Monday, June 24, 2024
Homeदेश-समाजवामपंथी गुंडों की प्रताड़ना से छात्र की मौत के मामले में होगी CBI जाँच,...

वामपंथी गुंडों की प्रताड़ना से छात्र की मौत के मामले में होगी CBI जाँच, परिवार ने SFI नेताओं पर हत्या का लगाया है आरोप

18 फरवरी, 2024 को वायनाड के पुक्कोड़ यूनिवर्सिटी में पशु विज्ञान की पढ़ाई करने वाले छात्र जे एस सिद्धार्थन ने आत्महत्या कर ली थी। सिद्धार्थ को कॉलेज हॉस्टल के एक टॉयलेट में लटकता पाया गया था। इसके बाद सिद्धार्थन की पोस्टमॉर्टेम रिपोर्ट में कई खुलासे हुए थे।

केरल के मुख्यमंत्री पिनाराई विजयन ने ऐलान किया है कि छात्र जे एस सिद्धार्थन की मौत के मामले में राज्य केन्द्रीय जाँच ब्यूरो (सीबीआई) जाँच करवाएगा। मुख्यमंत्री विजयन ने यह ऐलान सिद्धार्थन के परिवार से मिलने के बाद किया है। फरवरी में वायनाड के एक कॉलेज में सिद्धार्थन की मौत रहस्यमयी परिस्थितयों में हो गई थी।

मुख्यमंत्री के दफ्तर द्वारा जारी किए गए बयान में कहा गया है कि सिद्धार्थन की माता ने उन्हें एक मेमोरेंडम सौंपा है जिसमें सीबीआई जाँच की माँग की गई है। मुख्यमंत्री ने कहा कि मामले में पुलिस सभी आरोपितों के खिलाफ FIR दर्ज कर ली है और पुलिस जाँच कर रही है। हालाँकि, अब राज्य सरकार सीबीआई जाँच की अनुशंसा करेगी।

गौरतलब है कि 18 फरवरी, 2024 को वायनाड के पुक्कोड़ यूनिवर्सिटी में पशु विज्ञान की पढ़ाई करने वाले छात्र जे एस सिद्धार्थन की मौत हो गई थी। सिद्धार्थ को कॉलेज हॉस्टल के एक टॉयलेट में लटकता पाया गया था। इसके बाद सिद्धार्थन की पोस्टमॉर्टेम रिपोर्ट में कई खुलासे हुए थे। रिपोर्ट में बताया गया था कि मौत से पहले सिद्धार्थ को बुरी तरीके से मारा पीटा गया था। उसका पेट खाली था और शरीर पर घाव थे।

इसके बाद पुलिस ने इस मामले में अप्राकृतिक मौत का मामला दर्ज किया था। इस मामले में 12 छात्रों को कॉलेज से निलंबित भी कर दिया गया था। निलंबित किए जाने वालों में SFI के वामपंथी छात्र नेता भी हैं। सिद्धार्थ के पिता जयप्रकाश ने बताया था कि उनके बेटे को वामपंथी छात्रों ने काफी प्रताड़ित किया जिसके कारण यह मौत हुई।

उन्होंने बताया कि सिद्धार्थ ने 14 फरवरी (वैलेंटाइन डे) के दिन एक छात्रा के साथ डांस किया था। वामपंथी छात्र इससे खीझ गए थे। वह अगले दिन घर लौटने वाला था। लेकिन इन SFI नेताओं ने बेटे को हॉस्टल में बुलाकर प्रताड़ित करना चालू किया। तीन दिनों तक लगातार उसे प्रताड़ित किया गया। उसे खाना पीना नहीं दिया गया। उसे रॉड से पीटा गया। उसको नंगा करके हॉस्टल में घुमाया गया और बेइज्जत किया गया। इसके बाद सिद्धार्थ के आत्महत्या की खबर आई।

सिद्धार्थ के पिता ने आरोप लगाया था कि उसकी मौत की खबर से दो घंटे पहले उसने फ़ोन किया था। उसने आत्महत्या नहीं की बल्कि उसे मार कर लटकाया गया है। रिपोर्ट में बताया गया है कि इस मामले में सभी 18 आरोपितों को गिरफ्तार कर लिया था। इनमें से 12 को मुख्य आरोपित बनाया गया था। इन आरोपितों में वामपंथी छात्र सगठन SFI के छात्र नेता भी शामिल थे। इसमें मुख्य आरोपित सिंजो को भी गिरफ्तार कर लिया गया था जो कि सिद्धार्थन को प्रताड़ित करने का आरोपित है।

सिद्धार्थन का परिवार लगातार इस मामले में उच्च स्तरीय जाँच की माँग कर रहा था। उनका कहना था कि पुलिस सिद्धार्थन की मौत मामले में ढील बरत रही है क्योंकि आरोपित सत्ताधारी पार्टी के छात्र समूह से जुड़े हैं। इसी को लेकर वह लगातार सीबीआई जाँच की माँग कर रहे थे। उनके मुख्यमंत्री विजयन से मिलने के बाद यह बात स्पष्ट हुई है कि इस मामले की तह तक सीबीआई जाएगी।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

किसानों के आंदोलन से तंग आ गए स्थानीय लोग: शंभू बॉर्डर खुलवाने पहुँची भीड़, अब गीदड़-भभकी दे रहे प्रदर्शनकारी

किसान नेताओं ने अंबाला शहर अनाज मंडी में मीडिया बुलाई, जिसमें साफ शब्दों में कहा कि आंदोलन खराब नहीं होना चाहिए। आंदोलन खराब करने वाला खुद भुगतेगा।

‘PM मोदी ने किया जी अयोध्या धाम रेलवे स्टेशन का उद्घाटन, गिर गई उसकी दीवार’: News24 ने फेक न्यूज़ परोस कर डिलीट की ट्वीट,...

अयोध्या धाम रेलवे स्टेशन से जुड़े जिस दीवार के दिसंबर 2023 में बने होने का दावा किया जा रहा है, वो दावा पूरी तरह से गलत है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -