Sunday, July 21, 2024
Homeदेश-समाज'फैसल खान देता है चाकू मारने की धमकी': हिन्दू परिवार ने लगाया पलायन का...

‘फैसल खान देता है चाकू मारने की धमकी’: हिन्दू परिवार ने लगाया पलायन का पोस्टर, बुलंदशहर के मुस्लिम बहुल इलाके का मामला

पीड़ित विनोद ने बताया कि आरोपित फैसल उनके परिवार पर पहले भी हमले कर चुका है। फैसल खान चाकू ले कर अक्सर उनके घर में घुस जाता है और घर के हर सदस्य को जान से मार देने की धमकी देता है।

उत्तर प्रदेश के जिला बुलंदशहर में एक हिन्दू परिवार ने अपने घर पर पलायन का पोस्टर लगाया है। मामला थानाक्षेत्र पहासू के गाँव बनेल का है। यहाँ पर विनोद राघव ने अपने बरी वाला मोहल्ला स्थित घर पर लिखा है – “फैसल खाँ S/o यासीन खाँ और उनके 4 साथियों की वजह से हिन्दू परिवार पलायन करने पर मजबूर।”

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार बुलंदशहर के गाँव बनैल निवासी विनोद राघव का मकान मुस्लिम समुदाय के लोगों के मकानों के नजदीक है। विनोद राघव के अनुसार मंगलवार (12 अक्टूबर 2021) शाम को मुस्लिम समुदाय के युवक ने साथियों संग न सिर्फ उनकी धार्मिक भावनाओं को आहत किया बल्कि उन पर चाकू से हमला भी किया।

इसी के साथ उनका आरोप है कि बुधवार को उन्हें ऑडियो द्वारा भी धमकाया गया जिस पर उनकी तरफ से हिदू रक्षा दल ने पुलिस में केस दर्ज करवाया। पीड़ित परिवार के अनुसार दहशत के कारण वह मकान बेचकर गाँव से पलायन करना चाह रहे हैं।

जब इस मामले में ऑपइंडिया ने पीड़ित विनोद राघव से सम्पर्क किया तब उन्होंने मामले को विस्तार से बताया। विनोद ने बताया कि उनके घर के आस-पास के अधिकतर मकान मुस्लिमों के हैं। खुद को बेहद गरीब परिवार से बताते हुए अपने 3 बेटों को मजदूर और ड्राइवर बताया।

पीड़ित विनोद ने बताया कि आरोपित फैसल उनके परिवार पर पहले भी हमले कर चुका है। बकौल विनोद हमलावर फैसल खान चाकू ले कर अक्सर उनके घर में घुस जाता है और घर के हर सदस्य को जान से मार देने की धमकी देता है। जिसका उन्होंने चुपके से वीडियो भी बनाया है। उन्होंने फैसल के अब्बू का नाम यासीन खान बताया है।

इस मामले में मुकदमा दर्ज करवाने वाले वादी हिन्दू रक्षा दल के प्रदेश उपाध्यक्ष राकेश सिसोदिया ने ऑपइंडिया को बताया कि आरोपित फैसल मकानों में खिड़की – शीशे आदि लगाने का काम करता है। फैसल का भाई फरमान अक्सर सोशल मीडिया पर हिन्दू देवी देवताओं के बारे में आपत्तिजनक टिप्पणी करता है। फरमान पर इसी सिलसिले में पिछले साल केस भी दर्ज हुआ था।

ऑपइंडिया के पास इस मामले में दर्ज हुई FIR है। इस FIR में आरोपित फैसल पर धारा 295 A, 504, 506 के तहत केस दर्ज हुआ है। इस प्रकरण की विवेचना पहासू थाने के सब इंस्पेक्टर वीरेंद्र सिंह कर रहे हैं।

FIR की कॉपी- 1

पीड़ित विनोद ने खुद को प्रताड़ित करने वालों में कुछ अन्य नाम भी बताए हैं। पीड़ित के अनुसार फैसल के साथ अकरम, आस, राजू और मुकीम भी आए दिन उन्हें व उनके परिवार को प्रताड़ित करते हैं। विनोद के अनुसार वो घर छोड़ कर अपनी बहन के घर आगरा जा कर बसने की सोच रहे हैं।

FIR की कॉपी- 2

मुकदमे के वादी हिन्दू रक्षा दल के राकेश कुमार सिसोदिया का कहना है कि उन्होंने मौखिक रूप से पहले ही थाने पर पीड़ित पर हमले की आशंका जताई थी। वादी के मुताबिक स्थानीय पहासू थाने ने फिर भी कोई ठोस कदम नहीं उठाया। इसी के साथ पुलिस द्वारा अभियुक्त फैसल पर लगाई गई धाराओं को भी नाकाफी बताते हुए वादी ने पुलिस पर आरोपित को बचाने का भी आरोप लगाया।

FIR की कॉपी- 3

इस प्रकरण में ऑपइंडिया ने जब स्थानीय पुलिस से सम्पर्क किया तो थाना पहासू से जानकारी दी गई कि प्रकरण को शांतिपूर्ण ढंग से सुलझा लिया गया है। थाना प्रभारी ने बताया कि आरोपित फैसल को उचित धाराओं में जेल भेज दिया गया है। साथ ही कानून व्यवस्था की स्थिति सामान्य बताई।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

राहुल पाण्डेय
राहुल पाण्डेयhttp://www.opindia.com
धर्म और राष्ट्र की रक्षा को जीवन की प्राथमिकता मानते हुए पत्रकारिता के पथ पर अग्रसर एक प्रशिक्षु। सैनिक व किसान परिवार से संबंधित।

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

हर दिन 14 घंटे करो काम, कॉन्ग्रेस सरकार ला रही बिल: कर्नाटक में भड़का कर्मचारियों का संघ, पहले थोपा था 75% आरक्षण

आँकड़े कहते हैं कि पहले से ही 45% IT कर्मचारी मानसिक समस्याओं से जूझ रहे हैं, 55% शारीरिक रूप से दुष्प्रभाव का सामना कर रहे हैं। नए फैसले से मौत का ख़तरा बढ़ेगा।

आजादी के वक्त थे 3 मुस्लिम बहुल जिले, अब 9 हैं: बंगाल BJP प्रमुख ने कहा- असम और बंगाल में डेमोग्राफी बदलाव सोची-समझी रणनीति,...

बंगाल भाजपा अध्यक्ष सुकांत मजूमदार ने असम के सीएम हिमंता के उस बयान का समर्थन किया है, जिसमें उन्होंने डोमोग्राफी बदलाव की बात कही थी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -