Tuesday, October 19, 2021
Homeदेश-समाजरचित जाट को गोलियों से भून सिगरेट सुलगाते रहे शारिक़, शादाब, शहजाद: UP पुलिस...

रचित जाट को गोलियों से भून सिगरेट सुलगाते रहे शारिक़, शादाब, शहजाद: UP पुलिस ने धरा तो रोने लगे, लगेगा NSA

27 वर्षीय रचित जाट बाजार में खरीदारी करने गया था। इसी दौरान वहाँ मोहल्ले के ही रहने वाले शारिक, शादाब, शहजाद, शाहबाज और एक अन्य युवक पहुँचे। इन्होंने पुरानी रंजिश को लेकर रचित के साथ बहस की और उसके तुरंत बाद ताबड़तोड़ गोलियाँ बरसा दी।

एक तरफ राजनीतिक लाभ लेने के लिए किसान आंदोलन में जाट-मुस्लिम एकता की बात कही जा रही है, वहीं दूसरी तरफ इसकी जमीनी हकीकत कुछ और ही है। ऐसा ही एक ताजा मामला सामने आया है उत्तर प्रदेश के बिजनौर से।

बिजनौर जिले के हल्दौर के कस्बा झालू में सरे बाजार एक युवक रचित जाट को दिनदहाड़े गोलियों से भूनकर मौत के घाट उतार दिया गया। बेव सीरीज ‘मिर्जापुर’ स्टाइल में सरेबाजार कत्ल करने वाले मुस्लिम हमलावर बेखौफ थे। उन्हें न पुलिस का खौफ था और ही कानून का डर। अपराधी कत्ल कर मौका ए वारदात से भागने के बजाय दुकान के बाहर बैठ गए और आराम से सिगरेट पीते रहे। बीच-बीच में फायरिग कर तमंचे लहराते हुए गवाही देने वालों को जान से मारने की धमकी देते रहे।

मामला हल्दाैर कस्बे झालू में काेतवाली नगर क्षेत्र के गाँव स्याैहारा गिरधर निवासी 27 वर्षीय रचित जाट की गाेलियाें से भूनकर हत्या का है। रचित बाजार में खरीदारी करने गया था। इसी दौरान वहाँ मोहल्ले के ही रहने वाले शारिक, शादाब, शहजाद, शहबाज और एक अन्य युवक पहुँचे। इन्होंने पुरानी रंजिश को लेकर रचित के साथ बहस की और उसके तुरंत बाद ताबड़तोड़ गोलियाँ बरसा दी।

रचित गोली लगने के बाद जान बचाने के लिए एक दुकान में घुस गया लेकिन हमलावरों ने इसे दुकान में भी नहीं छोड़ा और इस तरह सबके सामने रचित काे गोलियों से भून डाला। एसपी सिटी डॉक्टर धर्मवीर सिंह हत्या की वारदात की खबर मिलते ही मौके पर पहुँचे। पुलिस ने चारों आरोपितों को गिरफ्तार कर लिया है।


वह यूपी पुलिस के सामने भी लोगों से चिल्ला-चिल्लाकर कहते रहे कि उनका यह वीडियो यूट्यूब पर आना चाहिए। एक आरोपित के फरार होने की बात भी कही जा रही है। बिजनौर के एसपी डॉ धर्मवीर सिंह के मुताबिक चारों आरोपियों पर एनएसए के तहत कार्रवाई की जाएगी। बिजनौर एसपी ने इस मामले की जाँच करा कर 24 घंटे के अंदर कार्यवाही करने का भरोसा दिया है।

कातिल इस कदर बेखौफ थे कि सनसनीखेज हत्याकांड के बाद दुकान के बाहर गेट पर ही बैठ गए। हवाई फायरिग कर गवाही देने वाले की भी हत्या की धमकी दी। फिर तमंचा लहराते हुए वेब सीरीज स्टाइल में सिगरेट जलाई, धुएँ का छल्ला उड़ाते हुए फिर से हवाई फायरिग की। प्रत्यक्षदर्शियों के अनुसार हत्यारोपित 30 मिनट बाद तक मौके पर मौजूद रहे।

सिगरेट सुलगाते हत्यारे

पुलिस मौके पर पहुँची और उन्हें बाइक पर बैठा लिया। इस दौरान बाइक पर बैठते समय भी उनके चेहरों पर कोई खौफ नहीं था। हालाँकि, गिरफ्तारी के बाद अब चारों लड़कों की अकड़ यूपी पुलिस के सामने कम होती दिखने लगी। बताया जा रहा है कि सभी आरोपित बाद में यूपी पुलिस के आगे गिड़गिड़ाने लगे थे।

गौरतलब है कि कृषि कानून के खिलाफ देश की राजधानी दिल्ली बॉर्डर पर दो महीने से ज्यादा समय से किसान आंदोलन जारी है। मीडिया रिपोर्ट में दावा किया जा रहा है कि इस आंदोलन से किसानों की माँग भले ही अभी तक पूरी न हुई हो, लेकिन सामाजिक और राजनीतिक चेतना जरूर जगा दी है। जाट और मुस्लिम भी दंगों की बात भूलकर करीब आ गए हैं। लेकिन जमीनी स्तर की कलह इस नैरेटिव को बार-बार झूठलाती नजर आती है।

फिर भी मीडिया में यह माहौल बनाने की कोशिश जारी है कि किसान आंदोलन के चलते लोग अपनी पुरानी रंजिश और अदावत भुलाकर एक साथ खड़े नजर आ रहे हैं। ध्यान रहे, साल 2013 में मुजफ्फरनगर दंगे ने जाटों और मुस्लिमों के बीच गहरी खाई पैदा कर दी थी, जिसे अब सात साल के बाद पटने का दावा किया जा रहा था कि आज बिजनौर की यह घटना फिर सामने आ गई है। बताया जा रहा था कि जाट के साथ मुस्लिम, दलित, सिख सहित तमाम समुदाय के लोग किसानों के हक के लिए गाजीपुर बॉर्डर से लेकर पश्चिम यूपी में हो रही महापंचायतों में दिख रहे हैं। हालाँकि इसकी जमीनी वास्तविकता इससे इतर नजर आ रही है।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘बांग्लादेश का नया नाम जिहादिस्तान, हिन्दुओं के दो गाँव जल गए… बाँसुरी बजा रहीं शेख हसीना’: तस्लीमा नसरीन ने साधा निशाना

तस्लीमा नसरीन ने बांग्लादेश में हिंदुओं पर कट्टरपंथी इस्लामियों द्वारा किए जा रहे हमले पर प्रधानमंत्री शेख हसीना पर निशाना साधा है।

पीरगंज में 66 हिन्दुओं के घरों को क्षतिग्रस्त किया और 20 को आग के हवाले, खेत-खलिहान भी ख़ाक: बांग्लादेश के मंत्री ने झाड़ा पल्ला

एक फेसबुक पोस्ट के माध्यम से अफवाह फैल गई कि गाँव के एक युवा हिंदू व्यक्ति ने इस्लाम मजहब का अपमान किया है, जिसके बाद वहाँ एकतरफा दंगे शुरू हो गए।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
129,820FollowersFollow
411,000SubscribersSubscribe