Sunday, July 21, 2024
Homeदेश-समाजबिस्किट खरीदने निकला 5 साल का बच्चा, पड़ोसी रूबी बीबी की छत पर मिला...

बिस्किट खरीदने निकला 5 साल का बच्चा, पड़ोसी रूबी बीबी की छत पर मिला क्षत-विक्षत शव: गला रेत कर की गई हत्या, बंगाल पुलिस पर लापरवाही के आरोप

पुलिस भी लापता बच्चे का पता नहीं लगा सकी। ज्यादा समय बीतने पर स्थानीय लोगों का गुस्सा बढ़ने लगा।

पश्चिम बंगाल के बीरभूम जिले (Birbhum) के शांति निकेतन इलाके में मंगलवार (20 सितंबर, 2022) को 5 वर्षीय बच्चे का क्षत-विक्षत शव मिला। बच्चा रविवार (18 सितंबर, 2022) की सुबह से लापता था। नाबालिग का शव उसकी पड़ोसी रूबी बीबी के घर की छत पर मिला था। रिपोर्ट्स के मुताबिक, जब स्थानीय लोग पड़ोसी रूबी बीबी की छत पर गए, तो उन्हें नाबालिग का शव तिरपाल में लिपटा मिला। उसकी गला रेत कर हत्या की गई थी।

नाबालिग लड़के का शव मिलने की खबर फैलते ही गुस्साए ग्रामीण रूबी बीबी के घर के बाहर जमा हो गए और प्रदर्शन करने लगे। गुस्साई भीड़ ने रूबी के घर में आग लगा दी। उन्होंने पश्चिम बंगाल पुलिस पर लापरवाही का आरोप लगाते हुए दावा किया कि वे बच्चे के लापता होने के 50 घंटे से अधिक समय बाद भी उसका पता लगाने में नाकाम रहे।

जानकारी के अनुसार, शांतिनिकेतन थाना क्षेत्र के मोलडांगा गाँव के तालीपारा में रहने वाला 5 वर्षीय बच्चा रविवार (18 सितंबर, 2022) को बिस्किट खरीदने के लिए गया था और वापस घर नहीं लौटा। काफी देर तक घर नहीं लौटने पर उसके परिजन चिंतित हो गए और उसकी तलाश करने लगे। उन्होंने गाँव और आसपास की कई जगहों पर उसको ढूँढा, लेकिन वह नहीं मिला। पुलिस भी लापता बच्चे का पता नहीं लगा सकी। ज्यादा समय बीतने पर स्थानीय लोगों का गुस्सा बढ़ने लगा। पश्चिम बंगाल पुलिस पर लापरवाही का आरोप लगाते हुए स्थानीय लोगों ने न्याय की माँग करते हुए सड़कों और हाईवे को जाम कर दिया।

आखिरकार, 20 सितंबर को रूबी बीबी के घर के टिन शेड पर एक बैग पड़ा हुआ देखकर कुछ स्थानीय लोगों को शक हुआ। जब वे वहाँ गए तो उन्हें तिरपाल में लिपटा हुआ नाबालिग का क्षत-विक्षत शव मिला। उसका गला रेता हुआ था। स्थानीय लोगों ने तुरंत इसकी सूचना पुलिस को दी। मौके पर पहुँची पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

शुक्र है मीलॉर्ड ने भी माना कि वो इंसान हैं! चाइल्ड पोर्नोग्राफी देखने को मद्रास हाई कोर्ट ने नहीं माना था अपराध, अब बदला...

चाइल्ड पोर्नोग्राफी को अपराध नहीं बताने वाले फैसले को मद्रास हाई कोर्ट के जज एम. नागप्रसन्ना ने वापस लिया और कहा कि जज भी मानव होते हैं।

आरक्षण के खिलाफ बांग्लादेश में धधकी आग में 115 की मौत, प्रदर्शनकारियों को देखते ही गोली मारने के आदेश: वहाँ फँसे भारतीयों को वापस...

बांग्लादेश में उपद्रवियों को देखते ही गोली मारने के भी आदेश दिए गए हैं। वहाँ हिंसा में अब तक 115 लोगों की जान जा चुकी है और 1500+ घायल हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -