Saturday, July 31, 2021
Homeदेश-समाजदलितों ने पीटा, मूत्र पीने को किया मजबूर: मध्य प्रदेश के शिवपुरी में 19...

दलितों ने पीटा, मूत्र पीने को किया मजबूर: मध्य प्रदेश के शिवपुरी में 19 साल के युवक ने की आत्महत्या

घटना शिवपुरी जिले के साजोर गाँव की है। रिपोर्ट्स के मुताबिक, मृतक की पहचान विकास शर्मा के तौर पर की गई है। दलित समुदाय के तीन लोगों के हमले के बाद उसने अपने घर में फाँसी लगा ली। पुलिस को मौके से सुसाइड नोट और वीडियो क्लिप मिली है।

मध्य प्रदेश के शिवपुरी जिले में 19 साल के विकास शर्मा ने आत्महत्या कर ली। कथित तौर पर दलित समुदाय की दो महिलाओं समेत तीन लोगों ने बेरहमी से उसकी पिटाई की थी। उसे मूत्र पीने को मजबूर किया था।

घटना बुधवार (13मई 2020) को शिवपुरी जिले के साजोर गाँव में घटी। रिपोर्ट्स के मुताबिक, मृतक की पहचान विकास शर्मा के तौर पर की गई है। दलित समुदाय के तीन लोगों के हमले के बाद उसने अपने घर में फाँसी लगा ली। पुलिस को मौके से सुसाइड नोट और वीडियो क्लिप मिली है।

कथित तौर पर, विकास ने मोबाइल पर मरने की बात कहते हुए एक वीडियो भी शूट की और सुसाइड नोट में घटना के बारे में बताया है। इसके मुताबिक वह पास के मंदिर में चढ़ाने के लिए एक हैंडपंप पर जल लेने गया था। जब वह पानी भर रहा था, तब पास खड़े तीन दलितों- मनोज कोली, तारावती कोली और प्रियंका कोली के बर्तन पर कुछ बूँदें गिर गईं।

इस पर क्रोधित हो तीनों ने विकास को बालों से पकड़कर खींचा और उसके साथ मारपीट की। तीनों ने विकास के लौटे को उठाया और उसमें पेशाब कर उसे जबरदस्ती पीने के लिए मजबूर किया। इससे आहत विकास ने आत्महत्या कर ली।

शिवपुरी के सुपरिटेंडेंट ऑफ पुलिस राजेश सिंह चंदेल के मुताबिक, सभी आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया गया है। उन पर आत्महत्या के लिए भड़काने और जानबूझकर चोट पहुँचाने के लिए धारा 306 और 323 के तहत केस दर्ज किया गया है।

आत्महत्या की इस घटना के बाद ब्राह्मण समुदाय के एक प्रतिनिधिमंडल ने शिवपुरी जिला प्रशासन को ज्ञापन सौंपा। मध्य प्रदेश के सीएम को संबोधित ज्ञापन में पीड़ित परिवार को 1 करोड़ रुपए मुआवजा देने की माँग की गई है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘द प्रिंट’ ने डाला वामपंथी सरकार की नाकामी पर पर्दा: यूपी-बिहार की तुलना में केरल-महाराष्ट्र को साबित किया कोविड प्रबंधन का ‘सुपर हीरो’

जॉन का दावा है कि केरल और महाराष्ट्र पर इसलिए सवाल उठाए जाते हैं, क्योंकि वे कोविड-19 मामलों का बेहतर तरीके से पता लगा रहे हैं।

शिवाजी से सीखा, 60 साल तक मुगलों को हराते रहे: यमुना से नर्मदा, चंबल से टोंस तक औरंगज़ेब से आज़ादी दिलाने वाले बुंदेले की...

उनके बारे में कहते हैं, "यमुना से नर्मदा तक और चम्बल नदी से टोंस तक महाराजा छत्रसाल का राज्य है। उनसे लड़ने का हौसला अब किसी में नहीं बचा।"

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,242FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe