Tuesday, June 25, 2024
Homeदेश-समाजकौन है छोटी सी बच्ची लवली, कितना कठिन है उसका संघर्ष, गौतम अडानी को...

कौन है छोटी सी बच्ची लवली, कितना कठिन है उसका संघर्ष, गौतम अडानी को मदद के लिए क्यों आना पड़ा आगे: जानिए सब कुछ

लवली नाम की इस बच्ची के बारे में एनडीटीवी के रिपोर्टर रवीश रंजन शुक्ला ने 13 मई 2024 को वीडियो पोस्ट किया था, जिसे देखने के बाद गौतम अडानी ने बच्ची की मदद का फैसला लिया है।

उत्तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी की एक बच्ची की मदद के लिए उद्योगपति गौतम अडानी सामने आए हैं। उन्होंने बच्ची की मदद का फैसला किया है। बच्ची का नाम लवली है और वो लखीमपुर खीरी के कंधरापुर गाँव की रहने वाली है। लवली की माँ की मौत बचपन में ही हो गई थी, और उसके पिता ने दूसरी शादी कर ली। बच्ची की देख-रेख उसके बूढ़े दादा-दादी करते हैं। अब अडानी फाउंडेशन बच्ची की न सिर्फ आर्थिक मदद करेगा, बल्कि इलाज का भी पूरा खर्च उठाएगा।

रिपोर्ट्स के मुताबिक, लवली का बायाँ पैर और हाथ बचपन से ही टेढ़ा है, जिसकी वजह से उसे रोजमर्रा के कामों में भारी दिक्कत उठानी पड़ती है। बच्ची के दादा-दादी उसके इलाज का खर्च उठाने में असमर्थ हैं। लवली नाम की इस बच्ची के बारे में एनडीटीवी के रिपोर्टर रवीश रंजन शुक्ला ने 13 मई 2024 को वीडियो पोस्ट किया था, जिसे देखने के बाद गौतम अडानी ने बच्ची की मदद का फैसला लिया है।

गौतम अडानी ने शुक्रवार (17 मई 2024) को एक्स पर पोस्ट किया, “एक बेटी का बचपन यूँ छिन जाना दुखद है। छोटी सी उम्र में लवली और उसके दादा-दादी का संघर्ष बताता है कि एक आम भारतीय परिवार कभी हार नहीं मानता। अडानी फाउंडेशन यह सुनिश्चित करेगा कि लवली को बेहतर इलाज मिले। वो भी बाकी बच्चों के साथ कदम से कदम मिलाकर आगे बढ़ सके। हम सब लवली के साथ हैं।”

जानकारी के मुताबिक, बच्ची बचपन से ही दिव्यांग है। वो पाँचवीं कक्षा में पढ़ती है। अदानी फाउंडेशन की तरफ से मदद का हाथ बढ़ाए जाने के बाद बच्ची के दादा ओमप्रकाश ने उम्मीद जताई है कि बच्ची न सिर्फ ठीक हो जाएगी, बल्कि उसका भविष्य भी संवर जाएगा।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

NEET-UG विवाद: क्या है NTA, क्यों किया गया इसका गठन, किस तरह से कराता है परीक्षाओं का आयोजन… जानिए सब कुछ

सरकार ने परीक्षाओं के पारदर्शी, सुचारू और निष्पक्ष संचालन को सुनिश्चित करने के लिए विशेषज्ञों की एक उच्च स्तरीय समिति की घोषणा की है

हिंदुओं का गला रेता, महिलाओं को नंगा कर रेप: जो ‘मालाबर स्टेट’ माँग रहे मुस्लिम संगठन वहीं हुआ मोपला नरसंहार, हमें ‘किसान विद्रोह’ पढ़ाकर...

जैसे मोपला में हिंदुओं के नरसंहार पर गाँधी चुप थे, वैसे ही आज 'मालाबार स्टेट' पर कॉन्ग्रेसी और वामपंथी खामोश हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -