Saturday, June 22, 2024
Homeदेश-समाजजिससे बीवी की डिलिवरी के लिए ₹5000 लिए, उसके ही बच्चों को काट डाला:...

जिससे बीवी की डिलिवरी के लिए ₹5000 लिए, उसके ही बच्चों को काट डाला: पीड़ित माँ ने बताया- भाभी चाय पिला दो कहते हुए घर में घुसा था साजिद

साजिद ने घर में घुस बच्चों की माँ से चाय बनाने को कहा था। वह बोला- "भाभी चाय बनाओ मैं अभी ऊपर से आ रहा हूँ।" संगीता को लगा कि शायद बीवी अस्पताल में है इसलिए उसे बेचैनी होगी। संगीता ने उसे छत पर जाने दिया। इसके बाद साजिद ने बच्चों को छत पर बुलाया और उनका गला रेता।

उत्तर प्रदेश के बदायूँ में दो सगे भाइयों की निर्मम हत्या करने वाले साजिद का यूपी पुलिस ने एनकाउंटर कर डाला। साजिद ने मंगलवार (19 मार्च 2024) को बाबा कॉलोनी निवासी विनोद ठाकुर के दो बेटों- आयुष (13) और अहान (6) का घर में घुसकर गला रेता था। वहीं तीसरा बच्चा पीयूष उसके वार से बाल-बाल बचा था।

हत्या के दौरान साजिद पर इतनी हैवानियत सवार थी कि कुछ रिपोर्ट बता रही हैं कि हत्या के बाद साजिद के न केवल हाथ खून से सने थे बल्कि उसके मुँह पर भी खून लगा हुआ था जैसे उसने गला रेत उसे पिया हो। स्थानीयों ने इस घटना के बाद साजिद की हेयर सैलून की दुकान में रखे सामान को गुस्से में आग के हवाले कर दिया। वहीं घरवालों का अब भी रो-रोकर बुरा हाल है।

साजिद कैसे घुसा घर में, क्या बोला, क्या किया?

पूरा मामला 19 मार्च 2024 का है। यूपी के बदायूँ में सिविल लाइंस कोतवाली क्षेत्र में बाबा कॉलोनी में रहने वाले ठेकेदार विनोद ठाकुर के तीनों बच्चे अपने घर पर थे। शाम को 6:30 बजे उनके यहाँ घर के पास ही एक हेयर सैलून चलाने वाले साजिद और जावेद आए। विनोद ठाकुर की पत्नी संगीता ने गेट खोला तो उन्होंने उनसे क्लैचर माँगा और उसके बाद वो 5000 रुपए माँगने लगे।

अमर उजाला पर मौजूद वीडियो में संगीता (पीड़ित माँ) बताती हैं कि साजिद ने उनसे कहा कि उसकी बीवी की डिलीवरी होने वाली है, डॉक्टर ने समय दिया है, पाँच बच्चे पहले ही खत्म हो चुके हैं, उसे पैसों की सख्त जरूरत है। इसके बाद संगीता ने अपने पति विनोद ठाकुर को फोन किया और सारी बात बताई। विनोद ने भी कहा कि वो साजिद को पैसे दे दें क्योंकि मुश्किल समय सबपर आता है मदद करनी चाहिए। इसके बाद संगीता ने साजिद को 5000 रुपए दे दिए।

पैसे लेकर साजिद ने बच्चों की माँ से चाय बनाने को कहा। वह बोला- “भाभी चाय बनाओ मैं अभी ऊपर से आ रहा हूँ।” संगीता को लगा कि शायद बीवी अस्पताल में है इसलिए उसे बेचैनी होगी। संगीता ने उसे छत पर जाने दिया। इसके बाद साजिद ने बच्चों को छत पर बुलाया। यहाँ उसने बड़े वाले लड़के को अपने पास रोककर छोटे वाले से कहा कि वो पानी ले आए और बीच वाले से कहा वो गुटका ले आए।

सबके इधर-उधर पर ही साजिद ने आयुष और अहान का गला रेता। वहीं पीयूष ने जब छत पर जाकर देकर देखा तो वो चाकू लेकर उसके पीछे भी भागा लेकिन पीयूष किसी तरह बचकर चिल्लाते हुए नीचे आ गया। उसकी आवाज सुन माँ-दादी दोनों घबरा गए। उन्होंने ऊपर जाकर देखा तो सबके हाथ-पाँव फूल गए।

साजिद खून से सने हाथ लेकर उनके सामने खड़ा था और जावेद उसका नीचे इंतजार कर रहा था। माँ-दादी ने बच्चों का शव देख चिल्लाना शुरू किया तो पड़ोसी इकट्ठा हुए। उन्होंने संगीता और पीयूष किसी तरह बाहर खींचा और भीड़ जमाकर होकर मंडी समिति पुलिस चौकी गई। इस दौरान वहाँ आसपास के खोखों और कुर्सियों में तोड़फोड़ हुई।

पुलिस ने 3 घंटे में किया मुख्य आरोपित का एनकाउंटर

मामले की गंभीरता देखते हुए एसएसपी, डीएम घटनास्थल पर पहुँचे। उन्होंने आयुष और आहान के शव को निकाला। लोगों ने उन्हें बताया कि आरोपित खून से सने हाथ लेकर भागा है। इतनी जानकारी होते ही पुलिस ने इलाके की घेराबंदी कर ली और मात्र घटना के तीन घंटे बाद ही खबर आई कि पुलिस ने मुख्य आरोपित साजिद को एनकाउंटर में मार दिया है। ये एनकाउंट शेखूपुर जंगल के पास हुआ।

दरअसल, पहले साजिद ने पुलिस पर गोली चलाने का प्रयास किया था। इसके बाद जवाबी कार्रवाई में पुलिस ने उसे ढेर किया। मुठभेड़ में इंस्पेक्टर गौरव विश्नोई भी घायल हैं। उनका इलाज जिला अस्पताल में चल रहा है उन्हें आईसीयू में भर्ती कराया गया है।

बता दें कि बच्चों की हत्या के बाद पीड़ित माँ-बाप का रो रोकर बुरा हाल है। जब उन्हें पता चला कि पुलिस ने साजिद को मार गिराया है तो उन्होंने माँग की कि उन्हें साजिश के शव को दिखाया जाए वरना वो वहीं पर आत्मदाह कर लेंगे। माता-पिता की स्थिति को देखते हुए पुलिस ने उन्हें साजिद का शव दिखाने का आश्वासन दिया। वहीं ये भी कहा है कि मामले में जो साजिद द्वारा खून पीने की बात आ रही है, वो जाँच का विषय है, वो लोग उस पर जाँच कर रहे हैं। दूसरा आरोपित जावेद फरार है। पुलिस उसे ढूँढने की कोशिशों में लगी है।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

NEET पेपरलीक का मास्टरमाइंड निकाल बिहार का लूटन मुखिया, डॉक्टर बेटा भी जेल में: पत्नी लड़ चुकी है विधानसभा चुनाव, नौकरी छोड़ खुद बना...

नीट पेपर लीक के मास्टरमाइंड में से एक संजीव उर्फ लूटन मुखिया। वह BPSC शिक्षक बहाली पेपर लीक कांड में जेल जा चुका है। बेटा भी जेल में है।

व्यभिचारी वैष्णव आचार्य, पत्रकार ने खोली पोल, अंग्रेजों के कोर्ट में मुकदमा… आमिर खान के बेटे को लेकर YRF-Netflix की बनाई फिल्म बहस का...

माँ भवानी का अपमान करने वाले को जवाब देने कारण हकीकत राय नामक बच्चे का खुलेआम सिर कलम कर दिया गया था। इस पर फिल्म बनाएगा बॉलीवुड? या सिर्फ वही 'वास्तविक कहानियाँ' चुनी जाती हैं जिनमें गुंडा कोई साधु-संत हो?

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -