Monday, April 19, 2021
Home देश-समाज दिल्ली दंगों की किताब रद्द करवाने के दबाव के बाद वामपंथी, लिबरल गिरोह ने...

दिल्ली दंगों की किताब रद्द करवाने के दबाव के बाद वामपंथी, लिबरल गिरोह ने पशु हिंसा पर अपनी राय व्यक्त करने वाले लेखक को बनाया निशाना

सायरा द्वारा ब्लूम्सबरी को टैग किए गए ट्वीट पर जल्द ही कई लोग उनकी टाइमलाइन पर आकर लेखक अल्पेश पटेल को उनके कमेंट के लिए धमकाने लगे। एक यूजर ने अल्पेश पटेल को कट्टर व्यक्ति कहा। इसके साथ ही उन्होंने ब्लूम्सबरी पर कट्टर विचारधारा के लेखकों को नियुक्त करने का आरोप भी लगाया।

वामपंथियों, लिबरल गिरोह और संप्रदाय विशेष के उकसाने और भारी दबाव के बाद ब्लूम्सबरी इंडिया ने हाल ही में दिल्ली दंगों पर आधारित किताब ‘दिल्ली रायट्स 2020: द अनटोल्ड स्टोरी’ का प्रकाशन रद्द करने का फैसला लिया था। वहीं, अब इसी तरह कुछ संप्रदाय विशेष के लोगों और वामपंथी गिरोह के सदस्यों ने बुधवार को पशु हिंसा पर अपनी राय व्यक्त करने वाले ब्लूम्सबरी से जुड़े एक लेखक को निशाना बनाया है।

सायरा शाह हलीम नाम की एक सोशल मीडिया यूजर ने बुधवार को एक ट्वीट किया जिसमें दावा किया गया कि शाकाहार और अहिंसा का आपस मे कोई सम्बन्ध नहीं हैं। बता दें कि सायरा दावा करती हैं कि वह TEDx (टेडेक्स) अध्यक्ष हैं। जबकि सायरा हलीम ने अपने दावों को पुख्ता करने के लिए नाज़ी नेताओं का उदाहरण भी दिया। जो उनके अनुसार, पालतू जानवरों और अन्य जानवरों के प्रति प्यार के लिए जाने जाते हैं।

हलीम ने दावा किया कि हिटलर एक शाकाहारी और शिकार से नफरत करने वाला था। साथ ही वह कुत्तों को पसंद करता था। उन्होंने आगे कहा कि लोगों को सुप्रीम लीडर का जानवरों के प्रति प्रेम को देखते हुए उनकी प्रशंसा करना बंद कर देना चाहिए। सोशल मीडिया यूजर ने कहा, “ऐसे नाजियों पर सवाल खड़ा करना चाहिए।”

बता दें कि हलीम द्वारा शाकाहार, नाज़ियों और जानवरों के प्रति प्रेम को दर्शाने वाला ट्वीट हाल ही में प्रधानमंत्री मोदी द्वारा साझा किए गए वीडियो के संदर्भ में था। जिसमें पीएम मोदी को मोर के साथ समय बिताते और उन्हें अपने घर पर भोजन कराते देखा गया था।

वहीं हलीम द्वारा किए गए पोस्ट पर लेखक अल्पेश पटेल ने एक मजाकिया तौर पर जवाब दिया। उन्होंने उनकी पोस्ट पर एक बकरी को काटने के लिए सही प्रक्रिया साझा करने के लिए कहा। बकरीद पर बकरे को ‘बलिदान’ के हिस्से के रूप में वध किया जाता है।

अल्पेश पटेल द्वारा दिए गए जवाब के बाद, सायरा शाह हलीम ने उन्हें इसका जवाब देने के बजाय ब्लूम्सबरी को विवाद में घसीटने की कोशिश की। ब्लूम्सबरी को टैग करते हुए सायरा ने पब्लिशिंग हाउस से पूछा कि क्या अल्पेश उनके लेखक है?

सायरा द्वारा ब्लूम्सबरी को टैग किए गए ट्वीट पर जल्द ही कई लोग उनकी टाइमलाइन पर आकर लेखक अल्पेश पटेल को उनके कमेंट के लिए धमकाने लगे। एक यूजर ने अल्पेश पटेल को कट्टर व्यक्ति कहा। इसके साथ ही उन्होंने ब्लूम्सबरी पर कट्टर विचारधारा के लेखकों को नियुक्त करने का आरोप भी लगाया।

एक अन्य ट्विटर यूजर ने ब्लूम्सबरी को इस मुद्दे पर लेखक के खिलाफ कदम उठाने की माँग भी की।

ये सभी वामपंथी गिरोह के सदस्य और संप्रदाय विशेष के लोग हालिया ब्लूम्सबरी द्वारा दबाव बनाने पर बुक को प्रकाशित नहीं करने के फैसले को देखते हुए दोबारा से ऐसा ही कदम अल्पेश के साथ उठाने का दबाव बना रहे है। वामपंथी अक्सर इसी तरह अपनी दकियानूसी बातों पर जवाब दिए जाने पर मचल उठते है। और इनका गिरोह तुरंत एक्टिव हो जाता है।

गौरतलब है कि कुछ हफ़्ते पहले प्रकाशक ब्लूम्सबरी इंडिया ने संप्रदाय विशेष के लोगों और वामपंथी गिरोह के लोगों के दबाव में आकर मोनिका अरोरा, सोनाली चितलकर और प्रेरणा मल्होत्रा की की पुस्तक ‘Delhi Riots 2020: The Untold Story’ के प्रकाशन को वापस लेने का फैसला किया था। उन्होंने इसके पीछे का एक कारण उनकी जानकारी के बिना लेखकों द्वारा आयोजित किए गए वर्चुअल प्री-पब्लिकेन इवेंट लॉन्च करने को बताया था।

दिल्ली दंगों पर यह किताब इसके लेखकों द्वारा की गई जाँच और इंटरव्यू के आधार पर लिखा गया था। जिसे सितंबर 2020 में पुस्तक को जारी करने की योजना बनाई थी।

वहीं पब्लिशिंग हाउस ब्लूम्सबरी द्वारा ‘Delhi Riots 2020: The Untold Story’ पुस्तक का प्रकाशन रद्द करने के बाद ‘गरुड़ प्रकाशन’ ने इसे प्रकाशित करने का फैसला किया था। पुस्तक के लिए अभी तक 30,000 से अधिक प्री बुकिंग ऑर्डर आ चुके हैं।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

मोदी सरकार ने चुपके से हटा दी कोरोना वॉरियर्स को मिलने वाली ₹50 लाख की बीमा: लिबरल मीडिया के दावों में कितना दम

दावा किया जा रहा है कि कोरोना की ड्यूटी के दौरान जान गँवाने वाले स्वास्थ्यकर्मियों के लिए 50 लाख की बीमा योजना केंद्र सरकार ने वापस ले ली है।

पंजाब में साल भर से गोदाम में पड़े हैं केंद्र के भेजे 250 वेंटिलेटर, दिल्ली में कोरोना की जगह ‘क्रेडिट’ के लिए लड़ रहे...

एक तरफ राज्य बेड, वेंटिलेंटर और ऑक्सीजन की कमी से जूझ रहे हैं, दूसरी ओर कॉन्ग्रेस शासित पंजाब में वेंटिलेटर गोदाम में बंद करके रखे हुए हैं।

‘F@#k Bhakts!… तुम्हारे पापा और अक्षय कुमार सुंदर सा मंदिर बनवा रहे हैं’: कोरोना पर घृणा की कॉमेडी, जानलेवा दवाई की काटी पर्ची

"Fuck Bhakts! इस परिस्थिति के लिए सीधे वही जिम्मेदार हैं। मैं अब भी देख रहा हूँ कि उनमें से अधिकतर अभी भी उनका (पीएम मोदी) बचाव कर रहे हैं।"

ग्रीन कॉरिडोर बनाकर ‘ऑक्सीजन एक्सप्रेस’ चलाएगी रेलवे, उद्योगों की आपूर्ति पर रोक: टाटा स्टील जैसी कंपनियाँ भी आईं आगे

ऑक्सीजन की कमी को दूर करने के लिए रेलवे ने विशेष ट्रेन चलाने का फैसला किया है। कई स्टील कंपनियों ने प्लांट की ऑक्सीजन की आपूर्ति अस्पतालों को शुरू की है।

‘बीजेपी को कोसने वाले लिबरल TMC पर मौन’- हर दिन मेगा रैली कर रहीं ममता लेकिन ‘ट्विटर’ से हैं दूर: जानें क्या है झोल

ममता बनर्जी हर दिन पश्चिम बंगाल में हर बड़ी रैलियाँ कर रही हैं, लेकिन उसे ट्विटर पर साझा नहीं करतीं हैं, ताकि राजनीतिक रूप से सक्रीय लोगों के चुभचे सवालों से बच सकें और अपना लिबरल एजेंडा सेट कर सकें।

क्या जनरल वीके सिंह ने कोरोना पीड़ित अपने भाई को बेड दिलाने के लिए ट्विटर पर माँगी मदद? जानिए क्या है सच्चाई

केंद्रीय मंत्री जनरल वीके सिंह ने ट्विटर पर एक नागरिक की मदद की। इसके लिए उन्होंने ट्वीट किया, लेकिन विपक्ष इस पर भी राजनीति करने लगा।

प्रचलित ख़बरें

‘वाइन की बोतल, पाजामा और मेरा शौहर सैफ’: करीना कपूर खान ने बताया बिस्तर पर उन्हें क्या-क्या चाहिए

करीना कपूर ने कहा है कि वे जब भी बिस्तर पर जाती हैं तो उन्हें 3 चीजें चाहिए होती हैं- पाजामा, वाइन की एक बोतल और शौहर सैफ अली खान।

SC के जज रोहिंटन नरीमन ने वेदों पर की अपमानजनक टिप्पणी: वर्ल्ड हिंदू फाउंडेशन की माफी की माँग, दी बहस की चुनौती

स्वामी विज्ञानानंद ने SC के न्यायाधीश रोहिंटन नरीमन द्वारा ऋग्वेद को लेकर की गई टिप्पणियों को तथ्यात्मक रूप से गलत एवं अपमानजनक बताते हुए कहा है कि उनकी टिप्पणियों से विश्व के 1.2 अरब हिंदुओं की भावनाएँ आहत हुईं हैं जिसके लिए उन्हें बिना शर्त क्षमा माँगनी चाहिए।

ईसाई युवक ने मम्मी-डैडी को कब्रिस्तान में दफनाने से किया इनकार, करवाया हिंदू रिवाज से दाह संस्कार: जानें क्या है वजह

दंपत्ति के बेटे ने सुरक्षा की दृष्टि से हिंदू रीति से अंतिम संस्कार करने का फैसला किया था। उनके पार्थिव देह ताबूत में रखकर दफनाने के बजाए अग्नि में जला देना उसे कोरोना सुरक्षा की दृष्टि से ज्यादा ठीक लगा।

रोजा वाले वकील की तारीफ, रमजान के बाद तारीख: सुप्रीम कोर्ट के जज चंद्रचूड़, पेंडिग है 67 हजार+ केस

जस्टिस डीवाई चंद्रचूड़ की पीठ ने याचिककर्ता के वकील को राहत देते हुए एसएलपी पर हो रही सुनवाई को स्थगित कर दिया।

Remdesivir का जो है सप्लायर, उसी को महाराष्ट्र पुलिस ने कर लिया अरेस्ट: देवेंद्र फडणवीस ने बताई पूरी बात

डीसीपी मंजूनाथ सिंगे ने कहा कि पुलिस ने किसी भी रेमडेसिविर सप्लायर को गिरफ्तार नहीं किया है बल्कि उन्हें पूछताछ के लिए बुलाया था, क्योंकि...

साबरमती रिवरफ्रन्ट रोड के फुटपाथ पर अचानक से बनी दरगाह, लोगों ने की अवैध निर्माण हटाने की माँग: वीडियो वायरल

एक ट्विटर यूजर ने वीडियो शेयर करते हुए लिखा कि साबरमती रिवरफ्रन्ट का यह क्षेत्र अभी ही विकसित हुआ लेकिन फिर भी इस पर दरगाह बना दी गई है।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

292,985FansLike
82,233FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe