Wednesday, May 22, 2024
Homeदेश-समाजनूपुर शर्मा का सिर कलम करने की धमकी देने वाला इस्लामी प्रचारक आदिल गफूर...

नूपुर शर्मा का सिर कलम करने की धमकी देने वाला इस्लामी प्रचारक आदिल गफूर गिरफ्तार, कहा था – गोमूत्र पीने वाले हिन्दुओं की हैसियत क्या?

इनको जो हवा मिलती है हमारी बरकत से मिलती है। इनको जो दरिया से पानी मिलता है, हमारी बरकत से मिलता है। वरना इनका वजूद क्या है ? भाइयों, वक्त हमें सर कलम करना भी सिखाती है।"

जम्मू के डोडा जिले के भद्रवाह में नूपुर शर्मा का सिर कलम करने की धमकी देने वाले इस्लामी प्रचारक आदिल गफूर गनी को गिरफ्तार कर लिया गया है। यह एलान गनी ने एक मस्जिद से किया था। इस बयान के बाद इलाके में तनाव फ़ैल गया था। गिरफ्तारी रविवार (12 जून, 2022) को हुई है।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, भद्रवाह में कर्फ्यू लगा दिया गया है। एक हिन्दू युवक पर भी मुस्लिमों के पैगंबर के खिलाफ आपत्तिजनक टिप्पणी का आरोप लगा है। इसी के चलते दोनों पक्षों में तनाव है। खुद पर FIR दर्ज होने के बाद आदिल गफूर गनी ने अपने बयान को तोड़-मरोड़ कर पेश करने का आरोप लगाया था।

गफूर ने माफ़ी माँगते हुए कहा था, “हमारे नबी का मामला था और प्रशासन कोई कार्रवाई नहीं कर रहा था। हम कानून में विश्वास रखते हैं। मेरा भाषण आधा-अधूरा दिखाया गया है। हालाँकि हमें बोलना नहीं था लेकिन मैं जज्बाती हो गया था। मैंने किसी खास समुदाय को टारगेट नहीं किया लेकिन अगर किसी की भावनाएँ आहत हुई हों तो मैं उनसे माफ़ी माँगता हूँ।”

आदिल गफूर का भड़काऊ भाषण सोशल मीडिया पर काफी वायरल हुआ था। इस दौरान एक भीड़ ‘सिर तन से जुदा’ के नारे लगा रही थी। इस दौरान हिन्दुओं को गौ मूत्र पीने वाला कहा गया था।

इसी वीडियो में आदिल ने कहा था, “गाय का पेशाब पीने वालों का, गोबर के अंदर नहाने वालों की हैसियत ही क्या है दुनिया में ? इनको जो रिज़्क़ मिलता है हमारी दहशत से मिलता है। इनको जो हवा मिलती है हमारी बरकत से मिलती है। इनको जो दरिया से पानी मिलता है, हमारी बरकत से मिलता है। वरना इनका वजूद क्या है ? भाइयों, वक्त हमें सर कलम करना भी सिखाती है। इसलिए बातों को जेहन में बिठा दो कि हम खामोश तब तक हैं, जब तक कि हमारा बर्दाश्त कायम है। बर्दाश्त के बाहर निकल गए तो फिर नूपुर शर्मा क्या, वो आशीष कोहली कुत्ता क्या, वो नूपुर शर्मा ‘गंदी’ क्या, उनके सर कहीं और धड़ कहीं और मिलेंगे।”

इस वीडियो के वायरल होने के बाद भद्रवाह में हालत काबू करने के लिए सेना उतारनी पड़ी थी। घटना की जाँच के लिए SIT गठित की गई थी और कई इलाकों में धारा 144 लागू कर दी गई थी।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘दिखाता खुद को सेकुलर है, पर है कट्टर इस्लामी’ : हिंदू पीड़िता ने बताया आकिब मीर ने कैसे फँसाया निकाह के जाल में, ठगे...

पीड़िता ने ऑपइंडिया को बताया कि आकिब खुद को सेकुलर दिखाता है, लेकिन असल में वो है इस्लामवादी। उसने महिला से कहा हुआ था वह हिंदू देवताओं को न पूजे।

‘ध्वस्त कर दिया जाएगा आश्रम, सुरक्षा दीजिए’: ममता बनर्जी के बयान के बाद महंत ने हाईकोर्ट से लगाई गुहार, TMC के खिलाफ सड़क पर...

आचार्य प्रणवानंद महाराज द्वारा सन् 1917 में स्थापित BSS पिछले 107 वर्षों से जनसेवा में संलग्न है। वो बाबा गंभीरनाथ के शिष्य थे, स्वतंत्रता के आंदोलन में भी सक्रिय रहे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -