Friday, January 22, 2021
Home देश-समाज 79% कोरोना संक्रमण के कारण देश के 30 नगर निगम बने चुनौती, लॉकडाउन- 4.0...

79% कोरोना संक्रमण के कारण देश के 30 नगर निगम बने चुनौती, लॉकडाउन- 4.0 में यहाँ लागू होगा अधिकतम प्रतिबन्ध

ये सभी 30 नगर निगम महाराष्ट्र, तमिलनाडु, गुजरात, दिल्ली, मध्य प्रदेश, पश्चिम बंगाल, राजस्थान, उत्तर प्रदेश, तेलंगाना, आंध्र प्रदेश, गुजरात और ओडिशा में हैं। जिनमें सबसे ज्यादा प्रभावित नगरपालिका क्षेत्र बृहन्मुंबई या ग्रेटर मुंबई, ग्रेटर चेन्नई, अहमदाबाद, ठाणे, दिल्ली, इंदौर, पुणे, कोलकाता, जयपुर, नासिक, जोधपुर......

केंद्र ने 12 राज्यों में फैले कोरोना वायरस को लेकर 30 नगरपालिका क्षेत्रों के अधिकारियों के साथ बैठक की है। ताकि पुराने शहरों, मलिन बस्तियों, प्रवासी मजदूर शिविरों और अन्य उच्च क्षेत्रों में उच्च सतर्कता और बारीकी से निगरानी की जा सके। स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक भारत के कोरोनोवायरस (कोविद -19) बढ़ोतरी में इनका योगदान करीब 79 प्रतिशत है।

ये सभी 30 नगर निगम महाराष्ट्र, तमिलनाडु, गुजरात, दिल्ली, मध्य प्रदेश, पश्चिम बंगाल, राजस्थान, उत्तर प्रदेश, तेलंगाना, आंध्र प्रदेश, गुजरात और ओडिशा में हैं।

जिनमें सबसे ज्यादा प्रभावित नगरपालिका क्षेत्र बृहन्मुंबई या ग्रेटर मुंबई, ग्रेटर चेन्नई, अहमदाबाद, ठाणे, दिल्ली, इंदौर, पुणे, कोलकाता, जयपुर, नासिक, जोधपुर, आगरा, तिरुवल्लुर, औरंगाबाद, कुड्डलोर, ग्रेटर हैदराबाद, सूरत, चेंगलपट्टू, अरियालुर, हावड़ा, कुरनूल, भोपाल, अमृतसर, विल्लुपुरम, वडोदरा, उदयपुर, पालघर, बेरहामपुर, सोलापुर और मेरठ हैं।

स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार इन सभी क्षेत्रों में चौथे लॉकडाउन के तहत अधिकतम प्रतिबंध किया जाएगा और इसमें किसी प्रकार की भी छूट नहीं दी जाएगी।

शनिवार (16मई, 20) को केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव प्रीति सूदन, स्वास्थ्य मंत्रालय के विशेष अधिकारी राजेश भूषण व अन्य वरिष्ठ अधिकारियों के साथ नगर निगम आयुक्तों, जिलों के मजिस्ट्रेटों और अन्य अधिकारियों के साथ उच्च स्तरीय समीक्षा बैठक हुई। बैठक के दौरान ठीक होने के प्रतिशत में सुधार के लिए मरीज की समय पर पहचान और इन्फ्लूएंजा (ILI) / गंभीर तीव्र श्वसन संक्रमण (SARI) जैसी गंभीर संक्रमण पर खासतौर से निगरानी रखने पर जोर दिया गया हैं।

स्वास्थ्य मंत्रालय के एक बयान में कहा गया है कि बैठक के दौरान कोरोना वायरस के मामलों में काबू पाने लिए अधिकारियों और नगर निगमों के कर्मचारियों द्वारा किए गए उपायों की समीक्षा की गई और उन्हें शहरी बस्तियों में बीमारी के प्रबंधन के बारे में नए दिशानिर्देशों के बारे में बताया गया।

इसी दौरान उच्च जोखिम वाले कारक, पुष्टि दर, मृत्यु दर, आँकड़ो के दोगुना होने की दर, प्रति 10 लाख पर जाँच आदि मुद्दों पर प्रकाश डालते हुए जिलों में कोविड-19 संक्रमण की वर्तमान स्थिति पर एक प्रस्तुति भी दी गई।

नगरपालिका के अधिकारियों को रोकथाम और बफर जोन की मैपिंग करते समय विचार किए जाने वाले कारकों के बारे में जानकारी दी गई। कन्टेनमेंट ज़ोन जैसे नियंत्रण क्षेत्र में अनिवार्य गतिविधियाँ, घर के मामलों की निगरानी, संपर्क टेस्टिंग, परीक्षण प्रोटोकॉल, क्लीनिकल मैनजमेंट के एक्टिव मामलें, बफर जोन में निगरानी गतिविधियाँ जैसे SARI / ILI मामलों की निगरानी, ​​सोशल डिस्टेंसिग को सुनिश्चित करना और हाथ की स्वच्छता को बढ़ावा देना आदि।

बयान में कहा गया कि नगर निगमों, आवासीय कॉलोनी / मुहल्लों / नगरपालिका वार्डों या पुलिस-स्टेशन क्षेत्र / नगरपालिका क्षेत्रों / कस्बों आदि को कन्टेनमेंट जोन के रूप में निर्देशित किया जा सकता है।

साथ ही अधिकारियों को सलाह दी गई कि इस क्षेत्र को जिला प्रशासन या स्थानीय शहरी निकाय द्वारा स्थानीय स्तर से तकनीकी जानकारी के साथ उचित रूप से परिभाषित किया जाना चाहिए। कन्टेनमेंट ज़ोन के साथ-साथ आसपास के बफर ज़ोन को भी सही तरीके से रेखांकित किया जाना चाहिए जिससे कोरोनावायरस के ट्रांसमिशन की चेन को तोड़ा जा सके।

मामलों के दोगुना होने की उच्च दर, उच्च मृत्यु दर और कन्टेनमेंट ज़ोन में मामलों की पुष्टि की उच्च दर जैसे सूचकांकों के संदर्भ में अधिकारियों को इनके संभावित मूल कारणों के बारे में जानकारी देने के साथ ही अनुशंसित संभावित कार्यवाही के बारे में भी बताया गया।

इस बात पर भी प्रकाश डाला गया कि विशेष रूप से घनी आबादी वाले शहरी क्षेत्रों में आगे की चुनौतियों पर विचार किया जाना चाहिए, जैसे कि खराब सामाजिक-आर्थिक स्थिति, सीमित स्वास्थ्य बुनियादी ढाँचा, सामाजिक गड़बड़ी की कमी, महिलाओं की समस्याएँ, आदि।

स्वास्थ्य सचिव ने कहा, कोरोनोवायरस रोग के मामलों के नियंत्रण और प्रबंधन के साथ-साथ शहरी इलाकों में सभी आवश्यक स्वास्थ्य सेवाओं को जारी रखने का मुद्दे जैसे कि महिलाओं की डिलीवरी, गर्भ से संबंधित इलाज, किशोर के स्वास्थ्य, कैंसर के उपचार, टीवी का जाँच, ​​टीकाकरण, आगामी मानसून के मद्देनजर मच्छर जनित बीमारियों की रोकथाम के उपाय, आदि को सुनिश्चित करने की आवश्यकता है।

साथ ही अधिकारियों से अनुरोध किया गया था कि वे कम्युनिटी नेताओं और लोकल ओपिनियन नेताओं के साथ मिलें, जो स्थानीय जाँच टीमों के साथ स्थानीय समुदायों से सहयोग, समाधान खोजने, विश्वास बनाने और स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं पर सकारात्मक प्रभाव के लिए प्रोत्साहित कर सकते हैं।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

 

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

जब एयरपोर्ट, उद्योग, व्यापार आदि सरकार के हाथ में नहीं, तो फिर मंदिरों पर नियंत्रण कैसे: सद्गुरु

"हम चाहते हैं कि सरकार को एयरलाइंस, उद्योग, खनन, व्यापार का प्रबंधन नहीं करना चाहिए, लेकिन फिर यह कैसे है कि सरकार द्वारा पवित्र मंदिरों का प्रबंधन किया जा सकता है।"

भाजपा दाढ़ी, टोपी, बुर्का बैन कर देगी: ‘सांप्रदायिक BJP’ को हराने के लिए कॉन्ग्रेस-लेफ्ट से हाथ मिलाने वाली AIDUF प्रमुख बदरुद्दीन अजमल का जहरीला...

बदरुद्दीन अजमल ने कहा, "भाजपा दुश्मन है, देश की दुश्मन.. मस्जिदों की दुश्मन, दाढ़ी की दुश्मन, तलाक की दुश्मन, बाबरी मस्जिद की दुश्मन।"

शाहजहाँ: जिसने अपनी हवस के लिए बेटी का नहीं होने दिया निकाह, वामपंथियों ने बना दिया ‘महान’

असलियत में मुगल इस देश में धर्मान्तरण, लूट-खसोट और अय्याशी ही करते रहे परन्तु नेहरू के आदेश पर हमारे इतिहासकारों नें इन्हें जबरदस्ती महान बनाया और ये सब हुआ झूठी धर्मनिरपेक्षता के नाम पर।

चीनी माल जैसा चीन की कोरोना वैक्सीन का असर? मीडिया के सहारे साख बचाने का खतरनाक खेल

चीन की कोरोना वैक्सीन के असर पर सवाल खड़े हो रहे हैं। लेकिन वह इससे जुड़े डाटा साझा करने की बजाए बरगलाने की कोशिश कर कर रहा है।

मोदी सरकार का 1.5 साल वाला प्रस्ताव भी किसान संगठनों को मंजूर नहीं, कृषि कानूनों को रद्द करने पर अड़े

किसान नेताओं ने अपने निर्णय में कहा है कि नए कृषि कानूनों के डेढ़ साल तक स्‍थगित करने के केंद्र सरकार के प्रस्‍ताव को किसान संगठनों ने खारिज कर दिया है। संयुक्‍त किसान मोर्चा ने बयान जारी कर बताया कि तीनों कृषि कानून पूरी तरह रद्द हों।
00:31:45

तांडव: घृणा बेचो, माफी माँगो, सरकार के लिए सब चंगा सी!

यह डर आवश्यक है, क्रिएटिव फ्रीडम कभी भी ऑफेंसिव नहीं होता, क्योंकि वो सस्ता तरीका है। अभी तक चल रहा था, तो क्या आजीवन चलने देते रहें?

प्रचलित ख़बरें

‘उसने पैंट से लिंग निकाला और मुझे फील करने को कहा’: साजिद खान पर शर्लिन चोपड़ा ने लगाया यौन उत्पीड़न का आरोप

अभिनेत्री-मॉडल शर्लिन चोपड़ा ने फिल्म मेकर फराह खान के भाई साजिद खान पर यौन उत्पीड़न का आरोप लगाया है।

‘अल्लाह का मजाक उड़ाने की है हिम्मत’ – तांडव के डायरेक्टर अली से कंगना रनौत ने पूछा, राजू श्रीवास्तव ने बनाया वीडियो

कंगना रनौत ने सीरीज के मेकर्स से पूछा कि क्या उनमें 'अल्लाह' का मजाक बनाने की हिम्मत है? उन्होंने और राजू श्रीवास्तव ने अली अब्बास जफर को...

मटन-चिकेन-मछली वाली थाली 1 घंटे में खाइए, FREE में ₹1.65 लाख की बुलेट ले जाइए: पुणे के होटल का शानदार ऑफर

पुणे के शिवराज होटल ने 'विन अ बुलेट बाइक' नामक प्रतियोगिता के जरिए निकाला ऑफर। 4 Kg की थाली को ख़त्म कीजिए और बुलेट बाइक घर लेकर जाइए।

‘कोहली के बिना इनका क्या होगा… ऑस्ट्रेलिया 4-0 से जीतेगा’: 5 बड़बोले, जिनकी आश्विन ने लगाई क्लास

अब जब भारत ने ऑस्ट्रेलिया में जाकर ही ऑस्ट्रेलिया को धूल चटा दिया है, आइए हम 5 बड़बोलों की बात करते हैं। आश्विन ने इन सबकी क्लास ली है।

Pak ने शाहीन-3 मिसाइल टेस्ट फायर किया, हुए कई घर बर्बाद और सैकड़ों घायल: बलूच नेता का ट्वीट, गिरना था कहीं… गिरा कहीं और!

"पाकिस्तान आर्मी ने शाहीन-3 मिसाइल को डेरा गाजी खान के राखी क्षेत्र से फायर किया और उसे नागरिक आबादी वाले डेरा बुगती में गिराया गया।"

ढाई साल की बच्ची का रेप-मर्डर, 29 दिन में फाँसी की सजा: UP पुलिस और कोर्ट की त्वरित कार्रवाई

अदालत ने एक ढाई साल की बच्ची के साथ रेप और हत्या के दोषी को मौत की सजा सुनाई है। UP पुलिस की कार्रवाई के बाद यह फैसला 29 दिन के अंदर सुनाया गया है।
- विज्ञापन -

 

कॉन्ग्रेस के भूपेश बघेल सरकार द्वारा संचालित शेल्टर होम की 3 महिलाओं ने लगाया रेप का आरोप, संचालक गिरफ्तार

छत्तीसगढ़ के बिलासपुर में भूपेश बघेल सरकार द्वारा संचालित एक शेल्टर होम में 3 महिलाओं के साथ यौन शोषण का मामला सामने आया है। पुलिस ने एक प्रबंधक को वहाँ की एक महिला से दुष्कर्म करने के आरोप में गिरफ्तार किया है।

जब एयरपोर्ट, उद्योग, व्यापार आदि सरकार के हाथ में नहीं, तो फिर मंदिरों पर नियंत्रण कैसे: सद्गुरु

"हम चाहते हैं कि सरकार को एयरलाइंस, उद्योग, खनन, व्यापार का प्रबंधन नहीं करना चाहिए, लेकिन फिर यह कैसे है कि सरकार द्वारा पवित्र मंदिरों का प्रबंधन किया जा सकता है।"

भारत की कोविड वैक्सीन के लिए दुनिया के करीब 92 देश बेताब: भेजी गई म्यांमार, सेशेल्स और मारीशस की डोज

वैक्सीनेशन प्रोग्राम शुरू होने के बाद से भारत में इसके बहुत ही कम साइड इफ़ेक्ट देखे गए है। वहीं दुनिया के करीब 92 देशों ने भारत की कोवैक्सीन और कोविशील्ड मेड इन इंडिया कोरोना वैक्सीन की माँग की है।

भाजपा दाढ़ी, टोपी, बुर्का बैन कर देगी: ‘सांप्रदायिक BJP’ को हराने के लिए कॉन्ग्रेस-लेफ्ट से हाथ मिलाने वाली AIDUF प्रमुख बदरुद्दीन अजमल का जहरीला...

बदरुद्दीन अजमल ने कहा, "भाजपा दुश्मन है, देश की दुश्मन.. मस्जिदों की दुश्मन, दाढ़ी की दुश्मन, तलाक की दुश्मन, बाबरी मस्जिद की दुश्मन।"

शाहजहाँ: जिसने अपनी हवस के लिए बेटी का नहीं होने दिया निकाह, वामपंथियों ने बना दिया ‘महान’

असलियत में मुगल इस देश में धर्मान्तरण, लूट-खसोट और अय्याशी ही करते रहे परन्तु नेहरू के आदेश पर हमारे इतिहासकारों नें इन्हें जबरदस्ती महान बनाया और ये सब हुआ झूठी धर्मनिरपेक्षता के नाम पर।

कर्नाटक: शिवमोगा में विस्फोटक ले जा रही लॉरी में धमाका, 8 लोगों की मौत

कर्नाटक के शिवमोगा में बृहस्पतिवार रात एक रेलवे क्रशर साइट पर हुए डायनामाइट विस्फोट में कम से कम आठ लोगों के मारे जाने की खबर सामने आई है।

चीनी माल जैसा चीन की कोरोना वैक्सीन का असर? मीडिया के सहारे साख बचाने का खतरनाक खेल

चीन की कोरोना वैक्सीन के असर पर सवाल खड़े हो रहे हैं। लेकिन वह इससे जुड़े डाटा साझा करने की बजाए बरगलाने की कोशिश कर कर रहा है।

मोदी सरकार का 1.5 साल वाला प्रस्ताव भी किसान संगठनों को मंजूर नहीं, कृषि कानूनों को रद्द करने पर अड़े

किसान नेताओं ने अपने निर्णय में कहा है कि नए कृषि कानूनों के डेढ़ साल तक स्‍थगित करने के केंद्र सरकार के प्रस्‍ताव को किसान संगठनों ने खारिज कर दिया है। संयुक्‍त किसान मोर्चा ने बयान जारी कर बताया कि तीनों कृषि कानून पूरी तरह रद्द हों।
00:31:45

तांडव: घृणा बेचो, माफी माँगो, सरकार के लिए सब चंगा सी!

यह डर आवश्यक है, क्रिएटिव फ्रीडम कभी भी ऑफेंसिव नहीं होता, क्योंकि वो सस्ता तरीका है। अभी तक चल रहा था, तो क्या आजीवन चलने देते रहें?

ट्रक ड्राइवर से माफिया बने बदन सिंह बद्दो की कोठी पर चला योगी सरकार का बुलडोजर, दो साल से है फरार

मोस्ट वांटेड अपराधी ढाई लाख के इनामी बदन सिंह बद्दो की अलीशान कोठी पर योगी सरकार ने बुल्डोजर चलवा दिया। पुलिस ने बद्दो की संपत्ति कुर्क करने के बाद कोठी को जमींदोज करने की बड़ी कार्रवाई की है।

हमसे जुड़ें

272,571FansLike
80,695FollowersFollow
384,000SubscribersSubscribe