Wednesday, July 17, 2024
Homeदेश-समाजझारखंड में 19 साल की नेत्रहीन रेप पीड़िता से दोबारा बलात्कार, HC ने नहीं...

झारखंड में 19 साल की नेत्रहीन रेप पीड़िता से दोबारा बलात्कार, HC ने नहीं दी गर्भपात की इजाजत: रिम्स ने कहा – इस स्थिति में ये प्रक्रिया सुरक्षित नहीं

पीड़िता का परिवार गरीबी रेखा से नीचे वाली श्रेणी में आता है। बताया जा रहा है कि उसके घर में न तो पानी आता है और न ही बिजली।

झारखंड हाई कोर्ट ने मंगलवार (13 सितंबर, 2022) को सुनवाई के दौरान एक 19 वर्षीय रेप पीड़िता को गर्भपात कराने से मना कर दिया है। अदालत ने राज्य सरकार को पीड़िता युवती की मदद देने के उपाय बताने का निर्देश दिया। युवती के साथ 2018 में भी बलात्कार हुआ था। वहीं इस केस की अगली सुनवाई 14 सितंबर, 2022 को हुई।

रेप पीड़िता पहले से ही नेत्रहीन है और वह अपने पिता के साथ अकेली ही घर में रहती हैं। उसकी माँ भी पहले ही गुजर चुकी है। फिलहाल उसके गर्भ में 28 सप्ताह का भ्रूण है। गर्भपात के लिए पीड़िता ने हाई कोर्ट में याचिका दायर की थी, जिसकी सुनवाई करते हुए कोर्ट ने गर्भपात नहीं करवाने का आदेश दिया है।

रिपोर्ट के मुताबिक हाई कोर्ट ने इस केस की सुनवाई करते हुए 9 सितंबर को राँची (Ranchi) के मेडिकल कॉलेज रिम्स के प्रबंधन को इसके लिए एक मेडिकल बोर्ड गठित कर इस बाबत रिपोर्ट देने के निर्देश दिए थे। रिम्स के मेडिकल बोर्ड ने कोर्ट को सौंपी रिपोर्ट में कहा है कि इस समय युवती का गर्भपात सुरक्षित नहीं होगा।

इसी रिपोर्ट के आधार पर अदालत ने युवती को गर्भपात की इजाजत नहीं दी। कोर्ट ने इसके साथ-साथ राज्य सरकार से सवाल किया कि वो रिम्स और पीड़ित युवती के अधिवक्ताओं से बातचीत करके ये बताए कि अब इस मामले में अब क्या करना चाहिए? राज्य सरकार की ओर से पीड़ित युवती के रामगढ़ स्थित महिला आश्रय में रहने की व्यवस्था की भी बात कही गई।

इससे पहले भी हुआ था बलात्कार

झारखंड आदिवासी समुदाय की रहने वाली इस नेत्रहीन युवती के साथ पहली बार साल 2018 में बलात्कार हुआ। वो केस भी अभी अदालत में चल रहा है। पीड़िता को 2022 में दूसरी बार हवस का शिकार बनाया गया, उसके गर्भ में बच्चा भी ठहर गया। इस बात का खुलासा बीते दिनों सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में उसकी मेडिकल जाँच के बाद हुआ।

गौरतलब है कि पीड़िता का परिवार गरीबी रेखा से नीचे वाली श्रेणी में आता है। बताया जा रहा है कि उसके घर में न तो पानी आता है और न ही बिजली। वहीं पीड़िता के पिता एक रिक्शा चालक है। बलात्कार की इन दोनों घटनाओं ने युवती को अंदर से तोड़ दिया, जिसके कारण उसने गर्भपात के लिए अदालत का दरवाजा खटखटाया।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

अमेरिकी राजनीति में नहीं थम रहा नस्लवाद और हिंदू घृणा: विवेक रामास्वामी और तुलसी गबार्ड के बाद अब ऊषा चिलुकुरी बनीं नई शिकार

अमेरिका में भारतीय मूल के हिंदू नेताओं को निशाना बनाया जाना कोई नई बात नहीं है। निक्की हेली, विवेक रामास्वामी, तुलसी गबार्ड जैसे मशहूर लोग हिंदूफोबिया झेल चुके हैं।

आज भी फैसले की प्रतीक्षा में कन्हैयालाल का परिवार, नूपुर शर्मा पर भी खतरा; पर ‘सर तन से जुदा’ की नारेबाजी वाले हो गए...

रिपोर्ट में यह भी कहा गया था कि गौहर चिश्ती 17 जून 2022 को उदयपुर भी गया था। वहाँ उसने 'सर कलम करने' के नारे लगवाए थे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -