Monday, January 17, 2022
Homeदेश-समाजबंगाल में BSF जवानों के घर पर भी हमले, TMC के गुंडों ने की...

बंगाल में BSF जवानों के घर पर भी हमले, TMC के गुंडों ने की तोड़फोड़, आगजनी और मारपीट: ‘नेटवर्क 18’ के पत्रकार का दावा

"अगर सीमा ऱक्षक खुद या उनके परिवार और मकान सुरक्षित नहीं हैं, तो आम आदमी की कौन कहे। जो लफ़ंगों, गुंडों और घुसपैठियों से देश को बचाते हैं, खुद उनके घर पर ये लफ़ंगे हमले कर रहे हैं। हद है ये सब।"

पश्चिम बंगाल में रविवार (मई 2, 2021) को हुई मतगणना में तृणमूल कॉन्ग्रेस (TMC) की जीत के साथ ही उसके गुंडे सक्रिय हो गए। राज्य भर में कई भाजपा कार्यकर्ताओं की हत्या हुई। उनके घर तोड़े गए और भाजपा के दफ्तरों को आग के हवाले कर दिया गया। अब ‘नेटवर्क 18 ग्रुप’ के प्रबंध संपादक ब्रजेश कुमार सिंह ने जानकारी दी है कि पश्चिम बंगाल में देश की सीमाओं की रक्षा करने वाले BSF जवानों को भी नहीं बख्शा जा रहा है।

ब्रजेश ने सोशल मीडिया के माध्यम से बताया है कि पश्चिम बंगाल में सीमा रक्षकों के घरों पर भी हमले हो रहे हैं। उन्होंने अपने सूत्रों के हवाले से जानकारी दी है कि ममता बनर्जी की पार्टी TMC के कार्यकर्ताओं ने दो अलग-अलग जगहों पर BSF जवानों के घरों पर हमले किए हैं। उन्होंने बताया कि तोड़फोड़ व आगज़नी के साथ-साथ मारपीट की गई है। उन्होंने जवानों और उनके परिवार पर हुए हमले को शर्मनाक करार दिया।

ब्रजेश के अनुसार, पहला मामला जलपाईगुड़ी ज़िले के रानीरहाट इलाक़े का है, जहाँ छुट्टी पर आए BSF जवान कमल सेन के घर पर TMC से जुड़े गुंडों ने हमला बोला। साथ ही कमल और परिवार वालों के साथ मारपीट कर उन्हें घायल कर दिया। ब्रजेश की मानें तो कमल सेन के घर, ट्रैक्टर और बाइक में भी आग लगा दी गई। घायल जवान के सिलिगुड़ी के अस्पताल में भर्ती होने की बात कही जा रही है।

वरिष्ठ पत्रकार के मुताबिक, दूसरी घटना कूचबिहार की है। यहाँ सुशांत बर्मन नामक BSF जवान के घर पर हमला किया गया और लूट मचाई गई है। उन्होंने बताया है कि हमले की वजह से बर्मन के परिवार के सदस्य घर छोड़कर भागे हुए हैं। उनकी जान को ख़तरा है। जवान का भाई भाजपा समर्थक है और इसे ही हमले का कारण बताया जा रहा है। जानकारी दी गई है कि इस मामले में शिकायत भी दर्ज हुई है।

‘नेटवर्क 18 ग्रुप’ के मैनेजिंग एडिटर ब्रजेश कुमार सिंह ने दी BSF जवानों पर हमले की जानकारी

ब्रजेश कुमार सिंह ने ट्विटर पर लिखा, “ये दोनों ही घटनाएँ ये बताने के लिए काफी हैं कि पश्चिम बंगाल में हालात क्या हैं। अगर सीमा ऱक्षक खुद या उनके परिवार और मकान सुरक्षित नहीं हैं, तो आम आदमी की कौन कहे। जो लफ़ंगों, गुंडों और घुसपैठियों से देश को बचाते हैं, खुद उनके घर पर ये लफ़ंगे हमले कर रहे हैं। हद है ये सब।” हालाँकि, मीडिया के अन्य स्रोतों में ये खबर अभी नहीं आई है।

ब्रजेश ने बताया कि BSF के उच्चाधिकारियों ने दोनों ही मामलों में स्थानीय प्रशासन और पुलिस से कड़ी कार्रवाई करने का अनुरोध किया है। उन्होंने लिखा, “देखना ये होगा कि ममता बनर्जी के बंगाल में खुद सीमा रक्षकों के परिवारों को न्याय मिलेगा या नहीं, वो भी अगर हमले करने वाले उनकी खुद की पार्टी TMC के कार्यकर्ता हों।” बता दें कि पश्चिम बंगाल में हिंसा के खिलाफ आज बीजेपी धरना देगी। पार्टी के राष्ट्रीय जेपी नड्डा खुद बंगाल में कैंप कर रहे हैं।

ये भी खबर आई थी कि पश्चिम बंगाल में विधानसभा चुनाव के नतीजे आने के बाद उपजी राजनीतिक हिंसा के बाद सैकड़ों भाजपा कार्यकर्ताओं ने बंगाल छोड़ दिया है। बंगाल के पड़ोसी राज्य असम के मंत्री व भाजपा नेता हिमंता बिस्वा सरमा ने खुद इसकी जानकारी दी थी। उन्होंने बताया था, ”एक दुखद घटनाक्रम में 300-400 बंगाल के भाजपा कार्यकर्ताओं और उनके परिवार के सदस्यों ने अत्याचार और हिंसा का सामना करने के बाद असम में धुबरी पार किया है। हम उन्हें आश्रय और भोजन दे रहे हैं।”

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘रेप कैपिटल बन गया है राजस्थान’: अलवर मूक-बधिर बच्ची से गैंगरेप मामले में पुलिस का यू-टर्न, गहलोत सरकार ने की CBI जाँच की सिफारिश

अलवर में रेप की शिकार मूक-बधिर बच्ची के मामली की जाँच मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने सीबीआई को सौंप दी है। सरकार का काफी विरोध हो रहा है।

CM योगी का UP: 2000 Cr का अवैध साम्राज्य ध्वस्त, ढेर हुए 140 अपराधी, धर्मांतरण और गोकशी पर शिकंजा, महिलाएँ सुरक्षित हुईं

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने प्रदेश को महिलाओं के लिए सुरक्षित बनाया। गोकशी-धर्मांतरण पर प्रहार किया। उत्तर प्रदेश में माफिया राज खत्म हुआ।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
151,690FollowersFollow
413,000SubscribersSubscribe