रैक्टर रैली के दौरान 26 जनवरी को लाल किला पर हुई हिंसा के मामले में शनिवार (फरवरी 20, 202) को दिल्ली पुलिस ने 20 और उपद्रवियों के फोटो जारी किए। इससे पहले भी पुलिस 200 उपद्रवियों के फोटो जारी कर चुकी है। पुलिस अधिकारियों का कहना है कि बेहद वैज्ञानिक जाँच और पूरी तरह साफ होने के बाद ही इनके फोटो जारी किए गए हैं। 

पुलिस अधिकारियों का कहना है कि जाँच के बाद जिन लोगों की पहचान होती जा रही है पुलिस उन तक पहुँच रही है। आरोपितों का पता न चलने की सूरत में उनके फोटो जारी किए जा रहे हैं। दिल्ली पुलिस के वरिष्ठ अधिकारियों ने बताया कि 26 जनवरी को हुई हिंसा के बाद अपराध शाखा की एसआईटी ने मामले की जाँच की।

इसके लिए उस दिन के फोटो, वीडियो और सीसीटीवी फुटेज जुटाए गए। इसकी मदद से लगातार आरोपितों की पहचान की जा रही है। इसके लिए पुलिस फेशियल रिकग्निशन, जियो लोकेशन समेत अन्य तरीकों से पहचान कर रही है। वहीं उपद्रवियों के वाहन नंबरों से भी उनकी पहचान करने का प्रयास किया जा रहा है।

गौरतलब है कि 26 जनवरी को ट्रैक्टर मार्च के दौरान यह हिंसा हुई थी। इसमें प्रदर्शनकारी किसान लाल किले में दाखिल हो गए थे। वहाँ उन्होंने धार्मिक निशान वाला झंडा भी फहराया था। पुलिस ने कहा था कि प्रदर्शनकारी किसान तय ट्रैक्टर मार्च रूट को तोड़कर लाल किले पहुँचे थे। इस हिंसा में 400 के करीब पुलिसवाले जख्मी हुए थे। फिलहाल पुलिस इस मामले में तेजी से कार्रवाई कर रही है।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘बेअदबी करने वालों को यही सज़ा मिलेगी, हम गुरु की फौज और आदि ग्रन्थ ही हमारा कानून’: हथियारबंद निहंगों को दलित की हत्या पर...

हथियारबंद निहंग सिखों ने खुद को गुरू ग्रंथ साहिब की सेना बताया। साथ ही कहा कि गुरु की फौजें किसानों और पुलिस के बीच की दीवार हैं।

सरकारी नौकरी से निकाला गया सैयद अली शाह गिलानी का पोता, J&K में रिसर्च ऑफिसर बन कर बैठा था: आतंकियों के समर्थन का आरोप

अलगाववादी नेता रहे सैयद अली शाह गिलानी के पोते अनीस-उल-इस्लाम को जम्मू कश्मीर में सरकारी नौकरी से निकाल बाहर किया गया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
129,107FollowersFollow
411,000SubscribersSubscribe