Thursday, May 30, 2024
Homeदेश-समाजझारखंड के शिव मंदिर में फेंका बीफ, तनाव के कारण इलाके में भारी फोर्स...

झारखंड के शिव मंदिर में फेंका बीफ, तनाव के कारण इलाके में भारी फोर्स तैनात: साफ़-सफाई के बाद किया गया मंदिर का शुद्धीकरण

रामपुर गाँव के पंचायत जन प्रतिनिधि शम्भू सिंह ने आरोप लगाया है कि गाँव में असामाजिक तत्वों द्वारा अक्सर किसी न किसी प्रकार आपसी प्रेम और सौहार्द को खराब करने का प्रयास किया जाता रहा है। इसे लेकर वह पुलिस को ज्ञापन भी देने वाले हैं।

झारखंड के लोहरदगा जिले के रामपुर गाँव में एक शिव मंदिर के भीतर बीफ फेंकने की घटना प्रकाश में आई है। मंदिर के अंदर माँस का टुकड़ा देख हिंदू आक्रोशित हैं। पुलिस ने दो समुदायों से जुड़ा मामला समझ गाँव मे फोर्स की तैनाती कर दी है। हालाँकि इलाके में तनाव अब भी बताया जा रहा है।

दैनिक जागरण की रिपोर्ट कहती है कि कुछ असामाजिक तत्वों ने शिव मंदिर के परिसर में बीफ को फेंका, जिसका पता स्थानीयों को शनिवार (9 जुलाई 2022) सुबह चला। माँस देखते ही स्थानीय भड़क गए। देखते ही देखते घटना की जानकारी पूरे गाँव में फैल गई और मंदिर के पास भीड़ बढ़ती गई।

घटना के बाद दो पक्ष के लोग आमने-सामने आ गए। लेकिन तभी किसी ने इस घटना के बारे सदर थाना में सूचना दे दी। पुलिस ने मौके से पहुँचकर दोनों पक्षों को समझाया और तनाव को शांत किया गया। इस दौरान कुछ ग्रामीणों के सहयोग से भी स्थानीयों से शांति बनाए रखने की अपील की गई है।

स्थानीय मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक गाँव के पंचायत जन प्रतिनिधि शम्भू सिंह ने आरोप लगाया है कि गाँव में असामाजिक तत्वों द्वारा अक्सर किसी न किसी प्रकार आपसी प्रेम और सौहार्द को खराब करने का प्रयास किया जाता रहा है। इसे लेकर वह पुलिस को ज्ञापन भी देने वाले हैं। फिलहाल मंदिर की साफ सफाई करवाकर उसका शुद्धिकरण करवा दिया गया है।

कथिततौर पर, घटना की सूचना मिलने के बाद कुछ मुस्लिम समुदाय के लोग भी मौके पर पहुँचे और उन्होंने इस घटना को दुर्भाग्यपूर्ण बताते हुए आरोपितों के विरुद्ध कड़ी कार्रवाई और फौरन गिरफ्तारी की माँग की है।

पुलिस अधीक्षक आर राम कुमार ने बताया कि अभी मामले में जाँच की जा रही है। चारों ओर फोर्स को तैनात कर दिया गया है। जल्द ही असामाजिक तत्वों को पकड़ कानूनी कार्रवाई की जाएगी और जो भी दोषी होगा उसे सलाखों के पीछे डाला जाएगा

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

जहाँ माता कन्याकुमारी के ‘श्रीपाद’, 3 सागरों का होता है मिलन… वहाँ भारत माता के 2 ‘नरेंद्र’ का राष्ट्रीय चिंतन, विकसित भारत की हुंकार

स्वामी विवेकानंद का संन्यासी जीवन से पूर्व का नाम भी नरेंद्र था और भारत के प्रधानमंत्री भी नरेंद्र हैं। जगह भी वही है, शिला भी वही है और चिंतन का विषय भी।

बाँटने की राजनीति, बाहरी ताकतों से हाथ मिला कर साजिश, प्रधान को तानाशाह बताना… क्या भारतीय राजनीति के ‘बनराकस’ हैं राहुल गाँधी?

पूरब-पश्चिम में गाँव को बाँटना, बाहरी ताकत से हाथ मिला कर प्रधान के खिलाफ साजिश, शांति समझौते का दिखावा और 'क्रांति' की बात कर अपने चमचों को फसलना - 'पंचायत' के भूषण उर्फ़ 'बनराकस' को देख कर आपको भारत के किस नेता की याद आती है?

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -