Tuesday, October 19, 2021
Homeदेश-समाजअसम: कोरोना के बीच अफ्रीकन स्वाइन फीवर से मर रहे हजारों सुअर, 6 जिलों...

असम: कोरोना के बीच अफ्रीकन स्वाइन फीवर से मर रहे हजारों सुअर, 6 जिलों में पोर्क की बिक्री पर बैन

असम ने प्रभावित जिलों में सुअर व सुअर के माँस की खरीद-बिक्री पर और आवाजाही पर प्रतिबंध लगा दिया है। साथ ही बूचड़खानों को बंद कर दिया है।

कोरोना के प्रकोप के बीच नॉर्थ ईस्ट के कुछ राज्यों पर एक दूसरा कहर टूटा है। खबर है कि वहाँ हजारों की संख्या में सुअर मरने लगे हैं। इसका कारण अफ्रीकन स्वाइन फीवर है। अंदाजा लगाया जा रहा है कि ये खतरनाक बीमारी चीन के तिब्बत से होते हुए अरुणाचल प्रदेश आई है।

इस बीमारी के कारण असम और मेघालय के अलावा कुछ अन्य राज्यों की सरकारों ने भी अपने प्रदेश के लोगों को अलर्ट पर रखा है। साथ ही सुअर पालने वालों को खासतौर पर चेताया है कि वे इस समय सुअरों को इधर-उधर ले जाने से बचें।

असम के कृषि और पशु चिकित्सा मंत्री अतुल बोरा ने इस संबंध में कहा कि अफ्रीकन स्वाइन फीवर (ASF) के संदिग्ध होने के कारण राज्य के 6 जिलों में 2,260 से अधिक सुअर मारे गए हैं। अब अधिकारियों ने इनके सैंपल भोपाल में नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ हाई-सिक्योरिटी एनिमल डिसीज को भेजे हैं। पुष्टि के लिए रिपोर्ट्स का इंतजार कर रहे हैं। बोरा ने कहा, “सूअर एक विदेशी वायरस से मर रहे हैं और हम अनुमान लगाते हैं कि यह चीन के तिब्बत से आया होगा।”

बोरा ने बताया कि एएसएफ धेमाजी, शिवसागर, लखीमपुर, जोरहाट, डिब्रूगढ़ और बिश्वनाथ जिलों में भी बीमारी के फैलने की बात कही जा रही। उनकी मानें तो 25 अप्रैल को 1964 से, केवल तीन दिनों में असम में सुअरों के मृत्यु का आँकड़ा 2262 तक पहुँच गया।

ताजा जानकारी के मुताबिक, असम ने अब प्रभावित जिलों में सुअर व सुअर के माँस की खरीद-बिक्री पर और आवाजाही पर प्रतिबंध लगा दिया है। साथ ही बूचड़खानों को बंद कर दिया है।

मेघायल में भी लगा बैन

इस कहर के मद्देनजर मेघालय सरकार ने असम और अरुणाचल प्रदेश के कुछ जिलों के हालात देखते हुए बाहर से सुअरों की आवाजाही पर पहले ही प्रतिबंध लगा दिया है। बुधवार को मेघालय के उपमुख्यमंत्री प्रिस्टोन तिनसॉन्ग ने इस संबंध में जानकारी दी कि राज्य ने अन्य राज्यों से सुअरों की फेरी पर प्रतिबंध लगाने के लिए एक अधिसूचना जारी की है। इसमें सरकारी व निजी सुअर फार्मों और सुअर मालिकों को स्वच्छता और जैव सुरक्षा के लिए पर्याप्त व सख्त उपाय करने के निर्देश भी दिए गए हैं।

इसके अलावा उपमुख्यमंत्री ने लोगों को ये भी सलाह दी कि वे पोर्क को खाने से पहले कम से कम 20 मिनट (70 डिग्री के ऊपर) पकाएँ।

त्रिपुरा, नागालैंड भी हाई अलर्ट पर

त्रिपुरा के पशु संसाधन विकास विभाग के निदेशक और अतिरिक्त सचिव दिलीप चकमा ने भी अपना बयान दिया। उन्होंने कहा कि असम के छह जिलों और अरुणाचल प्रदेश के नौ जिलों में एएसएफ के प्रकोप के बाद, उनके विभाग ने सभी सरकारी और निजी सुअर फार्मों और सुअर मालिकों को सतर्क किया है कि वे रोकथाम के लिए पर्याप्त उपाय करें।

इसके अलावा कि नगालैंड में, अफ्रीकी स्वाइन बुखार के कथित प्रकोप के मद्देनजर, राज्य के बाहर से सुअरों के आयात पर तत्काल प्रभाव से प्रतिबंध लगा दिया गया है।

बता दें, सुअरों की बड़ी संख्या में हो रही मौत पर पशु संसाधन विशेषज्ञों के अनुसार, सूअर आमतौर पर ASF के अलावा क्लासिकल फीवर, पोर्सिन रिप्रोडक्टिव एंड रेस्पिरेटरी सिंड्रोम (PRRS) से प्रभावित होते हैं।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘बांग्लादेश का नया नाम जिहादिस्तान, हिन्दुओं के दो गाँव जल गए… बाँसुरी बजा रहीं शेख हसीना’: तस्लीमा नसरीन ने साधा निशाना

तस्लीमा नसरीन ने बांग्लादेश में हिंदुओं पर कट्टरपंथी इस्लामियों द्वारा किए जा रहे हमले पर प्रधानमंत्री शेख हसीना पर निशाना साधा है।

पीरगंज में 66 हिन्दुओं के घरों को क्षतिग्रस्त किया और 20 को आग के हवाले, खेत-खलिहान भी ख़ाक: बांग्लादेश के मंत्री ने झाड़ा पल्ला

एक फेसबुक पोस्ट के माध्यम से अफवाह फैल गई कि गाँव के एक युवा हिंदू व्यक्ति ने इस्लाम मजहब का अपमान किया है, जिसके बाद वहाँ एकतरफा दंगे शुरू हो गए।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
129,820FollowersFollow
411,000SubscribersSubscribe