Sunday, April 14, 2024
Homeदेश-समाज'जसीम ने तेरी बेटी से किया निक़ाह, कुछ समय में वापस आ जाएगी' -...

‘जसीम ने तेरी बेटी से किया निक़ाह, कुछ समय में वापस आ जाएगी’ – 17 साल की हिंदू लड़की के माँ-बाप झेल रहे दर्द

"बेगुसराय में पहले भी ऐसे कई मामले देखे गए हैं, जहाँ नाबालिग लड़कियों के उम्र संबंधी फ़र्जी दस्तावेज़ बनाकर उनसे निक़ाह कर लिया गया है।"

बिहार के बेगूसराय ज़िले में 22 नवंबर को एक परिवार ने स्थानीय पुलिस स्टेशन में एक लिखित शिक़ायत दर्ज करवाई। शिकायत क्या थी – नाबालिग बेटी अचानक ग़ायब हो गई है, शक़ यह है कि उसका अपहरण उसे पढ़ाने वाले एक ट्यूटर ने किया है। लेकिन मामला इस दो लाइन से कहीं ज्यादा गंभीर है।

इस घटना के एक सप्ताह बीत जाने के बाद अब तक पुलिस ने इस मामले में किसी की गिरफ़्तारी नहीं की है। नाबालिग अभी भी ग़ायब है।

लड़की की माँ ने पुलिस को अपनी शिक़ायत में बताया कि 20 नवंबर को उसकी बेटी समीर कोचिंग सेंटर के लिए अपने दैनिक कार्यक्रम के अनुसार सुबह 9:30 बजे घर से निकली थी। जब वह 12:30 बजे तक वापस नहीं आई, तो वो कोचिंग सेंटर गईं। वहाँ उन्हें पता चला कि उनकी बेटी कोचिंग के मालिक मोहम्मद जसीम उर्फ़ ​​समीर के साथ एक घंटे पहले ही सेंटर से जा चुकी है। तभी से, लड़की का कोई अता-पता नहीं है।

Written statement of girl’s mother to the police
पुलिस को दिया लड़की की माँ का लिखित बयान (फोटो साभार: swarajyamag)

ख़बर के अनुसार, मुफ्फसिल थाना के डुमरी प्रखंड के स्टेशन हाउस ऑफि़सर (SHO) मनीष सिंह ने बताया कि इस मामले में प्रथम सूचना रिपोर्ट (FIR) संख्या 612/19 में आरोपित के ख़िलाफ़ आईपीसी की धारा-366 (नाबालिग लड़की की खरीद, दस साल तक की कैद की सजा) और 364 (हत्या करने या अपहरण करने के लिए अपहरण, दस साल तक की कैद की सजा) के तहत मामला दर्ज किया गया है।

सिंह ने बताया कि इस मामले की जाँच चल रही है। इस दौरान न ही जसीम के बारे में कुछ पता चल सका है और न ही नाबालिग लड़की के बारे में कोई जानकारी मिल सकी है।

वहीं, लड़की के परिजनों ने पुलिस पर लापरवाही का आरोप लगाया है। उनका कहना है कि पुलिस ने लड़की की तलाश करने में गंभीरता न दिखाते हुए बहुत कम प्रयास किए। परिजनों ने यहाँ तक कहा कि पुलिस इस मामले को नज़रअंदाज़ किया है।

लड़की के परिवारवालों ने कुछ ऐसे दस्तावेज दिखाए हैं, जो मामले की गंभीरता को दर्शाता है। एक दस्तावेज के अनुसार, लगभग एक साल पहले, लड़की का धर्म परिवर्तन करवा कर इस्लाम कबूल कराया गया था। उसका नाम भी बदल दिया गया था और तब उसने जसीम से निक़ाह कर लिया था। जबकि, लड़की हिन्दू है और महतो जाति की है।

परिजनों ने पिछले साल के उस हलफ़नामे को दिखाया, जिसमें लड़की की उम्र 19 साल है। इस हलफ़नामे में यह भी दिखाया गया कि उसने अपनी मर्ज़ी से इस्लाम क़बूल किया है। इसके बाद उसका नाम बदलकर नाज़मा खातून कर दिया गया और 28 अगस्त 2018 को लखमिनिया की एक मस्जिद में मोहम्मद जसीम के साथ उसका निक़ाह हो गया।

 Notorised affidavit by the girl dated a year ago
एक साल पहले लड़की की उम्र का फ़र्ज़ी दस्तावेज़ (साभार: swarajyamag)

वहीं, परिवार ने लड़की के असली आधार कार्ड को भी दिखाया, जिससे हलफनामे में किए गए फर्जीवाड़े का पता चलता है। आधार के अनुसार लड़की की जन्मतिथि 27 फरवरी 2002 है। इस हिसाब से लड़की की उम्र 17 साल की है। फ़र्जी हलफनामे में उसकी उम्र 27 फरवरी 2000 दर्शाई गई है।

लड़की के चाचा ने बताया, “जब हमें दो दिन तक लड़की नहीं मिली, तो हम ट्यूटर के घर गए और उसकी माँ से पूछताछ की। वह कागज़ों का एक ढेर ले आई, जिसमें हमें बताया गया कि जसीम ने लड़की से निक़ाह कर लिया है और कुछ समय में वापस आ जाएगा।”

लड़की के परिजनों द्वारा शेयर किया नाबालिग का आधार कार्ड (साभार: swarajyamag)

उन्होंने बताया कि कागज़ात में एक ऐसा दस्तावेज़ भी था, जिसमें दिखाया गया था कि 26 जून 2019 को जसीम ने लड़की के पिता के ख़िलाफ़ बेगूसराय ज़िला अदालत में एक रिपोर्ट दायर की गई थी, जिसमें कहा गया था कि लड़की के परिवार वाले उस जोड़े पर लड़की की मर्ज़ी के ख़िलाफ़ अलग होने के लिए दबाव डाल रहे हैं। इस दस्तावेज़ के मुताबिक जसीम की उम्र 26 वर्ष थी।

लड़की के चाचा ने कहा, “यह बड़ी बेहुदी बात है। हमें जब लड़की के धर्मांतरण और निक़ाह की बात पता ही नहीं थी, तो हम दंपती पर किसी तरह का दबाव कैसे डाल सकते थे? लड़की तो हम सबके साथ ही रह रही थी।”

The first page of the ‘sanah’
‘रिपोर्ट’ का पहला पृष्ठ (साभार: swarajyamag)

इसके आगे उन्होंने कहा, “जसीम का परिवार अब फ़रार हो चुका है और उसके घर पर अब ताला लगा हुआ है।”

लड़की के परिजनों ने बेगूसराय में बजरंग दल के 23 वर्षीय कार्यकर्ता शुभम भारद्वाज से सम्पर्क किया। उन्होंने बताया कि ज़िले में पहले भी ऐसे कई मामले देखे गए हैं, जहाँ नाबालिग लड़कियों के उम्र संबंधी फ़र्जी दस्तावेज़ बनाकर उनसे निक़ाह कर लिया गया है।

उन्होंने कहा, “पुलिस को मस्जिद और नोटरी अधिकारी से पूछताछ करनी चाहिए जिन्होंने ग़लत जानकारी के आधार पर इन दस्तावेज़ बनाए। लेकिन, उन्होंने (पुलिस) एक हफ़्ते के बाद भी में कुछ नहीं किया।”

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

BJP की तीसरी बार ‘पूर्ण बहुमत की सरकार’: ‘राम मंदिर और मोदी की गारंटी’ सबसे बड़ा फैक्टर, पीएम का आभामंडल बरकार, सर्वे में कहीं...

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अगुवाई में बीजेपी तीसरी बार पूर्ण बहुमत की सरकार बनाती दिख रही है। नए सर्वे में भी कुछ ऐसे ही आँकड़े निकलकर सामने आए हैं।

‘राष्ट्रपति आदिवासी हैं, इसलिए राम मंदिर प्राण प्रतिष्ठा में नहीं बुलाया’: लोकसभा चुनाव 2024 में राहुल गाँधी ने फिर किया झूठा दावा

राष्ट्रपति मुर्मू को राम मंदिर ट्रस्ट का प्रतिनिधित्व करने वाले एक प्रतिनिधिमंडल ने अयोध्या में प्राण प्रतिष्ठा समारोह में शामिल होने के लिए औपचारिक रूप से आमंत्रित किया गया था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
282,677FollowersFollow
417,000SubscribersSubscribe