Wednesday, May 22, 2024
Homeदेश-समाज'काला जादू से ग्रसित है अहमद मुर्तजा अब्बासी': बोला गोरखनाथ मंदिर के हमलावर को...

‘काला जादू से ग्रसित है अहमद मुर्तजा अब्बासी’: बोला गोरखनाथ मंदिर के हमलावर को पढ़ाने वाला मौलवी, बना रहा था जिहादी एप

मौलाना ने नवी मुंबई के NRI पुलिस स्टेशन अपना बयान दर्ज कराते हुए पुलिस को बताया कि 2016 में उसके अब्बू ने उनसे मिलकर बताया था कि उस पर किसी ने कोई काला जादू कर दिया है।

उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) को गोरखपुर स्थित गोरखनाथ मंदिर (Gorakhnath Temple Attack) पर जबरन घुसने की कोशिश करने औऱ धारदार हथियार से दो पुलिसकर्मियों पर हमला करने वाले अहमद मुर्तजा अब्बासी (Ahmad Murtaza Abbasi) को लेकर नया खुलासा हुआ है। मौलाना इलियासी (Maulana Ilyasi) नाम के व्यक्ति ने दावा किया है कि मुर्तजा पर काला जादू किया गया था। मौलाना इलियासी उसी मदरसे में शिक्षक है, जहाँ मुर्तजा आता था।

एबीपी लाइव की एक रिपोर्ट के अनुसार, मौलाना ने नवी मुंबई के NRI पुलिस स्टेशन अपना बयान दर्ज कराते हुए पुलिस को बताया कि 2016 में उसके अब्बू ने उनसे मिलकर बताया था कि उस पर किसी ने कोई काला जादू कर दिया है। मुर्तजा पूरी रात जागकर अजीब हरकतें करता था। इसके जरिए उसके पिछले कृत्यों को ढंकने की कोशिश की जा सकती है। क्योंकि इससे पहले उसके अब्बू ने उसे मेंटली अनफिट बताया था, जिसका डॉक्टरों ने खंडन कर दिया था।

मौलाना इलियासी के मुताबिक, मुर्तजा बेहद शांत और डरपोक किस्म का व्यक्ति है, उसके ज्यादा दोस्त नहीं थे। वह अधिकतर अकेले ही रहना पसंद करता था। मौलाना के मुताबिक, मुर्तजा ताज हाइट बिल्डिंग में 2014 से 2020 तक रहा था। उसी बिल्डिंग के बेसमेंट में मदरसा था, जहाँ मौलाना पढ़ाता था। वहीं पर मुर्तजा नमाज करने आता था औऱ फिर किसी से कुछ बोले बिना ही वहाँ से चला जाता था।

जिहादी ऐप बना रहा था मुर्तजा

जब से यूपी पुलिस ने मुर्तजा को गिरफ्तार किया है, तभी उससे लगातार पूछताछ की जा रही है। इसी क्रम में उसने जाँच एजेंसियों को बताया है कि इस्लामिक आतंकी संगठनों के इशारे पर ‘जरीमा’ नाम का एक जिहादी ऐप बना रहा था। इसका अरबी में अर्थ उत्पीड़न से हैं। इससे पहले वो पीर2पीर ऐप से बातचीत करता था।

हनी ट्रैप का शिकार हुआ

रिपोर्ट्स के मुताबिक, मुर्तजा अब्बासी कट्टरपंथी विचारों में दिलचस्पी एक लड़की के कारण हुई। वो सीरिया में ISIS कैम्प की एक लड़की के संपर्क में था। उसने उसके अकाउंट में कई बार पैसे भी ट्रांसफर किए थे। वो ISIS में शामिल होने की योजना पर काम कर रहा था। उसने पुलिस को बताया कि लड़की ने उसे एक ईमेल और एक पिक्चर भेजा था। उसने उससे भारत में मिलने का वादा किया था। बाद में अब्बासी ने उसे 40,000 रुपए भी ट्रांसफर किए। वो नेपाल के रास्ते सीरिया जाने की फिराक में था।

अखिलेश यादव बताया था मानसिक रोगी

गोरखनाथ मंदिर पर हमले के मामले में अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) ने मुर्तजा अब्बासी को मनोरोगी बताते हुए उसका बचाव किया था। उन्होंने बुधवार (6 अप्रैल, 2022) को कहा, “उसके पिता ने बताया था कि उसे एक मानसिक समस्या है, इस तरह के बाइपोलर मुद्दे से निपटने के लिए, मुझे लगता है कि हमें उस पर भी (जाँच के लिए) ध्यान देने की जरूरत है। बीजेपी एक ऐसी पार्टी है, जो चीजों को बढ़ाचढ़ा कर पेश करती है।”

इसी तरह का दावा उसके परिवार वालों ने भी किया था।, जबकि अब्बासी का इलाज करने वाले डॉक्टर ने इन दावों का खंडन किया कि वह मानसिक रूप से अस्थिर था। गोरखपुर जिला अस्पताल के अधीक्षक जेएसपी सिंह ने बताया कि आरोपी मेडिकल जाँच के दौरान बात कर रहा था।

गौरतलब है कि 31 मार्च 2022 को खुफिया एजेंसियों ने यूपी पुलिस को 16 संदिग्धों की सूची भेजी थी, जिसमें अहमद मुर्तजा का नाम था। वो एटीएस के निशाने पर था।

गोरखनाथ मंदिर पर हमला

गोरखनाथ मंदिर में मुर्तजा 3 अप्रैल 2022 हथियार लेकर घुसने की फिराक में था। उसने मंदिर के बाहर पुलिसकर्मियों पर हमला किया था। हालाँकि, बाद में उसे पकड़ लिया।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

पश्चिम बंगाल में 2010 के बाद जारी हुए हैं जितने भी OBC सर्टिफिकेट, सभी को कलकत्ता हाई कोर्ट ने कर दिया रद्द : ममता...

कलकत्ता हाई कोर्ट ने बुधवार 22 मई 2024 को पश्चिम बंगाल की ममता बनर्जी सरकार को बड़ा झटका दिया। हाईकोर्ट ने 2010 के बाद से अब तक जारी किए गए करीब 5 लाख ओबीसी सर्टिफिकेट रद्द कर दिए हैं।

महाभारत, चाणक्य, मराठा, संत तिरुवल्लुवर… सबसे सीखेगी भारतीय सेना, प्राचीन ज्ञान से समृद्ध होगा भारत का रक्षा क्षेत्र: जानिए क्या है ‘प्रोजेक्ट उद्भव’

न सिर्फ वेदों-पुराणों, बल्कि कामंदकीय नीतिसार और तमिल संत तिरुवल्लुवर के तिरुक्कुरल का भी अध्ययन किया जाएगा। भारतीय जवान सीखेंगे रणनीतियाँ।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -