Monday, December 5, 2022
Homeदेश-समाजहिंदू लड़की से छुपाई खुद के मुस्लिम होने की बात, शादी के बाद शारीरिक-मानसिक...

हिंदू लड़की से छुपाई खुद के मुस्लिम होने की बात, शादी के बाद शारीरिक-मानसिक शोषण: असम पुलिस ने किया गिरफ्तार

ड़िता ने बताया निकाह के बाद शख्स ने उसे मानसिक और शारीरिक रूप से प्रताड़ित करना शुरू कर दिया था। निकाह के कुछ महीनों बाद उसका शौहर कथित तौर पर उससे बड़ी रकम लेकर तमिलनाडु से असम के नखुटी इलाके में भाग गया था।

असम के होजई जिले से लव जिहाद का एक मामला सामने आया है। अपनी पहचान छिपाकर हिंदू महिला से शादी करने के आरोप में एक शख्स को गिरफ्तार किया गया है। पुलिस ने बताया कि 35 वर्षीय आरोपित मुसलमान है। महिला की शिकायत के आधार पर होजई पुलिस ने उसे गिरफ्तार किया है।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, लुमडिंग पुलिस थाना प्रभारी (ओसी) एसके सरमा ने शनिवार (23 अक्टूबर) को मीडिया को बताया कि महिला ने जिला विधिक सेवा प्राधिकरण (डीएलएसए) की मदद से अपने शौहर के खिलाफ होजई के पुलिस अधीक्षक के समक्ष लिखित शिकायत दर्ज कराई है। असम के धेमाजी जिले की रहने वाली पीड़ित महिला ने बताया कि तमिलनाडु में साथ काम करने के दौरान वह उस शख्स के संपर्क में आई थी। महिला ने बताया कि वह होजई जिले के लुमडिंग थाने के नखुटी के 2 सरके बस्ती इलाके का रहने वाला है। उसने अपनी धार्मिक पहचान छिपाई और खुद को हिंदू बताकर उससे निकाह किया।

पीड़िता ने बताया निकाह के बाद शख्स ने उसे मानसिक और शारीरिक रूप से प्रताड़ित करना शुरू कर दिया था। निकाह के कुछ महीनों बाद उसका शौहर कथित तौर पर उससे बड़ी रकम लेकर तमिलनाडु से असम के नखुटी इलाके में भाग गया था।

बताया जा रहा है कि आरोपित व्यक्ति ने इसके बाद से महिला से संपर्क नहीं किया। पीड़िता ने जब खोजबीन की तो उसे होजई के डोबोका इलाके में शौहर की वास्तविक धार्मिक पहचान और अन्य बातों का पता चला। महिला ने इसकी शिकायत होजई के पुलिस अधीक्षक बरुन पुरकायस्थ से की। पुलिस अधीक्षक ने बुधवार रात लुमडिंग थाने से एक टीम को आरोपित को उसके गाँव से पकड़ने के लिए भेजा था।

बता दें कि लुमडिंग पुलिस थाने में इससे संबंधित एक मामला दर्ज किया गया और आरोपित को उसी रात गिरफ्तार कर लिया गया। इसके बाद उसे गुरुवार को होजई की एक स्थानीय अदालत में पेश किया गया। पुलिस इस मामले की विस्तृत जाँच कर रही है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

अब्बू, दादा और 3 चाचाओं ने मिल कर 9 साल की बच्ची को मार डाला, वो तड़पती रही-ये वीडियो बनाते रहे: पड़ोसियों को फँसाने...

पीलीभीत में 9 साल की बच्ची की हत्या का दर्दनाक मामला सामने आया है। इस घटना को बच्ची के अब्बू अनीस, दादा व चाचाओं ने मिलकर अंजाम दिया।

बोस्टन की यूनिवर्सिटी में ‘The Wire’ की आरफा का ‘व्याख्यान’, भारत में लोकतंत्र पर प्रोपेगंडा: आयोजकों में आतंकवादियों के हमदर्द, छिपाया नाम

भारत में ओपन सोसायटी फाउंडेशन की स्थापना के बाद से जॉर्ज सोरोस ने विभिन्न प्रकार के एनजीओ और संगठनों को फंडिंग कर भारत की छवि धूमिल करने का प्रयास किया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
236,950FollowersFollow
417,000SubscribersSubscribe