Tuesday, July 23, 2024
Homeदेश-समाजकोरोना की वजह से 8 टॉप माओवादियों की मौत: 15-20 गंभीर रूप से संक्रमित,...

कोरोना की वजह से 8 टॉप माओवादियों की मौत: 15-20 गंभीर रूप से संक्रमित, कई ने डर से छोड़ा काडर

पुलिस का कहना है कि 15-20 दूसरे माओवादी कोरोना के गंभीर संक्रमण से जूझ रहे हैं। वहीं, तमाम दूसरे माओवादी वायरस के खतरे को देखते हुए काडर से अलग हो गए हैं।

कोरोना वायरस की दूसरी लहर में 8 माओवादियों के मरने की खबर सामने आई है। वहीं, संक्रमण फैलने के डर से बहुत से माओवादियों ने काडर का साथ छोड़ दिया है। भारत में माओवादी बेल्ट, जिसे रेड कॉरिडोर भी कहा जाता है। इन दिनों कोरोना संक्रमण के डर से उनकी नींद उड़ गई है। द टाइम्स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट के अनुसार, कोरोना की दूसरी लहर में कई माओवादी संक्रमित पाए गए हैं, जबकि कई टॉप माओवादियों की संक्रमण से मौत हो गई ​है।

आंध्र प्रदेश, महाराष्ट्र, ओडिशा, छत्तीसगढ़ और तेलंगाना राज्य माओवादियों का गढ़ है। घने जंगलों में आतंकी गतिविधियों को अंजाम देने वाले माओवादी हमेशा से डेंगू, मलेरिया और चिकनगुनिया जैसी बीमारियों की चपेट में आकर अपनी जान गँवाते रहे हैं। स्पेशल इंटेलिजेंस ब्रांच और एंटी नक्सलाइट इंटेलिजेंस विंग के हवाले से टीओआई (TOI) ने बताया कि चीन के वुहान से फैली कोरोना महामारी की दूसरी लहर ने माओवादियों के शीर्ष नेताओं और काडर को बुरी तरह प्रभावित किया है। पुलिस अधीक्षक (Bhadradri Kothagudem district) सुनील दत्त ने बताया, ”दूसरी लहर में कोविड-19 से कम से कम 8 माओवादी नेता और उनके कैडर के कई साथी मारे गए हैं।”

इसके साथ ही पुलिस का कहना है कि 15-20 दूसरे माओवादी कोरोना के गंभीर संक्रमण से जूझ रहे हैं। वहीं, तमाम दूसरे माओवादी वायरस के खतरे को देखते हुए काडर से अलग हो गए हैं। एंटी नक्सलाइट इंटेलिजेंस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया, “हथियारबंद संगठन के संदेशवाहकों ने जंगलों में माओवादियों से मुलाकात की। ऐसा लगता है कि इसी वजह से वायरस ने उन्हें भी संक्रमित कर दिया।”

मेडिकल सुविधाओं तक पहुँच का अभाव, बेकार हो चुके खाने का इस्तेमाल और सर्पदंश (साँप काटने) से भी माओवादी जंगल में चौतरफा मार झेल रहे हैं। इसकी वजह से भी माओवादी कोरोना वायरस संक्रमण की चपेट में आ रहे हैं।

कोरोना वायरस के कारण माओवादियों की मौत

बीते दिनों शीर्ष नक्सली कमांडर व तेलंगाना राज्य समिति के सचिव यापा नारायण उर्फ हरिभूषण और इंद्रावती क्षेत्र समिति के सदस्य सिद्दाबोइना सरक्का उर्फ भरतक्का की कोरोना की वजह से मौत हो गई थी। उनकी मौत की पुष्टि भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (माओवादी) ने गुरुवार (24 जून) को की। 21 जून को हरिभूषण की मृत्यु हो गई और अगले दिन भरतक्का ने घातक बीमारी से दम तोड़ दिया। उनका अंतिम संस्कार 22 जून को किया गया था।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘एंजेल टैक्स’ खत्म होने का श्रेय लूट रहे P चिदंबरम, भूल गए कौन लेकर आया था: जानिए क्या है ये, कैसे 1.27 लाख StartUps...

P चिदंबरम ने इसके खत्म होने का श्रेय तो ले लिया, लेकिन वो इस दौरान ये बताना भूल गए कि आखिर ये 'एंजेल टैक्स' लेकर कौन आया था। चलिए 12 साल पीछे।

पत्रकार प्रदीप भंडारी बने BJP के राष्ट्रीय प्रवक्ता: ‘जन की बात’ के जरिए दिखा चुके हैं राजनीतिक समझ, रिपोर्टिंग से हिला दी थी उद्धव...

उन्होंने कर्नाटक स्थित 'मणिपाल इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी' (MIT) से इलेक्ट्रॉनिक एवं कम्युनिकेशंस में इंजीनियरिंग कर रखा है। स्कूल में पढ़ाया भी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -