Friday, August 19, 2022
Homeदेश-समाजभाग गया AAP नेता, पीछे पड़ी दिल्ली पुलिस: वैक्सीन निर्यात के विरोध में पोस्टर...

भाग गया AAP नेता, पीछे पड़ी दिल्ली पुलिस: वैक्सीन निर्यात के विरोध में पोस्टर मामला, गरीबों को लालच दे बैनर लगवा रही पार्टी

मंगोलपूरी में गैर-कानूनी ढंग से पोस्टर लगाने वालों से पूछताछ करने पर पता चला कि इसके पीछे वार्ड 47 के अध्यक्ष और AAP नेता अरविन्द गौतम का हाथ है। AAP नेता अरविन्द फिलहाल फरार है।

दिल्ली में भारत द्वारा दूसरे देशों को वैक्सीन निर्यात किए जाने के विरोध में पोस्टर लगाए जाने पर 25 लोगों को गिरफ्तार किया गया। इन पोस्टर्स पर लिखा गया था, “मोदी जी हमारे बच्चों की वैक्सीन विदेश क्यों भेज दिया?”

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार कई लोगों को जमानत पर छोड़ दिया गया है। अब इस मामले में कई AAP नेताओं के नाम सामने आ रहे हैं, जो दिल्ली में कई जगहों पर ऐसे पोस्टर लगवा रहे हैं।

दिल्ली पुलिस ने भी ट्वीट करके जानकारी दी कि लॉकडाउन लागू कराने के लिए जब पुलिस भ्रमण पर थी, तब कई इलाकों में दीवारों पर इन चिपके हुए पोस्टर्स को देखा गया। मंगोलपूरी में पोस्टर लगाने वालों से पूछताछ करने पर उन्होंने जानकारी दी कि इसके पीछे वार्ड 47 के अध्यक्ष और AAP के सदस्य अरविन्द गौतम का हाथ है। AAP नेता अरविन्द फिलहाल फरार है।

इसके अलावा बैनर लगाने वाले एक व्यक्ति राहुल त्यागी ने बताया कि उसे आम आदमी पार्टी के पार्षद धीरेन्द्र कुमार के ऑफिस से 11 मई को 20 बैनर दिए गए। राहुल को ये बैनर कल्याणपुरी में लगाने के लिए कहा गया। इसके बदले उसे 600 रुपए मिलते। त्यागी ने बताया कि उसे और राजीव कुमार को बैनर दिए गए जबकि दिलीप तिवारी और शिवम दुबे को पोस्टर लगाने का काम दिया गया।

त्यागी ने इंडियन एक्सप्रेस को बताया कि उसे पैसे भी नहीं मिले हैं और उसकी मोटरसाइकिल भी पुलिस थाने में ही है। त्यागी के रिश्तेदारों ने बताया कि उसके पिता ऑटो-रिक्शा ड्राइवर हैं और लॉकडाउन में उनकी कमाई नहीं हो पा रही है।

आम आदमी पार्टी के पार्षद धीरेन्द्र कुमार ने इन आरोपों से इनकार किया है हालाँकि शनिवार की रात को AAP ने भी पोस्टर में लिखी हुई लाइनें पोस्ट कीं। हालाँकि राहुल गाँधी भी इस मुद्दे पर राजनीति करने से पीछे नहीं हटे और उन्होंने भी ट्वीट किया कि उन्हें भी गिरफ्तार किया जाए।  

द हिन्दू की रिपोर्ट के अनुसार दिल्ली के कई अलग-अलग इलाकों में इस घटना से संबंधित मामले दर्ज किए गए। ये मामले प्रेस एण्ड रजिस्ट्रेशन ऐक्ट, आईपीसी की धारा 269 और 34 के तहत दर्ज किए गए।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘कार खरीदी, गर्लफ्रेंड्स व सब्जी वालों का धन्यवाद’: व्यंग्य को सच समझ रवीश कुमार ने दी बधाई, जवाब मिला – मजाक है, वामपंथ की...

मधुर सिंह ने कार खरीदने वाली अपनी पोस्ट में अपनी एक्स व वर्तमान गर्लफ्रेंड्स एवं सब्जी वालों को धन्यवाद दिया। रवीश कुमार व्यंग्य को समझ नहीं पाए।

NYT के जिस ‘विज्ञापन’ पर सिसोदिया को दुनिया में बेस्ट बता रहे CM केजरीवाल, उसमें प्राइवेट स्कूल की तस्वीर होने का दावा

NYT के जिस विज्ञापन पर अपनी पीठ थपथपा रहे केजरीवाल, उसमें तस्वीर दिल्ली के मयूर विहार स्थित 'मदर मेरी स्कूल' के छात्र-छात्राओं की तस्वीर लगी है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
215,248FollowersFollow
417,000SubscribersSubscribe