Saturday, July 20, 2024
Homeदेश-समाजलाल किला हिंसा में कार्रवाई हुई तेज: दिल्ली पुलिस ने जारी की 20 अन्य...

लाल किला हिंसा में कार्रवाई हुई तेज: दिल्ली पुलिस ने जारी की 20 अन्य उपद्रवियों की तस्वीरें

इसके पहले दिल्ली पुलिस ने शुक्रवार को भी लाल किला हिंसा मामले में 200 लोगों की तस्वीर जारी की थी। इन सभी पर हिंसा में शामिल होने का आरोप है। दिल्ली पुलिस ने बताया कि उसने विभिन्न स्रोतों से मिले वीडियो को स्कैन करने के बाद आरोपितों की तस्वीर जारी की है।

गणतंत्र दिवस पर देश की राजधानी दिल्ली में किसानों की ट्रैक्टर परेड के दौरान दिल्ली के लाल किला पर हिंसा फैलाने वालों की पुलिस पहचान कर रही है। दिल्ली पुलिस ने हिंसा में कथित तौर पर शामिल 20 अन्य उपद्रवियों की तस्वीर जारी की है।

इसके पहले दिल्ली पुलिस ने शुक्रवार (फरवरी 19, 2021) को लाल किला हिंसा मामले में 200 लोगों की तस्वीर जारी की थी। इन सभी पर हिंसा में शामिल होने का आरोप है। दिल्ली पुलिस ने बताया कि उसने विभिन्न स्रोतों से मिले वीडियो को स्कैन करने के बाद आरोपितों की तस्वीर जारी की है।

पुलिस ने बताया कि तस्वीरें जारी करने के साथ ही इनकी पहचान करने का काम भी किया जा रहा है। इसके लिए पुलिस की टीमें जुट गई हैं। तीन कृषि कानूनों के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे किसानों ने 26 जनवरी को जब देश का गणतंत्र दिवस मनाया जा रहा था उसी दिन ट्रैक्टर परेड निकाला था। ट्रैक्टर परेड के दौरान हिंसा भड़क गई थी और एक गुट लाल किले पर पहुँच गया था। इस दौरान वहाँ पुलिस वालों के साथ मारपीट करते हुए लाल किले पर निशान साहिब फहरा दिया गया था। दिल्ली में अन्य कई जगहों पर भी पुलिस और किसानों के बीच संघर्ष हुआ था।

ट्रैक्टर परेड के दौरान हिंसा एक सुनियोजित साजिश के तहत की गई थी। इसका प्रमाण है कि पुलिस को जो फुटेज मिले हैं उसमें से ज्यादातर हमलावर नकाबपोश थे। पुलिस अधिकारियों की माने तो इसमें पचास से अधिक लोग नकाबपोश थे। पुलिस उन फोटोग्राफ को फेशियल रिकॉग्निशन तकनीक के जरिए बेनकाब करने में जुट गई है। साथ ही पुलिस डंप डाटा के जरिए भी संदिग्धों के लोकेशन तलाशने में जुटी है।

बता दें कि नकाबपोश उपद्रवियों को लाल किला में हिंसा के दौरान पुलिस कर्मियों पर हमला करते हुए देखा गया है। कई तो पुलिसकर्मियों को घेरकर उन पर हमला कर रहे थे। पुलिस फेशियल रिकॉग्निशन तकनीक और मुखबिर के जरिए इन आरोपितों की पहचान करने में जुटी है। ज्यादातर फोटोग्राफ में नकाबपोश उपद्रवियों के पास हथियार या फिर लाठी डंडे थे। पुलिस अधिकारियों का कहना है कि सोशल मीडिया के जरिए क्राइम ब्रांच को अब तक डेढ़ हजार वीडियो मिल चुके हैं। जिसके जरिए हिंसा में शामिल एक-एक लोगों की पहचान करने की कोशिश की जा रही है। 

इससे पहले दिल्ली पुलिस ने हिंसा करने वाले 12 उपद्रवियों की तस्वीरें जारी की थी। चिन्हित किए गए इन उपद्रवियों को हिंसा के दौरान हाथ में लाठी डंडे लिए, पत्थरबाजी, तोड़फोड़ और लाल किला समेत कई जगहों पर जमकर उत्पात और पुलिस वालों पर हमला करते हुए देखा गया।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

फैक्ट चेक’ की आड़ लेकर भारत में ‘प्रोपेगेंडा’ फैलाने की तैयारी कर रहा अमेरिका, 1.67 करोड़ रुपए ‘फूँक’ तैयार कर रहा ‘सोशल मीडिया इन्फ्लूएंसर्स’...

अमेरिका कथित 'फैक्ट चेकर्स' की फौज को तैयार करने की योजना को चतुराई से 'डिजिटल लिटरेसी' का नाम दे रहा है, लेकिन इनका काम होगा भारत में अमेरिकी नरेटिव को बढ़ावा देना।

मुस्लिम फल विक्रेताओं एवं काँवड़ियों वाले विवाद में ‘थूक’ व ‘हलाल’ के अलावा एक और पहलू: समझिए सच्चर कमिटी की रिपोर्ट और असंगठित क्षेत्र...

काँवड़ियों के पास ये विकल्प क्यों नहीं होना चाहिए, अगर वो सिर्फ हिन्दू विक्रेताओं से ही सामान खरीदना चाहते हैं तो? मुस्लिम भी तो लेते हैं हलाल?

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -