Monday, January 17, 2022
Homeदेश-समाजसिवान में मस्जिद के पीछे झोले में रखा बम फटने से पिता-पुत्र की हालत...

सिवान में मस्जिद के पीछे झोले में रखा बम फटने से पिता-पुत्र की हालत नाजुक, सगीर साई को तलाश रही बिहार पुलिस

पुलिस सगीर के परिजनों में से तीन महिलाओं को हिरासत में लेकर पूछताछ के लिए थाने ले गई है, ताकि सगीर के बारे में जानकारी जुटाई जा सके। कुछ ग्रामीणों का कहना है कि सगीर भी इस बम धमाके में घायल था, लेकिन उसे फिर किसी ने नहीं देखा।

लगता है कि बिहार में बम ब्लास्ट होना रोजमर्रा वाली और आम बात हो गई है। ताजा मामला बिहार के सिवान जिले का है, जहाँ के हुसैनगंज थाना क्षेत्र के जुड़कन गाँव में मस्जिद के पीछे जबरदस्त ब्लास्ट हुआ है। इस ब्लास्ट में पिता-पुत्र गंभीर रूप से घायल हो गए हैं। उनकी नाजुक स्थिति को देखते हुए दोनों को पटना रेफर कर दिया गया है।

घायल जुड़कन निवासी विनोद माँझी और उसका तीन वर्षीय पुत्र सत्यम कुमार है। चिकित्सकों ने बताया कि विस्‍फोट के कारण विनोद का शरीर काफी जल गया था। उसकी स्थिति नाजुक थी।

परिजनों ने बताया कि विनोद माँझी अपने बेटे सत्यम को लेकर गाँव की दुकान पर बिस्किट खरीदने गए थे। उसी दौरान उनकी मुलाकात सगीर साई नाम के व्यक्ति से हुई और उसने एक एक झोला दे दिया। सगीर ने किसी व्यक्ति का नाम लेते हुए कहा कि वह आएगा तो ये झोला उसे दे देना है। इसी बीच झोले में रखा बम ब्लास्ट हो गया।

हादसे के बाद सीवान पुलिस सगीर की तलाश में जुटी है ताकि यह पता चल सके कि सगीर बम कहाँ भेज रहा था। सीवान के एसपी अभिनव कुमार के मुताबिक, “वे बम कैसे थे और उसे कहाँ ले जा रहा था। पुलिस उसका आपराधिक इतिहास भी खंगाल रही है।”

रोती-बिलखती विनोद मांझी की माँ (तस्वीर: दैनिक भास्कर)

उन्होंने कहा, “पता चला है कि जिस व्यक्ति ने बम दिया था वह पटाखे का धंधा करता है। फिलहाल हम लोग जाँच कर रहे हैं और उसकी गिरफ्तारी के लिए छापेमारी की जा रही है।”

मिली सूचना के मुताबिक, पुलिस सगीर के परिजनों में से तीन महिलाओं को हिरासत में लेकर पूछताछ के लिए थाने ले गई है, ताकि सगीर के बारे में जानकारी जुटाई जा सके। कुछ ग्रामीणों का कहना है कि सगीर भी इस बम धमाके में घायल था, लेकिन उसे फिर किसी ने नहीं देखा।

अभी कुछ दिन पहले ही बांका और फिर दरभंगा में बम ब्‍लास्‍ट हुआ था। जिसमें काफी नुकसान हुआ था। अभी ये मामले ठंडे भी नहीं हुए कि इस तरह की यह तीसरी घटना हो गई। ऐसे में पुलिस भी चौकन्नी हाे गई है।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

समाजवादी पार्टी की मान्यता खत्म करने के लिए सुप्रीम कोर्ट में PIL, कैराना के मास्टरमाइंड नाहिद हसन की उम्मीदवारी पर घिरे अखिलेश यादव

सुप्रीम कोर्ट में अधिवक्ता अश्विनी उपाध्याय की ओर से समाजवादी पार्टी की मान्यता खत्म करने की माँग करते हुए PIL दाखिल की गई है।

‘ये हिन्दू संस्कृति में ही संभव’: जिस बाघिन के कारण ‘टाइगर स्टेट’ बन गया मध्य प्रदेश, उसका सनातन रीति-रिवाज से हुआ अंतिम संस्कार

मध्य प्रदेश के पेंच नेशनल पार्क की ‘कॉलरवाली बाघिन’ के नाम से मशहूर बाघिन का हिंदू रीति-रिवाज से अंतिम संस्कार किया गया।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
151,731FollowersFollow
413,000SubscribersSubscribe