Saturday, July 20, 2024
Homeदेश-समाजअशरफ कादरी ने अपनी बेगम को दिया तीन तलाक, पिटाई कर के बोला -...

अशरफ कादरी ने अपनी बेगम को दिया तीन तलाक, पिटाई कर के बोला – अब मेरे अब्बा के साथ हलाला करो: पीड़िता ने बताया – पिता का भी करा दिया एक्सीडेंट

महिला ने कहा कि उसका आरोपित पतिशौहरअली अशरफ कादरी शातिर किस्म का है। तीन तलाक देने का विरोध करने पर उसने पिटाई की और तमंचा दिखाकर धमकाया कि यदि कानूनी कार्रवाई की तो लाश का भी पता नहीं लगेगा।

उत्तर प्रदेश के फर्रुखाबाद जिले से तीन तलाक और उसके बाद महिला के साथ ज्यादती का मामला सामने आया है। यहाँ एक महिला अर्शी फातिमा ने आरोप लगाया है कि उसके शौहर अली अशरफ कादरी ने पहले उसे तीन तलाक दे दिया और अब समझौते के नाम अपने पिता के साथ से हलाला करने का दबाव बना रहा है। महिला का आरोप है कि उसका शौहर शातिर किस्म का है और उससे उसकी जान को खतरा है।

उल्लेखनीय है कि महिला ने इसी मामले को लेकर अगस्त 2022 में मऊदरवाजा पुलिस के समक्ष शिकायत दर्ज करवाई थी, लेकिन मामले में आरोपितों पर कोई कार्रवाई नहीं हुई। इससे दुखी महिला अपनी फरियाद लेकर मंगलवार (7 फरवरी, 2023) को डीएम संजय कुमार के कार्यालय पहुँच गई।

वहाँ अतिरिक्त मजिस्ट्रेट नरेंद्र कुमार डीएम कार्यालय से निकलकर बाहर जा रहे थे। महिला उनके वाहन के सामने खड़ीं हो गई। इसके बाद सुरक्षाकर्मी ने महिला का शिकायत पत्र मजिस्ट्रेट को दिया। मामले की गंभीरता को देखते हुए मजिस्ट्रेट वापस कार्यालय गए और महिला की शिकायत सुनी। इसके बाद डीएम संजय कुमार ने भी महिला से मुलाकात की और उन्होंने कार्रवाई का आश्वासन दिया।

महिला द्वारा दी गई शिकायत पत्र की प्रति ऑपइंडिया के पास उपलब्ध है। महिला अपनी शिकायत में कहती हैं, “थाना मऊदरवाजा पुलिस (Police) से अगस्त 2022 में शिकायत की थी और आरोपितों के खिलाफ अपराध संख्या 373/ 2022 धारा 323 504 506 धारा 4 मुस्लिम महिला अधिनियम के तहत रिपोर्ट दर्ज करवाई थी। मामले में पुलिस  ने अभी तक आरोपितों के विरुद्ध कोई कानूनी कार्रवाई नहीं की है।”

महिला द्वारा कराई गई शिकायत

पीड़िता ने आगे अपनी शिकायत में कहा है, “मऊदरवाजा थाना के विवेचक ने नामजद आरोपीतों सईदउल्ला, रिहाना, निदा, फैजी, शोएब, मुशीर, सरवर हाफिज, मास्टर के नाम मुकदमे से निकाल दिए हैं।” महिला ने कहा कि उसका आरोपित शौहर अली अशरफ कादरी शातिर किस्म का है। तीन तलाक देने का विरोध करने पर उसने पिटाई की और तमंचा दिखाकर धमकाया कि यदि कानूनी कार्रवाई की तो मेरी लाश का भी पता नहीं लगेगा।

महिला ने बताया, “उसने मेरे पिता का भी एक्सीडेंट करवा दिया था और वह मुझे वापस अपनाने के लिए अपने पिता के साथ हलाला करने का दबाव दे रहा है। वह किसी भी समय मेरे और मेरे परिजनों की हत्या करवा सकता है।”

वहीं ऑपइंडिया से बात करते हुए पीड़िता अर्शी फातिमा ने कहा, “बजुर्ग और पिता समान होने के बाद भी मेरे शौहर के अब्बा मेरे साथ हलाला करने को बेताब थे। मेरी सास ये सब सुन रही थी, लेकिन वो खामोश हो कर इस हरकत को समर्थन दे रहीं थीं । मेरे शौहर के घर में सब बहुत पढ़े लिखे हैं लेकिन उसके बावजूद उनकी हरकतें बेहद गंदी हैं। उन्होंने मुझे बहुत ज्यादा टार्चर किया है।”

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

फैक्ट चेक’ की आड़ लेकर भारत में ‘प्रोपेगेंडा’ फैलाने की तैयारी कर रहा अमेरिका, 1.67 करोड़ रुपए ‘फूँक’ तैयार कर रहा ‘सोशल मीडिया इन्फ्लूएंसर्स’...

अमेरिका कथित 'फैक्ट चेकर्स' की फौज को तैयार करने की योजना को चतुराई से 'डिजिटल लिटरेसी' का नाम दे रहा है, लेकिन इनका काम होगा भारत में अमेरिकी नरेटिव को बढ़ावा देना।

मुस्लिम फल विक्रेताओं एवं काँवड़ियों वाले विवाद में ‘थूक’ व ‘हलाल’ के अलावा एक और पहलू: समझिए सच्चर कमिटी की रिपोर्ट और असंगठित क्षेत्र...

काँवड़ियों के पास ये विकल्प क्यों नहीं होना चाहिए, अगर वो सिर्फ हिन्दू विक्रेताओं से ही सामान खरीदना चाहते हैं तो? मुस्लिम भी तो लेते हैं हलाल?

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -