Monday, August 15, 2022
Homeदेश-समाजदलित बच्चों को खाने में गौमांस, पढ़ने के लिए बाइबल... इनकार पर दबाते थे...

दलित बच्चों को खाने में गौमांस, पढ़ने के लिए बाइबल… इनकार पर दबाते थे गला: 48 घंटों में एसपी से NCPCR ने माँगा जवाब

इसी जगह के फादर रोजन पर पहले भी धर्मान्तरण के आरोप लग चुके हैं। तब 70 बच्चों के नाम के आगे क्रिश्चियन लिख दिया गया था। अब गौमांस खिलाने और पढ़ने के लिए बाइबल देकर...

मध्य प्रदेश के सागर जिले में दलित समाज के नाबालिग बच्चों पर धर्मान्तरण के दबाव और उन्हें जबरन गौमांस (बीफ, Beef) खिलाने और जबरन बाइबल पढ़ाने की घटना सामने आई है। यह मामला श्यामपुरा के सेवाधाम आश्रम का है। अब इस मामले में राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग (NCPCR) ने संज्ञान लिया है। आयोग ने पुलिस अधीक्षक सागर को कार्रवाई के आदेश देते हुए 48 घंटों के भीतर जवाब माँगा है।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक सेंट फ्रांसिस सेवाधाम के खिलाफ कैंट थाने में शिकायत दर्ज करवाई गई है। शिकायतकर्ता भाई-बहन हैं, जो वहाँ लगभग 18 महीने से रह रहे थे। गौमांस न खाने और बाइबिल ने पढ़ने पर उन्होंने अपने साथ उत्पीड़न होने की बात कही है।

पीड़ित बच्चों के पिता देशराज ने इसकी शिकायत राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग में की थी। इस मामले में आयोग ने कहा है कि सागर जिले से मिली शिकायत को बाल अधिकार संरक्षण आयोग अधिनियम 2005 की धारा 13 के नियमानुसार लिया गया है। इसमें बच्चों ने पिता से पिटाई की भी बात बताई है।

एक स्थानीय पोर्टल द सूत्र के मुताबिक, “बच्चे दलित समाज (अनुसूचित जाति) के हैं। शिकायत के बाद बच्चों को स्कूल से निकाल कर उनके पिता को सौंप दिया गया है। यह सेवाधाम कैंट थाना के बरारू इलाके में आता है। यहाँ सूअर का भी मांस खिलाया जाता है। मांस सेवाश्रम के अंदर ही काटा जाता है। बच्चों को लॉकेट पहना कर चर्च ले जाया जाता है। कुछ भी इनकार करने पर गर्दन तक दबा दी जाती है।”

इस मामले पर स्थानीय हिन्दू समाजसेवी ओंकार सिंह के मुताबिक, “पहले इसी स्थान के फादर रोजन पर धर्मान्तरण के आरोप लग चुके हैं। तब 70 बच्चों के नाम के आगे धर्म के स्थान पर क्रिश्चियन लिख दिया गया था और इन सभी 70 बच्चों के पिता के नाम के आगे एक ही व्यक्ति का नाम था – रोशन क्रिश्चन। इस मामले में जाँच समिति बनाई गई थी, जिसने अब तक कोई भी कार्रवाई नहीं की। सेवाधाम आश्रम के संचालन की मान्यता साल भर पहले ही रद्द हो चुकी है। इसकी लीज भी बहुत पहले समाप्त हो गई है।”

सागर जिले के एडिशनल SP विक्रम सिंह के अनुसार गौमांस खिलाने और धर्मान्तरण के लिए प्रेरित करने की शिकायत पर बच्चों और उनके पिता के बयान दर्ज कर लिए गए हैं। मामले की जाँच की जा रही है। जाँच के बाद जो कुछ भी निकल कर सामने आएगा, उस पर नियमानुसार करवाई की जाएगी।

गौरतबल है कि इससे पहले भी सागर जिले में एक हिन्दू युवक को उसी के ससुराल वालों ने पत्नी पाने के बदले ईसाई बनने का दबाव बनाया था। इसी के साथ कुछ दिन पहले विदिशा जिले के एक स्कूल में धर्मान्तरण की शिकायत पर हिन्दू संगठनों ने हंगामा किया था।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

स्वतंत्रता के हुए 75 साल, फिर भी बाँटी जा रही मुफ्त की रेवड़ी: स्वावलंबन और स्वदेशी से ही आएगी आर्थिक आत्मनिर्भरता

जब हम यह मानते हैं कि सत्य की ही जय होती है तब ईमानदार सत्यवादी देशभक्त नेताओं और उनके समर्थकों को ईडी आदि से भयभीत नहीं होना चाहिए।

जालौर में इंद्र मेघवाल की मौत: मृतक की जाति वाले टीचर ने नकारा भेदभाव, स्कूल में 8 में से 5 स्टाफ SC/ST

जालौर में इंद्र मेघवाल की मौत पर दावा कि आरोपित हेडमास्टर ने मटकी से पानी पीने पर मारा, जबकि अन्य लोगों का कहना है कि वहाँ कोई मटकी नहीं है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
213,900FollowersFollow
417,000SubscribersSubscribe