Tuesday, October 19, 2021
Homeदेश-समाज26 जनवरी की हिंसा के बाद दिल्ली पुलिस अलर्ट, चक्का जाम से निपटने को...

26 जनवरी की हिंसा के बाद दिल्ली पुलिस अलर्ट, चक्का जाम से निपटने को 50 हजार जवान तैनात

क़ानून-व्यवस्था की स्थिति दुरुस्त रखने के लिए दिल्ली-एनसीआर के तमाम इलाकों में पुलिसकर्मियों के अलावा अर्धसैनिक बल भी तैनात किए गए हैं।

दिल्ली की सीमाओं पर प्रदर्शन कर रहे कथित ‘किसानों’ ने आज (6 फरवरी 2021) ‘चक्का जाम’ का आह्वान किया है। यह चक्का जाम उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड को छोड़कर पूरे देश में दोपहर 12 से 3 बजे के बीच करने का ऐलान है। किसान संगठन के नेताओं ने कहा था कि चक्का जाम ‘शांतिपूर्ण’ होगा, लेकिन 26 जनवरी को ट्रैक्टर रैली की आड़ में हुए उपद्रव के बाद को देखते हुए पुलिस और सुरक्षाबल पूरी तरह मुस्तैद हैं। 

कृषि संगठनों द्वारा आज आयोजित किए गए चक्का जाम के दौरान किसी भी तरह की अनहोनी से निपटने के लिए भारी संख्या में दिल्ली पुलिस के कर्मचारी तैनात किए गए हैं। क़ानून-व्यवस्था की स्थिति दुरुस्त रखने के लिए दिल्ली-एनसीआर के तमाम इलाकों में पुलिसकर्मियों के अलावा अर्धसैनिक बल (Paramilitary Forces) भी तैनात किए गए हैं। 

राजधानी के अलग-अलग क्षेत्रों में शांति व्यवस्था बनाए रखने के लिए लगभग 50000 दिल्ली पुलिस के कर्मचारी और अर्धसैनिक बल मुस्तैद हैं। दिल्ली के लगभग 12 मेट्रो स्टेशन एलर्ट पर रखे गए हैं। 26 जनवरी को ‘किसान आंदोलन’ की आड़ में हुई हिंसा और उपद्रव को मद्देनज़र रखते हुए इस बार पर्याप्त सुरक्षा व्यवस्था की गई है। गणतंत्र दिवस के मौके पर हुई ट्रैक्टर रैली में लगभग 300 से अधिक पुलिसकर्मी घायल हुए थे। 

बीते दिन चक्का जाम से जुड़ी एक और अहम ख़बर सामने आई थी, जिसके मुताबिक़ केवल दो राज्यों में चक्का जाम नहीं होगा। ये 2 राज्य- उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड हैं। भारतीय किसान यूनियन के प्रवक्ता राकेश टिकैत ने कहा था, “उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड में चक्का जाम नहीं है, बाकी दिल्ली के बाहर पूरे देश में रोड ब्लॉक की जाएँगी। इसका कारण है कि दिल्ली में उन लोगों को कभी भी जरूरत पड़ने पर बुलाया जा सकता है।”

6 फरवरी को किसानों द्वारा किए जाने वाले चक्का जाम को कॉन्ग्रेस ने अपना समर्थन दे रखा है। वहीं हरियाणा में राज्य सरकार ने स्थिति को देखते हुए हर तरह के इंटरनेट को बंद कर रखा है। सरकार ने वॉयस कॉल को छोड़कर इंटरनेट सेवाओं (2जी/3जी/4जी/सीडीएमए/जीपीआरएस), एसएमएस सेवाओं (केवल ब्लक एसएमएस) और मोबाइल नेटवर्क पर दी जाने वाली सभी डोंगल सेवाओं को बंद करने की अवधि 6 फरवरी, 2021 शाम 5 बजे तक के लिए बढ़ा दी है।

वहीं भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत ने समर्थकों से अपील करते हुए कहा था कि जो लोग प्रदर्शन स्थल पर नहीं आ सकते हैं, वह जहाँ कहीं भी हैं वहाँ रह कर ‘शांतिपूर्ण तरीके’ से चक्का जाम करें

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘बांग्लादेश का नया नाम जिहादिस्तान, हिन्दुओं के दो गाँव जल गए… बाँसुरी बजा रहीं शेख हसीना’: तस्लीमा नसरीन ने साधा निशाना

तस्लीमा नसरीन ने बांग्लादेश में हिंदुओं पर कट्टरपंथी इस्लामियों द्वारा किए जा रहे हमले पर प्रधानमंत्री शेख हसीना पर निशाना साधा है।

पीरगंज में 66 हिन्दुओं के घरों को क्षतिग्रस्त किया और 20 को आग के हवाले, खेत-खलिहान भी ख़ाक: बांग्लादेश के मंत्री ने झाड़ा पल्ला

एक फेसबुक पोस्ट के माध्यम से अफवाह फैल गई कि गाँव के एक युवा हिंदू व्यक्ति ने इस्लाम मजहब का अपमान किया है, जिसके बाद वहाँ एकतरफा दंगे शुरू हो गए।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
129,765FollowersFollow
411,000SubscribersSubscribe