Saturday, November 26, 2022
Homeदेश-समाजCAA विरोधियों ने जनता कर्फ्यू का मखौल उड़ाया: लखनऊ और दिल्ली में प्रदर्शन जारी

CAA विरोधियों ने जनता कर्फ्यू का मखौल उड़ाया: लखनऊ और दिल्ली में प्रदर्शन जारी

लखनऊ स्थित घंटाघर हो या दिल्ली का शाहीन बाग रविवार को भी महिलाओं ने धरना दिया। सोशल मीडिया पर वायरल हो हरे कई मजहबी विडियो के माध्यम से दावा किया जा रहा है कि कोरोना समुदाय विशेष का कुछ नहीं बिगाड़ सकता है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अपील पर आज रविवार (मार्च 22, 2020) को पूरे देश के लोग जनता कर्फ्यू का पालन कर रहे हैं। वहीं एक तबका ऐसा भी है जो न सिर्फ़ अन्य लोगों के लिए ख़तरा बन कर उभरा है, बल्कि अपनी जिद के कारण कोरोना के ख़तरे को नज़रअंदाज़ कर रहा है। ये तबका है सीएए विरोधियों का। दिल्ली से लेकर लखनऊ तक सीएए विरोधियों के गुट ने सरकार, डॉक्टरों व विशेषज्ञों की हर सलाह को धता बताते हुए कोरोना के ख़तरे को नज़रअंदाज़ कर धरना-प्रदर्शन जारी रखा।

लखनऊ स्थित घंटाघर के नीचे कई महिलाओं ने धरना देकर पीएम मोदी की इस अपील का मखौल उड़ाया। वहाँ इससे पहले भी सीएए विरोधी धरने पर बैठे हुए थे। कोरोना वायरस के ख़तरे को देखते हुए सोशल डिस्टन्सिंग का पालन करने की सलाह दी जा रही है और लोगों को हाथ न मिलाने से लेकर एक-दूसरे से दूर रहने को कहा जा रहा है। लेकिन, सोशल मीडिया पर वायरल हो हरे कई मजहबी विडियो के माध्यम से दावा किया जा रहा है कि कोरोना समुदाय विशेष का कुछ नहीं बिगाड़ सकता है।

लखनऊ के पुलिस कमिश्नर सुरजीत पाटिल ने बताया कि शहर के लोग प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अपील पर पूरी तरह अमल कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि क़ानून-व्यवस्था दुरुस्त रखने के लिए पुलिस बल को तैनात किया गया है। इसी तरह दिल्ली के शाहीन बाग़ में भी धरना स्थगित नहीं किया गया है। वहाँ अब चौकी लगा कर महिलाएँ बैठी हुई हैं। जूता-चप्पल रख कर भी प्रदर्शनकारी अपनी उपस्थिति दर्ज करा रहे हैं।

उधर रविवार की सुबह एक एक अन्य तस्वीर आई, जिसमें देखा जा सकता है कि शाहीन बाग़ एंटी-सीएए प्रदर्शन स्थल के नजदीक आग लगी हुई है और लोग उसे बुझाने में लगे हुए हैं। प्रदर्शनकारियों ने दावा किया है कि वहाँ किसी ने पेट्रोल बम फेंक दिया था। सोशल मीडिया पर लोगों ने आशंका जताई है कि हो सकता है कि शाहीन बाग़ के उपद्रवियों ने जनता कर्फ्यू से ध्यान खींचने के लिए ऐसा किया हो। हालाँकि, इस सम्बन्ध में अभी तक कुछ भी पुष्टि नहीं हुई है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘किसी कैदी को स्पेशल सुविधा नहीं दे सकती सरकार’: तिहाड़ में फल-सब्जियाँ चाभ रहे AAP के मंत्री सत्येंद्र जैन पर HC सख्त, मेवा माँगने...

दिल्ली हाई कोर्ट ने तिहाड़ में बंद AAP के मंत्री सत्येंद्र जैन की उस याचिका को खारिज कर दिया है, जिसमें उन्होंने जेल में फल और मेवों की माँग की थी।

‘अपनी मर्जी से गई, पापा के साथ नहीं रहना’: वसीम अकरम के कमरे से बरामद हुई राजस्थान के कॉन्ग्रेस नेता की बेटी, पिता ने...

कॉन्ग्रेस नेता गोपाल केसावत ने अपनी बेटी का अपहरण का केस दर्ज करवाया था। राजस्थान पुलिस अभिलाषा और उसके दोस्त वसीम अकरम को लेकर जयपुर पहुँची।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
235,641FollowersFollow
417,000SubscribersSubscribe