Tuesday, September 21, 2021
Homeदेश-समाज'3 आतंकी ब्लास्ट की जाँच कर रहे थे पत्रकार मनीष, जिहादियों ने की हत्या':...

‘3 आतंकी ब्लास्ट की जाँच कर रहे थे पत्रकार मनीष, जिहादियों ने की हत्या’: सुदर्शन टीवी के CEO सुरेश चव्हाणके

बाँका मस्जिद विस्फोट, दरभंगा पार्सल विस्फोट और सीवान विस्फोट - पत्रकार मनीष इन 3 बड़ी आतंकवादी घटनाओं के लिंक को खंगाल रहे थे। इस जाँच को लेकर पत्रकार अफजल आलम हमेशा उनसे सवाल पूछता था।

सुदर्शन टीवी के पत्रकार मनीष कुमार सिंह का शव 10 अगस्त 2021 को बिहार के हरसिद्धि थाना क्षेत्र के मथलोहियार गाँव के गाछी टोला चेवार में एक गड्ढे से बरामद किया गया था। वो तीन दिन से लापता थे। इलाके में लगे सीसीटीवी फुटेज के आधार पर पुलिस ने मनीष के अपहरण और हत्या के मामले में मोहम्मद अरसद आलम और अमरेंद्र सिंह को गिरफ्तार किया है।

अब इस मामले में सुदर्शन न्यूज चैनल के सीईओ सुरेश चव्हाणके ने केंद्रीय गृह राज्य मंत्री नित्यानंद राय से मुलाकात की और अपने चैनल के पत्रकार की निर्मम हत्या की जाँच की माँग को लेकर एक पत्र सौंपा। चव्हाणके ने चिट्ठी को ट्वीट करते हुए कहा कि बिहार के मधुबनी के पत्रकार मनीष कुमार की हत्या सुदर्शन चैनल के काम से खुन्नस खाए बैठे जिहादियों ने की है।

पत्र में कहा गया है कि सुदर्शन न्यूज चैनल के पत्रकार मनीष सिंह अपनी निडर पत्रकारिता के कारण हमेशा भ्रष्ट और जिहादी मानसिकता वाले लोगों के निशाने पर थे। पत्र के अनुसार 7 अगस्त को मनीष सिंह के लापता होने की खबर मिली। इसके बाद जब उनके पिता ने पुलिस से शिकायत की तो पुलिस ने उदासीन रवैया दिखाते हुए कहा कि वो किसी लड़की के साथ गया होगा, खुद ही वापस आ जाएगा।

सुरेश चव्हाणके ने आरोप लगाया है कि मृतक मनीष के पिताजी ने बताया है कि जिन अपराधियों को पुलिस ने जल्दबाजी में गिरफ्तार किया है, उनके जरिए मनीष की हत्या को व्हाइटवॉश करने की कोशिश की जा रही है। उन्होंने पुलिस पर हत्या के पीछे के असली मकसद को दबाने की कोशिश करने का आरोप लगाया है।

मनीष के पिता का कहना है कि मनीष एक स्टोरी पर काम कर रहे थे और वही उनकी हत्या का कारण हो सकता है। उन्होंने यह भी आरोप लगाया कि पुलिस इसकी जाँच करने के लिए इच्छुक नहीं है और बिना उचित जाँच के मामले को जल्दबाजी में बंद कर रही है।

सुरेश चव्हाणके ने कहा है कि मनीष बिहार में मोतिहारी और अरेराज जैसी जगहों पर तीन बड़ी आतंकवादी घटनाओं के लिंक को खंगाल रहे थे। जिन तीन बड़ी आतंकी घटनाओं की जाँच मनीष कर रहे थे, उसमें बाँका मस्जिद विस्फोट, दरभंगा पार्सल विस्फोट और सीवान विस्फोट शामिल है। उनका कहना है कि मनीष के पिता के अखबार में काम करने वाले स्थानीय पत्रकार अफजल आलम को मनीष की जाँच के बारे में पता चल गया था और वो उनसे लगातार इसके बारे में सवाल पूछता था। मनीष के पिता का आरोप है कि जब से पता चला कि मनीश सुदर्शन न्यूज में शामिल हुआ है, उनके दुश्मन कई गुना बढ़ गए थे। उनकी हत्या में जिहादी तत्व शामिल हैं।

चव्हाणके ने पत्र के अंत में कहा है कि मनीष के पिता के मुताबिक उनकी (मनीष) हत्या करने वाले जिहादी तत्व देश भर में सुदर्शन न्यूज के पत्रकारों के लिए भी खतरा बड़ा हैं। सुरेश चव्हाणके ने मनीष की हत्या की निष्पक्ष जाँच की माँग की है।

सुदर्शन न्यूज के पत्रकार मनीष सिंह की हत्या

रिपोर्ट्स के मुताबिक, 8 अगस्त 2021 को मनीष हरसिद्धि थाना क्षेत्र के मठ लाहौरिया गाँव में एक समारोह में शामिल होने के लिए घर से निकले थे, लेकिन उसके बाद से ही उनका फोन स्विच ऑफ आ रहा था। बाद में उनकी बाइक हरसिद्धि गाँव में मिली थी। मनीष को लगातार जान से मारने की धमकियाँ मिल रही थीं और उनका जमीन का विवाद भी चल रहा था। विवाद को लेकर संजय सिंह ने 25 जुलाई को स्थानीय थाने में शिकायत दर्ज कराई थी।

मनीष के लापता होने के बाद, उसके पिता ने हरसिद्धि पुलिस स्टेशन में शिकायत दर्ज कराई थी, जिसमें उन्होंने दो पत्रकारों समेत 12 लोगों का नाम लिया था। ये दो पत्रकार मोहम्मद अरसद आलम और अमरेंद्र सिंह हैं।

मामले की जाँच के दौरान पुलिस को स्थानीय लोगों ने एक शव मिलने की सूचना दी। मौके पर पहुँची पुलिस ने शव की शिनाख्त के लिए संजय सिंह को बुलाया। शव फूला हुआ औऱ क्षत-विक्षत था। हालाँकि, संजय सिंह ने जूते से मनीष की पहचान की। रिपोर्ट्स के अनुसार हत्यारों ने मनीष को बहुत टॉर्चर किया था, उनकी आँखें निकाल ली गई थीं और उसके चेहरे पर चोट के निशान थे।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

आज योगेश है, कल हरीश था: अलवर में 2 साल पहले भी हुई थी दलित की मॉब लिंचिंग, अंधे पिता ने कर ली थी...

आज जब राजस्थान के अलवर में योगेश जाटव नाम के दलित युवक की मॉब लिंचिंग की खबर सुर्ख़ियों में है, मुस्लिम भीड़ द्वारा 2 साल पहले हरीश जाटव की हत्या को भी याद कीजिए।

अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि की संदिग्ध हालत में मौत: पंखे से लटकता मिला शव, बरामद हुआ सुसाइड नोट

अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि की संदिग्ध हालात में मौत हो गई है। महंत का शव बाघमबरी मठ में सोमवार को फाँसी के फंदे से लटकता मिला।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
123,474FollowersFollow
409,000SubscribersSubscribe