Monday, July 26, 2021
Homeदेश-समाजशिव मंदिर में फेंके प्रतिबंधित मांस के टुकड़े, बीफ के कारण पहले भी इस...

शिव मंदिर में फेंके प्रतिबंधित मांस के टुकड़े, बीफ के कारण पहले भी इस इलाके में हुआ था बवाल

धनबाद और जामताड़ा जिले की सीमा पर स्थित दुखिया महादेव मंदिर में हिन्दुओं की धार्मिक भावनाएँ भड़काने के लिए प्रतिबंधित मांस का टुकड़ा फेंका गया। पुलिस ने अज्ञात लोगों के ख़िलाफ़ प्राथमिकी दर्ज की। लेकिन स्थानीय लोगों ने 6 घंटे तक सड़क जाम कर...

झारखण्ड के धनबाद और जामताड़ा जिले की सीमा पर स्थित करमदाहा में रविवार (दिसंबर 29, 2019) को सुबह हिन्दुओं की धार्मिक भावनाएँ भड़काने के लिए मंदिर के पास प्रतिबंधित माँस का टुकड़ा फेंका गया। ये घटना दुखिया महादेव मंदिर के समीप हुई। पुलिस ने कहा है कि ये कुछ शरारती तत्वों की करतूत है। इस मामले में अज्ञात लोगों के ख़िलाफ़ प्राथमिकी दर्ज की गई है। मंदिर में मांस की खबर सुन आक्रोशित स्थानीय लोगों ने क़रीब 6 घंटे तक सड़क को जाम रखा। पुलिस ने समझा-बुझा कर स्थिति को शांत कराया।

इस सम्बन्ध में ऑपइंडिया ने दैनिक जागरण के स्थानीय पत्रकार प्रमोद चौधरी से बातचीत की, जिन्होंने बताया कि मुस्लिम-बहुल आबादी के कारण यह इलाक़ा पहले से ही संवेदनशील रहा है। चौधरी ने बताया कि यहाँ हिन्दू-मुस्लिम तनाव का पुराना इतिहास रहा है। स्थानीय लोगों और पुलिस में इस घटना के कारण झड़प भी हुई। जब पुलिस ने दोषियों की तुरंत गिरफ़्तारी का आश्वासन दिया, तब जाकर लोग शांत हुए। ऑपइंडिया ने एसडीपीओ अरविन्द उपाध्याय से भी कॉन्टैक्ट करने की कोशिश की लेकिन उनसे बात नहीं हो सकी।

आक्रोशित लोगों ने दोषियों की त्वरित गिरफ़्तारी की माँग की

ये घटना जहाँ पर हुई, वो इलाक़ा अक्सर सुनसान रहता है। उक्त मंदिर बराकर नदी के घाट पर स्थित है। गोविंदपुर से साहिबगंज जाने वाली सड़क इसी आसपास से होकर गुजरती है, जिसे आक्रोशित लोगों ने 6 घंटे तक जाम रखा। जामताड़ा के विधायक व कॉन्ग्रेस नेता इरफ़ान अंसारी ने इस घटना पर अपनी प्रतिक्रिया देते हुए कहा:

“जामताड़ा की जनता ने मुझे प्रचंड बहुमत से जिताया है। मैं भरोसा दिलाता हूँ कि दोषियों को नहीं बख्शा जाएगा। जिन्होंने आग लगाई है, वो भी जेल जाएँगे। जिन्होंने मंदिर में मांस का टुकड़ा फेंका है, उन्हें भी पकड़ कर जेल भेजा जाएगा। मैं यहाँ चकमाबाजी और धोखाधड़ी नहीं चलने दूँगा। दहशतगर्द जल्द ही पुलिस के शिकंजे में होंगे। आप मेरे पर भरोसा रखिए।”

स्थानीय कॉन्ग्रेस विधायक इरफ़ान अंसारी का बयान

बता दें कि ये वही इलाक़ा है, जहाँ एक वर्ष पूर्व मिन्हाज अंसारी नामक व्यक्ति ने बीफ की फोटो शेयर की था। बाद में पुलिस की हिरासत में उसकी मौत हो गई थी, जिसके बाद काफ़ी बवाल हुआ था। 22 वर्षीय मिन्हाज ने कटी हुई गाय का फोटो व्हाट्सप्प पर शेयर किया था और साथ में भड़काऊ बयानों को भी आगे बढ़ाया था। बाद में उसके परिजनों ने आरोप लगाया था कि उसे पुलिस ने प्रताड़ित किया और फिर मार डाला। पुलिस के अनुसार, कस्टडी में ही उसकी हालत बिगड़ गई, जिसके बाद उसे रिम्स में भर्ती कराया गया था। वहाँ उसकी मौत हो गई थी।

मुस्लिम भीड़ ने CAA के विरोध के नाम पर हनुमान मंदिर में घुस कर मूर्तियों को तोड़ा: वीडियो आया सामने

लिबरपंथियो, आँकड़े चाहिए हिन्दुओं पर हुए अत्याचार के? ये लो – रेप, हत्या, मंदिर सब का डेटा है यहाँ

मुस्लिम मॉब ने मंदिर में की तोड़-फोड़ और आगजनी: पटना में स्थानीय लोग और पुलिस इनके सामने असहाय

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘कारगिल कमेटी’ पर कॉन्ग्रेस की कुण्डली: लोकतंत्र की सुरक्षा के लिए राष्ट्रीय सुरक्षा राजनीतिक दृष्टिकोण का न हो मोहताज

हमें ध्यान में रखना होगा कि जिस लोकतंत्र पर हम गर्व करते हैं उसकी सुरक्षा तभी तक संभव है जबतक राष्ट्रीय सुरक्षा का विषय किसी राजनीतिक दृष्टिकोण का मोहताज नहीं है।

असम-मिजोरम बॉर्डर पर भड़की हिंसा, असम के 6 पुलिसकर्मियों की मौत: हस्तक्षेप के दोनों राज्‍यों के CM ने गृहमंत्री से लगाई गुहार

असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा सरमा ने ट्वीट कर बताया कि असम-मिज़ोरम सीमा पर तनाव में असम पुलिस के 6 जवानों की जान चली गई है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,341FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe