Thursday, January 27, 2022
Homeदेश-समाजदरभंगा: नजीर के घर बड़ा धमाका, 1 किमी तक गूॅंजी आवाज; लोगों ने पूछा-...

दरभंगा: नजीर के घर बड़ा धमाका, 1 किमी तक गूॅंजी आवाज; लोगों ने पूछा- बम बना रहा था या पटाखा?

धमाके की सूचना मिलते ही पुलिस मौके पर पहुँच गई। धमाका कैसे हुआ यह पूरी तरह स्पष्ट नहीं है। प्रशासन ने कहा है कि प्रथम दृष्टया यह पटाखे के कारण हुआ विस्फोट लग रहा है।

बिहार का दरभंगा शुक्रवार (5 जून 2020) की दोपहर एक जोरदार धमाके से दहल गया। धमाका विश्वविद्यालय थाना क्षेत्र के आजमनगर दुर्गा मंदिर इलाके में हुई।

धमाका इतना भीषण था कि मोहम्मद नजीर के घर की दीवार और छत ध्वस्त हो गई। लोगों का कहना है कि धमाके की आवाज तकरीबन एक किलोमीटर के इलाके तक सुनाई दी।

रिपोर्ट्स के अनुसार, मोहम्मद नजीर के परिवार के 5 लोगों की स्थिति नाजुक है। नजीर की उम्र पचास साल के आसपास बताई जा रही है। घायलों में तीन बच्चे हैं। डीएमसीएच में इनका इलाज चल रहा है।

धमाके की सूचना मिलते ही पुलिस मौके पर पहुँच गई। धमाका कैसे हुआ यह पूरी तरह स्पष्ट नहीं है। प्रशासन ने कहा है कि प्रथम दृष्टया यह पटाखे के कारण हुआ विस्फोट लग रहा है। लेकिन स्थानीय लोगों का दावा है कि धमाका बम बनाते वक्त हुआ। ऑपइंडिया इन दावों की पुष्टि नहीं करता।

सूत्रों का कहना है कि पुलिस ने नजीर को गिरफ्तार कर लिया है। स्थानीय लोगों का दावा है कि दीवारों की हालत और विस्फोट की तीव्रता देखकर यह नहीं कहा जा सकता कि यह पटाखों से हुआ होगा।

धमाके से क्षतिग्रस्त बिल्डिंग
माके से जख्मी बच्चे

वहीं धमाके से गिरी दीवार के नीचे दबे खून से लथपथ लोगों को मोहल्ले के लोगों ने निकालने की कोशिश की और अभी भी राहत और बचाव कार्य जारी है। स्थानीय विधायक संजय सरागवी ने भी घटनास्थल का दौरा किया है।

स्थानीय जनप्रतिनिधि प्रभावित क्षेत्र का जायजा लेने पहुँच चुके हैं

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘योगी जैसा मुख्यमंत्री मुलायम सिंह और अखिलेश भी नहीं रहे’: सपा के खिलाफ प्रचार पर बोलीं अपर्णा यादव- ‘पार्टी जो कहेगी करूँगी’

अपर्णा यादव ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की तारीफ करते हुए कहा कि उन्हें मेरा समाजसेवा का काम दिखा था, जबकि अखिलेश यह नहीं देख पाए।

धर्मांतरण के दबाव से मर गई लावण्या, अब पर्दा डाल रही मीडिया: न्यूज मिनट ने पूछा- केवल एक वीडियो में ही कन्वर्जन की बात...

लावण्या की आत्महत्या पर द न्यूज मिनट कहता है कि वॉर्डन ने अधिक काम दे दिया था, जिससे लावण्या पढ़ाई में पिछड़ गई थी और उसने ऐसा किया।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
153,876FollowersFollow
413,000SubscribersSubscribe