Wednesday, December 8, 2021
Homeदेश-समाज370 एक बड़ी ग़लती थी, एक झटके में हटाना ही सही, POK भी भारत...

370 एक बड़ी ग़लती थी, एक झटके में हटाना ही सही, POK भी भारत का ही: वरिष्ठ वकील हरीश साल्वे

हरीश साल्वे ने कहा, "मैं काफ़ी लंबे समय से अनुच्छेद-370 के ख़िलाफ़ आवाज़ उठाता रहा हूँ, ये एक बड़ी ग़लती थी।" उन्होंने कहा कि इसे एक झटके में हटाना ही सही फ़ैसला था। उन्होंने कहा कि जम्मू-कश्मीर भारत का हिस्सा है, न सिर्फ़ इधर वाला कश्मीर बल्कि POK भी भारत का ही है।

जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद-370 को निरस्त किए जाने के 2 महीने बाद भी इस पर होने वाली चर्चा पर विराम नहीं लगा है। अंतरराष्ट्रीय कोर्ट में कुलभूषण जाधव का केस लड़ने वाले भारत के वरिष्ठ वकील हरीश साल्वे का कहना है कि अनुच्छेद-370 एक ग़लती थी, जिससे निजात पाना बेहद ज़रूरी था। उन्होंने कहा कि जम्मू-कश्मीर भारत  का हिस्सा है, न सिर्फ़ इधर वाला कश्मीर बल्कि POK भी भारत का ही है।

इंडिया टुडे से हुई बातचीत में उन्होंने कहा, “मैं काफ़ी लंबे समय से अनुच्छेद-370 के ख़िलाफ़ आवाज़ उठाता रहा हूँ, ये एक बड़ी ग़लती थी।” उन्होंने कहा कि इसे एक झटके में हटाना ही सही फ़ैसला था, अब अगर यह मामला सुप्रीम कोर्ट में है तो वो ही तय करेंगे। हरीश साल्वे ने बुधवार (2 अक्टूबर, 2019) को लंदन में इंडियन हाईकमीशन में बात की।

इसके अलावा, उन्होंने हैदराबाद के निज़ाम वाले मामले में ब्रिटेन कोर्ट के द्वारा भारत के पक्ष में सुनाए गए फ़ैसले की भी तारीफ़ की। उनका कहना था कि पाकिस्तान के द्वारा इस मामले पर अब तक जो दावा किया जा रहा था, वो पूरी तरह से ग़लत था। अब अगर पाकिस्तान इस पर फिर से अपील करना चाहता है तो वो कर सकता है।

ग़ौरतलब है कि ब्रिटेन के एक हाई कोर्ट ने हैदराबाद के निजाम के 3.5 करोड़ पाउंड के फंड को लेकर दशकों से चल रहे मामले में बुधवार (2 अक्टूबर, 2019) को भारत के पक्ष में फ़ैसला सुनाया। देश के विभाजन के बाद हैदराबाद के निज़ाम उस्मान अली ख़ान ने 1948 में लंदन के नेशनल वेस्टमिंस्टर बैंक में 10 लाख पाउंड (क़रीब 8.87 करोड़ रुपए) जमा किए थे। इस पर दावे को लेकर भारत और पाकिस्तान के बीच पिछले 70 सालों मुक़दमा चल रहा था। अब यह रक़म बढ़कर करीब 35 मिलियन पाउंड (करीब 306 करोड़ रुपए) हो चुकी है।

रुपए के मालिकाना हक को लेकर पाकिस्तान के ख़िलाफ़ चल रही इस क़ानूनी लड़ाई में निज़ाम के वंशज प्रिंस मुकर्रम जाह और उनके छोटे भाई मुफ्फखम जाह भारत सरकार के साथ थे। हैदराबाद के तत्कालीन निज़ाम ने 1948 में ब्रिटेन में पाकिस्तान के उच्चायुक्त को ये रक़म भेजी थी। फ़िलहाल, यह रक़म लंदन के नेशनल वेस्टमिंस्टर बैंक में जमा है।

विदेश मंत्रालय ने एक बयान में कहा गया कि यूके की अदालत ने पाकिस्तान के इस दावे को ख़ारिज कर दिया है कि इस रक़म का मक़सद हथियारों की शिपमेंट के लिए पाकिस्तान को भुगतान के रूप में किया गया था। इतना ही नहीं पाकिस्तान ने कई बार यह कोशिश की थी कि यह मामला किसी तरह से बंद हो जाए, लेकिन उसके मंसूबे पर पानी फेरते हुए लंदन की अदालत ने उसके हर प्रयास को विफल कर दिया।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

कोरोना काल में ₹42 लाख का क्रिकेट मैच… खिलाड़ी झारखंड के ‘माननीय’ MLA लोग, मैन ऑफ द मैच खुद CM सोरेन

कोरोना महामारी के दौरान 42 लाख रुपए का क्रिकेट मैच खेल लिया झारखंड के विधायकों ने। मैन ऑफ द मैच खुद बने मुख्यमंत्री सोरेन।

‘वसीम रिजवी का सिर कलम करने वाले को 25 लाख रुपए का इनाम’: कॉन्ग्रेस नेता ने खुलेआम किया दोबारा ऐलान

कॉन्ग्रेस विधायक राशिद खान ने मंगलवार को कहा कि वह शिया वक्‍फ बोर्ड के पूर्व अध्यक्ष वसीम रिजवी का सिर काटने वाले को 25 लाख रुपए का इनाम देने की बात पर अभी भी कायम हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
142,284FollowersFollow
412,000SubscribersSubscribe