Saturday, July 24, 2021
Homeदेश-समाजकोरोना के उपचार के लिए अश्वगंधा, गुडूची पिप्पली जैसी पारंपरिक दवाओं का क्लीनिकल ट्रायल...

कोरोना के उपचार के लिए अश्वगंधा, गुडूची पिप्पली जैसी पारंपरिक दवाओं का क्लीनिकल ट्रायल शुरू

भारत में कई आयुर्वेद विशेषज्ञ और चिकित्सक यह कहते रहे हैं कि तुलसी, अश्वगंधा, गुडूची, पिप्पली आदि जैसे पौधे, जो परंपरागत रूप से बुखार, सर्दी और अन्य संक्रमणों के उपचार के लिए उपयोग किए जाते हैं और प्रतिरोधक क्षमता को विकसित करते हैं, कोरोना वायरस के उपचार में इनके असर का अध्ययन किया जाना चाहिए।

पूरी दुनिया में कोरोना वायरस संक्रमण की दवा खोजने के प्रयास किए जा रहे हैं। इसी कड़ी में भारत में अश्वगंधा (Ashwagandha), यष्टिमधु (Yashtimadhu), गुडूची पिप्पली (Guduchi Pippali), आयुष-64 जैसे पारंपरिक आयुर्वेदिक दवाओं का क्लीनिकल ट्रायल शुरू किया गया है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने यह जानकारी दी है।

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने गुरुवार (7 मई, 2020) को बताया कि स्वास्थ्यकर्मी और उच्च जोखिम वाले क्षेत्रों में काम करने वाले लोगों पर इनका क्लीनिकल ट्रायल शुरू कर दिया गया है।

यह अध्ययन आयुष मंत्रालय, स्वास्थ्य मंत्रालय और विज्ञान मंत्रालय, वैज्ञानिक और औद्योगिक अनुसंधान परिषद (सीएसआईआर) और साथ में आईसीएमआर के तकनीकी समर्थन से पूरा किया जाएगा। साथ ही परीक्षण मौजूदा उपायों के साथ-साथ मानक देखभाल के रूप में किया जाएगा।

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन और आयुष मंत्री श्रीपद नाईक ने गुरुवार को संयुक्त रूप से कोविड-19 से संबंधित तीन केंद्रीय आयुष मंत्रालय आधारित अध्ययनों का शुभारंभ किया। स्वास्थ्य मंत्रालय के सहयोग से आयुष मंत्रालय प्रोफिलैक्सिस के रूप में आयुर्वेद हस्तक्षेपों पर नैदानिक अनुसंधान अध्ययन और कोविड-19 की देखभाल के लिए एक ऐड-ऑन के रूप में लॉन्च किया गया है।

मंत्रालय ने 50 लाख लोगों के लक्ष्य के साथ बड़ी आबादी का डेटा तैयार करने के लिए आयुष संजीवनी मोबाइल ऐप भी विकसित किया है।

उल्लेखनीय है कि चीन कोरोना वायरस के उपचार के लिए पारंपरिक दवाओं से जुड़े उपयोग और अध्ययन को बढ़ावा दे रहा है। जैसा कि चीन से निकले कोरोना वायरस का आधुनिक चिकित्सा में अभी तक कोई इलाज संभव नहीं हो सका है। इस बीच विश्व के कई छोटे-बड़े देश इसकी वैक्सीन विकसित करने के प्रयासों में रात-दिन लगे हुए हैं।

कुछ देशों ने कोरोना वायरस की वैक्सीन पर सकारात्मक परिणाम आने की बात कही है, लेकिन अभी तक कोई ठोस परिणाम सामने नहीं आ सके हैं। भारत में कई आयुर्वेद विशेषज्ञ और चिकित्सक यह कहते रहे हैं कि तुलसी, अश्वगंधा, गुडूची, पिप्पली आदि जैसे पौधे, जो परंपरागत रूप से बुखार, सर्दी और अन्य संक्रमणों के उपचार के लिए उपयोग किए जाते हैं और प्रतिरोधक क्षमता को विकसित करते हैं, कोरोना वायरस के उपचार में इनके असर का अध्ययन किया जाना चाहिए।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘धर्मांतरण कोई समस्या नहीं, अपने घर में सम्मान न मिले तो दूसरे के घर जाएँगे ही’: मिशनरी साजिश पर बिहार के पूर्व CM

गया में पिछले कई वर्षों से सिलसिलेवार तरीके से ईसाई धर्मांतरण की साजिश का खुलासा हुआ है। पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम माँझी ने इन घटनाओं का समर्थन किया।

‘हमने मोदी को जिताया की रट लगाते हो, खुद 2 बार लड़े तो क्यों नहीं जीत गए?’ महिला पत्रकार ने उतार दी राकेश टिकैत...

'इंडिया 1 न्यूज़' की गरिमा सिंह ने राकेश टिकैत के इस बयान को लेकर भी सवाल पूछा जिसमें वो बार-बार कहते हैं कि इस सरकार को 'हमने जिताया'।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
110,931FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe