Friday, May 14, 2021
Home देश-समाज 79% कोरोना संक्रमण के कारण देश के 30 नगर निगम बने चुनौती, लॉकडाउन- 4.0...

79% कोरोना संक्रमण के कारण देश के 30 नगर निगम बने चुनौती, लॉकडाउन- 4.0 में यहाँ लागू होगा अधिकतम प्रतिबन्ध

ये सभी 30 नगर निगम महाराष्ट्र, तमिलनाडु, गुजरात, दिल्ली, मध्य प्रदेश, पश्चिम बंगाल, राजस्थान, उत्तर प्रदेश, तेलंगाना, आंध्र प्रदेश, गुजरात और ओडिशा में हैं। जिनमें सबसे ज्यादा प्रभावित नगरपालिका क्षेत्र बृहन्मुंबई या ग्रेटर मुंबई, ग्रेटर चेन्नई, अहमदाबाद, ठाणे, दिल्ली, इंदौर, पुणे, कोलकाता, जयपुर, नासिक, जोधपुर......

केंद्र ने 12 राज्यों में फैले कोरोना वायरस को लेकर 30 नगरपालिका क्षेत्रों के अधिकारियों के साथ बैठक की है। ताकि पुराने शहरों, मलिन बस्तियों, प्रवासी मजदूर शिविरों और अन्य उच्च क्षेत्रों में उच्च सतर्कता और बारीकी से निगरानी की जा सके। स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक भारत के कोरोनोवायरस (कोविद -19) बढ़ोतरी में इनका योगदान करीब 79 प्रतिशत है।

ये सभी 30 नगर निगम महाराष्ट्र, तमिलनाडु, गुजरात, दिल्ली, मध्य प्रदेश, पश्चिम बंगाल, राजस्थान, उत्तर प्रदेश, तेलंगाना, आंध्र प्रदेश, गुजरात और ओडिशा में हैं।

जिनमें सबसे ज्यादा प्रभावित नगरपालिका क्षेत्र बृहन्मुंबई या ग्रेटर मुंबई, ग्रेटर चेन्नई, अहमदाबाद, ठाणे, दिल्ली, इंदौर, पुणे, कोलकाता, जयपुर, नासिक, जोधपुर, आगरा, तिरुवल्लुर, औरंगाबाद, कुड्डलोर, ग्रेटर हैदराबाद, सूरत, चेंगलपट्टू, अरियालुर, हावड़ा, कुरनूल, भोपाल, अमृतसर, विल्लुपुरम, वडोदरा, उदयपुर, पालघर, बेरहामपुर, सोलापुर और मेरठ हैं।

स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार इन सभी क्षेत्रों में चौथे लॉकडाउन के तहत अधिकतम प्रतिबंध किया जाएगा और इसमें किसी प्रकार की भी छूट नहीं दी जाएगी।

शनिवार (16मई, 20) को केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव प्रीति सूदन, स्वास्थ्य मंत्रालय के विशेष अधिकारी राजेश भूषण व अन्य वरिष्ठ अधिकारियों के साथ नगर निगम आयुक्तों, जिलों के मजिस्ट्रेटों और अन्य अधिकारियों के साथ उच्च स्तरीय समीक्षा बैठक हुई। बैठक के दौरान ठीक होने के प्रतिशत में सुधार के लिए मरीज की समय पर पहचान और इन्फ्लूएंजा (ILI) / गंभीर तीव्र श्वसन संक्रमण (SARI) जैसी गंभीर संक्रमण पर खासतौर से निगरानी रखने पर जोर दिया गया हैं।

स्वास्थ्य मंत्रालय के एक बयान में कहा गया है कि बैठक के दौरान कोरोना वायरस के मामलों में काबू पाने लिए अधिकारियों और नगर निगमों के कर्मचारियों द्वारा किए गए उपायों की समीक्षा की गई और उन्हें शहरी बस्तियों में बीमारी के प्रबंधन के बारे में नए दिशानिर्देशों के बारे में बताया गया।

इसी दौरान उच्च जोखिम वाले कारक, पुष्टि दर, मृत्यु दर, आँकड़ो के दोगुना होने की दर, प्रति 10 लाख पर जाँच आदि मुद्दों पर प्रकाश डालते हुए जिलों में कोविड-19 संक्रमण की वर्तमान स्थिति पर एक प्रस्तुति भी दी गई।

नगरपालिका के अधिकारियों को रोकथाम और बफर जोन की मैपिंग करते समय विचार किए जाने वाले कारकों के बारे में जानकारी दी गई। कन्टेनमेंट ज़ोन जैसे नियंत्रण क्षेत्र में अनिवार्य गतिविधियाँ, घर के मामलों की निगरानी, संपर्क टेस्टिंग, परीक्षण प्रोटोकॉल, क्लीनिकल मैनजमेंट के एक्टिव मामलें, बफर जोन में निगरानी गतिविधियाँ जैसे SARI / ILI मामलों की निगरानी, ​​सोशल डिस्टेंसिग को सुनिश्चित करना और हाथ की स्वच्छता को बढ़ावा देना आदि।

बयान में कहा गया कि नगर निगमों, आवासीय कॉलोनी / मुहल्लों / नगरपालिका वार्डों या पुलिस-स्टेशन क्षेत्र / नगरपालिका क्षेत्रों / कस्बों आदि को कन्टेनमेंट जोन के रूप में निर्देशित किया जा सकता है।

साथ ही अधिकारियों को सलाह दी गई कि इस क्षेत्र को जिला प्रशासन या स्थानीय शहरी निकाय द्वारा स्थानीय स्तर से तकनीकी जानकारी के साथ उचित रूप से परिभाषित किया जाना चाहिए। कन्टेनमेंट ज़ोन के साथ-साथ आसपास के बफर ज़ोन को भी सही तरीके से रेखांकित किया जाना चाहिए जिससे कोरोनावायरस के ट्रांसमिशन की चेन को तोड़ा जा सके।

मामलों के दोगुना होने की उच्च दर, उच्च मृत्यु दर और कन्टेनमेंट ज़ोन में मामलों की पुष्टि की उच्च दर जैसे सूचकांकों के संदर्भ में अधिकारियों को इनके संभावित मूल कारणों के बारे में जानकारी देने के साथ ही अनुशंसित संभावित कार्यवाही के बारे में भी बताया गया।

इस बात पर भी प्रकाश डाला गया कि विशेष रूप से घनी आबादी वाले शहरी क्षेत्रों में आगे की चुनौतियों पर विचार किया जाना चाहिए, जैसे कि खराब सामाजिक-आर्थिक स्थिति, सीमित स्वास्थ्य बुनियादी ढाँचा, सामाजिक गड़बड़ी की कमी, महिलाओं की समस्याएँ, आदि।

स्वास्थ्य सचिव ने कहा, कोरोनोवायरस रोग के मामलों के नियंत्रण और प्रबंधन के साथ-साथ शहरी इलाकों में सभी आवश्यक स्वास्थ्य सेवाओं को जारी रखने का मुद्दे जैसे कि महिलाओं की डिलीवरी, गर्भ से संबंधित इलाज, किशोर के स्वास्थ्य, कैंसर के उपचार, टीवी का जाँच, ​​टीकाकरण, आगामी मानसून के मद्देनजर मच्छर जनित बीमारियों की रोकथाम के उपाय, आदि को सुनिश्चित करने की आवश्यकता है।

साथ ही अधिकारियों से अनुरोध किया गया था कि वे कम्युनिटी नेताओं और लोकल ओपिनियन नेताओं के साथ मिलें, जो स्थानीय जाँच टीमों के साथ स्थानीय समुदायों से सहयोग, समाधान खोजने, विश्वास बनाने और स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं पर सकारात्मक प्रभाव के लिए प्रोत्साहित कर सकते हैं।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

1971 में भारतीय नौसेना, 2021 में इजरायली सेना: ट्रिक वही-नतीजे भी वैसे, हमास ने ‘Metro’ में खुद भेज दिए शिकार

इजरायल ने एक ऐसी रणनीतिक युद्धकला का प्रदर्शन किया है, जिसने 1971 में भारत और पाकिस्तान के बीच हुए युद्ध की ताजा कर दी है।

20 साल से जर्जर था अंग्रेजों के जमाने का अस्पताल: RSS स्वयंसेवकों ने 200 बेड वाले COVID सेंटर में बदला

कभी एशिया के सबसे बड़े अस्पतालों में था BGML। लेकिन बीते दो दशक से बदहाली में था। आरएसएस की मदद से इसे नया जीवन दिया गया है।

₹995 में Sputnik V, पहली डोज रेड्डीज लैब वाले दीपक सपरा को: जानिए, भारत में कोरोना के कौन से 8 टीके

जानिए, भारत को किन 8 कोरोना वैक्सीन से उम्मीद है। वे अभी किस स्टेज में हैं और कहाँ बन रही हैं।

3500 गाँव-40000 हिंदू पीड़ित, तालाबों में डाले जहर, अब हो रही जबरन वसूली: बंगाल हिंसा पर VHP का चौंकाने वाला दावा

वीएचपी ने कहा है कि ज्यादातार पीड़ित SC/ST हैं। कई जगहों पर हिंदुओं से आधार, वोटर और राशन कार्ड समेत कई दस्तावेज छीन लिए गए हैं।

दिल्ली: केजरीवाल सरकार ने फ्री वैक्सीनेशन के लिए दिए ₹50 करोड़, पर महज तीन महीने में विज्ञापनों पर खर्च कर डाले ₹150 करोड़

दिल्ली में कोरोना के फ्री वैक्सीनेशन के लिए केजरीवाल सरकार ने दिए 50 करोड़ रुपए, पर प्रचार पर खर्च किए 150 करोड़ रुपए

महाराष्ट्र: 1814 अस्पतालों का ऑडिट, हर जगह ऑक्सीजन सेफ्टी भगवान भरोसे, ट्रांसफॉर्मर के पास स्टोर किए जा रहे सिलेंडर

नासिक के अस्पताल में हादसे के बाद महाराष्ट्र के अस्पतालों में ऑडिट के निर्देश तो दे दिए गए, लेकिन लगता नहीं कि इससे अस्पतालों ने कुछ सीखा है।

प्रचलित ख़बरें

हिरोइन है, फलस्तीन के समर्थन में नारे लगा रही थीं… इजरायली पुलिस ने टाँग में मारी गोली

इजरायल और फलस्तीन के बीच चल रहे संघर्ष में एक हिरोइन जख्मी हो गईं। उनका नाम है मैसा अब्द इलाहदी।

1600 रॉकेट-600 टारगेट: हमास का युद्ध विराम प्रस्ताव ठुकरा बोला इजरायल- अब तक जो न किया वो करेंगे

संघर्ष शुरू होने के बाद से इजरायल पर 1600 से ज्यादा रॉकेट दागे जा चुके हैं। जवाब में गाजा में उसने करीब 600 ठिकानों को निशाना बनाया है।

फिलिस्तीनी आतंकी ठिकाने का 14 मंजिला बिल्डिंग तबाह, ईद से पहले इजरायली रक्षा मंत्री ने कहा – ‘पूरी तरह शांत कर देंगे’

इजरायली प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू ने कहा, “ये केवल शुरुआत है। हम उन्हें ऐसे मारेंगे, जैसा उन्होंने सपने में भी न सोचा हो।”

‘मर जाओ थंडर वुमन’… इजराइल के समर्थन पर गैल गैडोट पर टूटे कट्टरपंथी, ‘शाहीन बाग की दादी’ के लिए कभी चढ़ाया था सिर पर

इजराइल-हमास और फिलिस्तीनी इस्लामी जिहादियों में जारी लड़ाई के बीच हॉलीवुड में "थंडर वुमन" के नाम से जानी जाने वाली अभिनेत्री गैल गैडोट पर...

इजरायल पर हमास के जिहादी हमले के बीच भारतीय ‘लिबरल’ फिलिस्तीन के समर्थन में कूदे, ट्विटर पर छिड़ा ‘युद्ध’

अब जब इजरायल राष्ट्रीय संकट का सामना कर रहा है तो जहाँ भारतीयों की तरफ से इजरायल के साथ खड़े होने के मैसेज सामने आ रहे हैं, वहीं कुछ विपक्ष और वामपंथी ने फिलिस्तीन के साथ एक अलग रास्ता चुना है।

दिल्ली में ऑक्सीजन सिलेंडर के बदले पड़ोसी ने रखी सेक्स की डिमांड, केरल पुलिस से सेक्स के लिए ई-पास की डिमांड

दिल्ली में पड़ोसी ने ऑक्सीजन सिलेंडर के बदले एक लड़की से साथ सोने को कहा। केरल में सेक्स के लिए ई-पास की माँग की।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,357FansLike
93,847FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe